Kidney Beans: स्वास्थ्य के लिए क्यों जरूरी है राजमा? एक्सपर्ट से जानें इसके 12 फायदे और नुुकसान

अगर राजमा को अपने आहार में शामिल किया जाए तो ये सेहत को अनेक समस्याओं से दूर रखता है। वहीं इसकी अधिकता से शरीर को नुकसान भी हो सकते हैं।

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Feb 12, 2021Updated at: Feb 12, 2021
Kidney Beans: स्वास्थ्य के लिए क्यों जरूरी है राजमा? एक्सपर्ट से जानें इसके 12 फायदे और नुुकसान

हर घर में खाए जाने वाला राजमा (kidney Beans) हल्के भूरे रंग का होता है। बींस की इस किस्म में कैल्शियम, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फोलिक एसिड आदि पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। ऐसे में राजमा को अपनी डाइट में शामिल करना एक अच्छा  विकल्प हो सकता है। इसके सेवन से अनेक समस्याओं से बचा जा सकता है। वहीं इसकी अधिकता शरीर में कुछ परेशानियों को पैदा कर सकती है। ऐसे में राजमा के फायदे और नुकसान के बारे में पता होना जरूरी है। आज का लेख इन्हीं बिन्दुओं पर प्रकाश डालेगा। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि राजमा स्वास्थ्य के लिए कितना लाभदायक (Rajma Benefits) है और इसके सेवन से शरीर को किन नुकसानों (Rajma Side Effects) का सामना करना पड़ सकता है। इसके लिए हमने 'शीला सहरावत, डाइटीशियन, हेड डायटीशियन डाइट क्लीनिक, दिल्ली' से भी इनपुट्स मांगे हैं। पढ़ते हैं आगे...

राजमा के फायदे (Benefits of Rajma)

बता दें कि राजमा के सेवन से सेहत को अनेकों फायदे हो सकते हैं जानते हैं इन फायदों के बारे में...

1 - प्रोटीन का अच्छा स्रोत है राजमा (Rajma Good Source of Protein)

बता दें कि राजमा में के अंदर भरपूर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है, जिसके सेवन से शरीर में प्रोटीन का स्तर सामान्य रहता है। राजमा इस काम को शरीर में अतिरिक्त कैलोरी न बढ़ाए करता है। जो लोग मीट का सेवन नहीं करते हैं वे शाकाहारी लोग राजमा के माध्यम से प्रोटीन की कमी को पूरा कर सकते हैं।

2 - उच्च रक्तचाप को कम करे राजमा (kidney Beans for high blood pressure)

ध्यान दें कि राजमा के अंदर उच्च रक्तचाप को कम करने के गुण पाए जाते हैं। इसके अंदर घुलनशील फाइबर, पोटेशियम, मैग्नीशियम आदि भरपूर मात्रा में मौजूद हैं जो रक्तचाप को  सामान्य बनाए रखने में मदद करते हैं। बता दें कि पोटैशियम, मैग्निशियम धमनियों और वाहिकाओं को फैलाने का काम करते हैं। वहीं इनके माध्यम से रक्त प्रभाव भी सही होता है। यह सिरदर्द और माइग्रेन की समस्या को दूर करने में भी उपयोगी है।

3 - वजन को कम करें राजमा (kidney beans for weight loss)

बता दें कि फाइबर अगर आहार में शामिल किया जाए तो लोगों को लंबे समय तक भूख नहीं लगती। वहीं राजमा के अंदर फाइबर के साथ-साथ कम वसा वाले तत्व भी मौजूद है। ऐसे में ये वजन कम करने में बेहद असरकारी है। चूंकि इसके सेवन से भूख कम लगती है तो लोग अधिक खाने से भी बचते हैं।

4 - बढ़ती उम्र को रोके राजमा (kidney beans for Skin) 

बता दें कि राजमा के अंदर पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण मुक्त कणों से छुटकारा दिलाने में बेहद मददगार हैं। वहीं यह झुर्रियों को कम करने के साथ-साथ मुहांसों को ठीक करता है। इसके सेवन से नाखून और बालों की सेहत भी अच्छी रहती है। इनके सेवन से कोशिकाओं की उम्र स्थिर हो जाती है और इनके बढ़ने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है।

इसे भी पढ़ें- ब्लड शुगर घटाने और स्वस्थ रहने के लिए वीगन नहीं अपनाएं पीगन डाइट, एक्सपर्ट से जानें इसके फायदे और नुकसान

5 - पेट को तंदुरुस्त रखे राजमा (kidney beans for Stomach)

बता दें कि राजमा पाचन तंत्र को तंदुरुस्त बनाए रखने में बेहद असरदार है। दूसरी तरफ यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने और कोलन कैंसर के खतरे को कम करने के लिए भी प्रसिद्ध उपचार माना जाता है। ऐसे में पेट दर्द से परेशान लोग सीमित मात्रा में इसका सेवन कर सकते हैं।

6- कब्ज में लाभकारी है राजमा (kidney beans for Constipation)

बता दें कि राजमा के अंदर घुलनशील फाइबर पाए जाते हैं जो मल को बाहर निकालने में मदद करते हैं। वही आंतों के कार्यों को सुचारु रुप से सहायता देने में भी राजमा अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। जिन लोगों को कब्ज की परेशानी रहती है वे अपने आहार में राजमा को शामिल कर सकते हैं। और समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

7- दिल की रक्षा करे राजमा (kidney beans for good heart)

राजमा के अंदर मैग्निशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। वही यह कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने का काम भी करता है। दिल से जुड़ी बीमारियां जैसे- दिल का दौरा, धमनियों की जमावट, शरीर को स्ट्रोक आदि से लड़ने में राजमा बेहद मदद करता है। साथ ही दिल को मजबूती देता है।

इसे भी पढ़ें- कैसे दूर करें करेले का कड़वापन? एक्सपर्ट से जानें करेले की 5 हेल्दी और स्वादिष्ट रेसिपीज

8- कोलेस्ट्रॉल को कम करें राजमा (kidney beans for Cholesterol)

बता दी कि राजमा में जटिल कार्बोहाइड्रेट और फाइबर की बड़ी मात्रा होने के चलते रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर कम होता है घुलनशील फाइबर कोलेस्ट्रोल को चारों ओर एक रक्षा कवच की तरह फैलने से रोकती है।

राजमा के अन्य फायदे (Other Benefits of Kidney Beans)

9 - बता दें कि राजमा के अंदर मैग्नीशियम, कैल्शियम पाया जाता है जो हड्डियों को मजबूती देता है। साथ ही ये ओस्टियोपोरोसिस जैसी समस्याओं को रोकने में मदद करता है।

10 - राजमा में मौजूद मैग्निशियम फेफड़ों में बाहर और अंदर स्मूथ वायु मार्ग को स्वस्थ रखने के साथ अस्थमा को भी रोकता है। बता दें कम मैग्निशियम से शरीर में अस्थमा की बीमारी हो सकती है।

11 - राजमा के अंदर विटामिन बी1 पाया जाता है जो न केवन ऊतकों का विकास करता है बल्कि त्वचा और बालों की सेहत का भी ध्यान रखता है। जिन लोगों को बाल झड़ने की समस्या है वह राजमा का सेवन करके अपनी समस्या को दूर कर सकते हैं।

12 - राजमा के अंदर विटामिन b1 पाया जाता है, जो मस्तिष्क के कार्यों में सुधार लाता है। साथ ही ये एकाग्रता और स्मरण शक्ति को भी बढ़ाता है।

राजमा के नुकसान (Side Effects of Kidney Beans)

जैसे कि हम जानते हैं कि किसी भी चीज की अति सेहत को नुकसान पहुंचा सकती है ऐसा ही कुछ राजमा के साथ भी है। यदि आप राजमा का सेवन अधिक मात्रा में करते हैं तो सेहतो को अनेक नुकसानों का सामना करना पड़ सकता है-

1 - यह शरीर में फाइबर की मात्रा को बढ़ा देता है, जिससे पाचन तंत्र में गड़बड़ी आ जाती है।

2 - राजमा के अधिक सेवन से पेट दर्द, आंखों में दर्द, पेट में गैस आदि की समस्या पैदा हो सकती है।

3 - राजमा के सेवन से आयरन की मात्रा शरीर में बढ़ने लगती है ऐसे में शरीर के अंग खराब हो सकते हैं।

नोट- ऊपर दिए गए फायदों से पता चलता है कि राजमा का सेवन सेहत को अनेक समस्याओं से बचा सकता है। वहीं नुकसानों से ये समझ आता है कि इसकी अधिकता सेहत के लिए सही नहीं है। ऐसे में इसका सेवन सीमित मात्रा में करना सही है। वहीं गर्भावस्था में इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर करें। साथ ही अगर आप कोई स्पेशल डाइट फोलो कर रहे हैं तो अपनी डाइट में बदलाव से पहले एक बार एक्सपर्ट से संपर्क करें। जिन लोगों को पेट की समस्या रहती है वे इसके सेवन से पहले भी डॉक्टर की सलाह जरूर लें। इसका सेवन कभी-कभी किया जाए तो सही है लेकिन नियमित रूप से इसका सेवन करने से बचें। हर शरीर की तासीर अलग होती है ऐसे में डॉक्टर से संपर्क करके खुद के लिए राजमा की मात्रा की जानकारी लें, फिर उसी मात्रा के अनुसार राजमा का सेवन करें।

ये लेख शीला सहरावत, डाइटीशियन, हेड डायटीशियन डाइट क्लीनिक, दिल्ली द्वारा दिए गए इनपुट्स पर बनाया गया है।

Read More Articles on Healthy diet in hindi

Disclaimer