किडनी (गुर्दा) के कैंसर के कितने स्टेज होते हैं? जानें ये कैंसर कब और कैसे बनता है खतरनाक

मुख्‍य रूप से क‍िडनी कैंसर के चार स्‍टेज होते हैं, ज‍ितना जल्‍दी इस बीमारी का पता चल जाए उतना अच्‍छा इलाज संभव हो पाता है

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Oct 13, 2021
किडनी (गुर्दा) के कैंसर के कितने स्टेज होते हैं? जानें ये कैंसर कब और कैसे बनता है खतरनाक

क‍िडनी कैंसर के लक्षण क्‍या होते हैं? क‍िडनी कैंसर होने पर यूर‍िन करते समय खूना आना, पेट या साइड में गांठ होना, थकान, पैरों में सूजन, भूख न लगना, साइड में दर्द हो सकता है। इस लक्षणों का अहसास होने पर आप तुरंत डॉक्‍टर के पास जाएं क्‍योंक‍ि शुरूआती स्‍टेज में क‍िडनी कैंसर का पता चलने पर थैरेपी की मदद से कैंसर सैल्‍स को बढ़ने से रोका जा सकता है। मुख्‍य रूप से क‍िडनी कैंसर की चार स्‍टेज होती हैं। क‍िडनी कैंसर का इलाज सभी स्‍टेज में क‍िया जाता है पर कैंसर को फैलने से रोकने के ल‍िए शुरूआत में इसके लक्षण का पता लगाना जरूरी है। देरी करने में क‍िडनी कैंसर ल‍िम्‍फ नोड्स, लंग्‍स, हड्डीयां या द‍िमाग तक भी पहुंच सकता है। इस लेख में हम क‍िडनी कैंसर की चार स्‍टेज और इस कैंसर के खतरों पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ में डॉ राम मनोहर लोहिया इंस्‍ट‍िट्यूट ऑफ मेड‍िकल साइंसेज के अस‍िसटेंट प्रोफेसर और यूरोलॉज‍िस्‍ट डॉ संजीत कुमार सिंह से बात की।

kidney cancer stages

(image source:preventioncures.rtd)

क‍िडनी कैंसर के चार स्‍टेज होते हैं (Four stages of kidney cancer)

क‍िडनी कैंसर के इलाज के ल‍िए सर्जरी, कीमोथैरेपी का सहारा ल‍िया जाता है। अगर क‍िडनी कैंसर का पता एक साल के अंदर चल जाता है तो सर्जरी की जरूरत नहीं पड़ती। क‍िडनी कैंसर मुख्‍य तौर पर चार स्‍टेज में होता है, ज‍ितना जल्‍दी आप बीमारी का पता लगा लें, उतना जल्‍दी इलाज करवाकर आप बीमारी से बच सकते हैं- 

1. पहली स्‍टेज 

पहली स्‍टेज में कैंसर क‍िडनी तक ही होता है और इस स्‍टेज पर ट्यूमर का साइज करीब 2 इंच हो सकता है। इस स्‍टेज में कैंसर का पता लगने पर थैरेपी से इलाज क‍िया जाता है।

2. दूसरी स्‍टेज 

दूसरी स्‍टेज में कैंसर क‍िडनी तक ही सीमि‍त होता है और ये जांच करने पर ये केवल किडनी में ही नजर आता है। इस स्‍टेज पर ट्यूमर एक टेन‍िस बॉल ज‍ितना बड़ा हो सकता है।

3. तीसरी स्‍टेज 

इस स्‍टेज में ट्यूमर, क‍िडनी और उसके ऊपर की लेयर तक फैल जाता है, ये ल‍िम्‍फ नोड्स में मौजूद हो सकता है, इस स्‍टेज पर कुछ केस में सर्जरी और कुछ में दवाओं की मदद ली जाती है।

4. चौथा स्‍टेज 

इस स्‍टेज में ट्यूमर क‍िडनी और क‍िडनी के आसपास के ह‍िस्‍से में फल्‍ चुका होता है, ट्यूमर या कैंसर क‍िडनी के अलावा शरीर के बाक‍ि ह‍िस्‍से जैसे हड्डी, द‍िमाग, ल‍िवर, या फेफड़ों में भी फैल सकता है।

इसे भी पढ़ें- किडनी कैंसर से पहले शरीर में दिखते हैं ये 8 लक्षण, रहें सावधान

क‍िडनी कैंसर कब खतरनाक हो सकता है? (Risk factors of kidney cancer)

kidney cancer causes

(image source:cancerprevention)

इन स्‍थ‍ितियों में क‍िडनी का कैंसर आपके ल‍िए खतरनाक हो सकता है- 

  • क‍िडनी कैंसर का खतरा पुरूषों में ज्‍यादा होता है वो भी ऐसे पुरूष ज‍िनकी उम्र ज्‍यादा है, ज्‍यादा उम्र में क‍िडनी कैंसर का खतरा ज्‍यादा होता है।
  • अगर आप शराब,तंबाकू या गुटके का सेवन करते हैं तो क‍िडनी का कैंसर आपके ल‍िए हान‍िकारक हो सकता है और ये लक्षणों को बढ़ाने का काम करेगा। 
  • अगर आपको क‍िडनी कैंसर है और वजन ज्‍यादा है तो इलाज में द‍िक्‍कत हो सकती है, ज‍िन लोगों का वजन ज्‍यादा होता है उनकी इम्‍यून‍िटी और मेटाबॉलिज्‍म दोनों कमजोर होता है ज‍िसके कारण आपको परेशानी हो सकती है। 
  • अगर लंबे तक क‍िडनी कैंसर की जांच न हो तो कैंसर शरीर के अन्‍य अंगों में भी फैल सकता है इसल‍िए क‍िडनी कैंसर के लक्षण जानकर तुरंत इलाज शुरू करवाएं।
  • अगर आप लंबे समय से धूम्रपान कर रहे हैं तो क‍िडनी कैंसर होने पर इलाज में कई समस्‍याएं आ सकती हैं, धूम्रपान सेहत के ल‍िए हान‍िकारक होता है इसल‍िए उसका सेवन नहीं करना चाह‍िए।
  • अगर आप हाई बीपी के मरीज हैं तो आपको क‍िडनी कैंसर ज्‍यादा परेशान कर सकता है, आपको डॉक्‍टर से सलाह लेकर इलाज के दौरान बीपी कंट्रोल रखना चाह‍िए।

सर्जरी की मदद से क‍िडनी से ट्यूमर न‍िकाला जाता है (Surgery to treat kidney cancer)

क‍िडनी कैंसर होने पर डॉक्‍टर सर्जरी करवाने की सलाह देते हैं ज‍िसमें से एक है रैड‍िकल नेफ्रेक्‍टमी। इस सर्जरी में क‍िडनी को न‍िकाल द‍िया जाता है और क‍िडनी के आसपास मौजूद नोड्स को भी हटा द‍िया जाता है। वहीं दूसरी तरह की सर्जरी होती है कंजर्वेट‍िव नेफ्रेक्‍टमी, इसमें केवल ल‍िम्‍फ नोड्स और आसपास के कुछ ट‍िशूज को शरीर से बाहर न‍िकाल द‍िया जाता है। इसके अलावा डॉक्‍टर क‍िडनी कैंसर के इलाज में दवाएं भी देते हैं जो कैंसर सैल्‍स को कंट्रोल करती हैं और नई ब्‍लड वैसल्‍स को गांठ बनने से रोकती हैं।

क‍िडनी कैंसर की पुष्‍टी इन जांचों से होती है (Diagnosis of kidney cancer)

kidney cancer diagnosis

(image source:shopify)

क‍िडनी कैंसर का पता लगाने के ल‍िए ये जांचें की जाती हैं- 

  • क‍िडनी कैंसर का पता लगाने के ल‍िए डॉक्‍टर अल्‍ट्रासाउंड करवाने के ल‍िए कह सकते हैं ज‍िससे ट्यूमर का साइज पता चल सके।
  • क‍िडनी कैंसर का पता लगाने के ल‍िए की जाने वाली सबसे आम जांच है ब्‍लड टेस्‍ट ज‍िससे पता चलता है क‍ि क‍िडनी क‍ितने बेहतर ढंग से काम कर पा रही हैं। 
  • डॉक्‍टर यूर‍िन जांच भी करवा सते हैं ज‍िससे पता चलेगा क‍ि यूर‍िन में ब्‍लड या क‍िडनी कैंसर के लक्षण हैं या नहीं। 
  • इसके अलावा डॉक्‍टर आईवीपी जांच भी करवाते हैं ज‍िसमें ट्यूमर को एक्‍स-रे में देखा जाता है, इस जांच के ल‍िए डॉक्‍टर डाई को शरीर में डालते हैं।
  • क‍िडनी कैंसर का पता लगाने के ल‍िए एमआरआई और सीटी स्‍कैन जांच भी कर सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- किडनी में कैंसर आम और गंभीर बीमारी है, जानें किडनी के कैंसर से कैसे करें बचाव?

क‍िडनी कैंसर से बचने के ल‍िए हेल्‍दी आदतों को अपनाएं (Preventing kidney cancer)

kidney cancer prevention

(image source:google)

हमारे शरीर में क‍िडनी का एक जोड़ा होता है ज‍िसका काम होता है पोषक तत्‍वों के ल‍िए ब्‍लड को शुद्ध करना और यूर‍िन को शरीर के बाहर करना। जब क‍िडनी में कैंसर हो जाता है तो क‍िडनी के फंक्‍शन में असामान्‍य लक्षण नजर आते हैं, क‍िडनी के कैंसर से बचने के ल‍िए इन ट‍िप्‍स को फॉलो करें- 

  • क‍िडनी कैंसर से बचने के ल‍िए आपके सिगरेट, तंबाकू, एल्‍कोहॉल का सेवन नहीं करना चाह‍िए।
  • इसके अलावा आपको बीपी कंट्रोल करना चाह‍िए और मोटापे के लक्षणों को कंट्रोल करना चाह‍िए। 
  • आपको रोजाना व्‍यायाम करना चाह‍िए और फाइबर युक्‍त भोजन करना चाह‍िए।

बढ़ती उम्र के साथ क‍िडनी कैंसर का खतरा बढ़ने लगता है इसल‍िए शुरुआत से हेल्‍दी आदतों को अपनाएं ज‍िससे आगे चलकर आपको कैंसर जैसे गंभीर रोग का सामना न करना पड़े। 

(main image source:adweek.com,advancedurologyinstitute)

Read more on Cancer in Hindi 

Disclaimer