कागासन के अभ्यास से शरीर रहता है चुस्त और दूर रहती हैं पेट की बीमारियां, जानें करने का तरीका

कागासन योग का रोजाना अभ्यास करने से पेट से जुड़ी कई समस्याओं में फायदा मिलता है और शरीर लचीला रहता है, जानें करने का तरीका।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: May 30, 2022Updated at: May 30, 2022
कागासन के अभ्यास से शरीर रहता है चुस्त और दूर रहती हैं पेट की बीमारियां, जानें करने का तरीका

योग का नियमित अभ्यास करने से आप न सिर्फ शारीरिक रूप से फिट रहते हैं बल्कि मानसिक स्वास्थ्य भी बेहतर होता है। योग के फायदों को देखते हुए दुनियाभर में 21 जून को विश्व योग दिवस भी मनाया जाता है। शरीर को स्वस्थ रखने के लिए पाचन तंत्र और पेट को स्वस्थ रखना बहुत जरूरी होता है। अगर आप भी पाचन तंत्र को हेल्दी रखना चाहते हैं और पेट से जुड़ी समस्याओं को दूर करना चाहते हैं तो आपके लिए कागासन का अभ्यास (Crow Pose Benefits) बहुत फायदेमंद हो सकता है। शरीर को लचीला और फिट रखने के साथ-साथ पेट पर मौजूद एक्स्ट्रा चर्बी को हटाने और पाचन तंत्र को मजबूती देने के लिए कागासन का अभ्यास किया जाता है। कागासन के अभ्यास के दौरान आपके शरीर की आकृति कौए जैसी होती है इसीलिए इसे कागासन या क्रो पोज के नाम से भी जाना जाता है। आइए जानते हैं कागासन का अभ्यास करने के फायदे और तरीका।

कागासन का अभ्यास करने के फायदे (Crow Pose Benefits in Hindi)

शरीर को चुस्त-दुरुस्त और फुर्तीला बनाये रखने के लिए रोजाना सही ढंग से कागासन का अभ्यास बहुत फायदेमंद होता है। इसका नियमित अभ्यास करने से आपके शरीर में मौजूद पेट से जुड़ी समस्याओं में भी फायदा मिलता है। योग विज्ञान के मुताबिक पेट से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए कागासन का अभ्यास रामबाण है। पेट और किडनी से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के अलावा कागासन के नियमित अभ्यास से आपके शरीर की फुर्ती बनी रहती है। कागासन का अभ्यास करने से पेट में कब्ज की समस्या और गैस की समस्या में बहुत फायदा मिलता है। कागासन का नियमित अभ्यास करने से मिलने वाले फायदे इस प्रकार से हैं। 

Kagasana or Crow Pose Benefits

इसे भी पढ़ें : मांसपेशियों को मजबूत और लचीला बनाने के लिए करें पाशासन, जानें करने का सही तरीका

  • पेट पर मौजूद एक्स्ट्रा चर्बी या बढ़ी हुई चर्बी को कम करने में बहुत उपयोगी।
  • शरीर को लचीला और फुर्तीला बनाने के लिए फायदेमंद।
  • कागासन के नियमित अभ्यास से पेट के अंदरूनी अंग एक्टिव होते हैं और बेहतर तरीके से काम करते हैं।
  • कागासन का अभ्यास करने से कब्ज की समस्या, गैस और एसिडिटी में बहुत फायदा मिलता है।
  • इस योगासन का नियमित अभ्यास करने से पाचन तंत्र मजबूत होता है और अपच की समस्या दूर होती है।
  • शरीर को लचीला बनाने के लिए कागासन का अभ्यास बहुत फायदेमंद होता है।

कागासन का अभ्यास करने का तरीका (Steps Do To Crow Pose in Hindi)

कागासन एक मध्यम श्रेणी का योगासन है जिसका नियमित अभ्यास करने से शरीर को बहुत फायदे मिलते हैं। कागासन का अभ्यास बहुत ही सरल माना जाता है। इसका नियमित रूप से आप अभ्यास भी कर सकते हैं। कागासन का अभ्यास करने के लिए आप इन स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सबसे पहले किसी साफ और हवादार जगह पर योगा मैट बिछाकर सावधान की मुद्रा में खड़े हो जाएं।
  • इसके बाद पैर के पंजों के पास अपने हाथ के पंजों को शरीर से चिपकाकर रखें।
  • इस स्थिति में बैठ जाएं और पंजों को आगे की तरफ रखें। 
  • इसके बाद अपने हाथों से घुटनों को पकड़ें।
  • इस दौरान दोनों कोहनियां जांघों, सीने और पेट के बीच में घुटनों को रखने की कोशिश करें।
  • गर्दन, कमर और रीढ़ की हड्डी को एकदम सीधा रखें।
  • कुछ देर इसी स्थिति में रहें और फिर सामान्य मुद्रा में वापस आएं।

कागासन का अभ्यास करने से आपको पेट से जुड़ी सभी समस्याओं में फायदा मिलता है और शरीर फुर्तीला और चुस्त रहता है। लेकिन ऐसे लोग जिन्हें घुटनों से जुड़ी समस्या है उन्हें इस योगासन का अभ्यास करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए। इसके अलावा गर्भवती महिला और जिन लोगों की किसी तरह की सर्जरी हुई है उन्हें इस योगासन का अभ्यास नहीं करना चाहिए।

(All Image Source - Freepik.com)

 
Disclaimer