गर्भधारण करने के लिए कितना वजन होना चाहिए?

महिलाओं का कम या अधिक वजन गर्भधारण की दिक्कतों को बढ़ा सकता है।

सम्‍पादकीय विभाग
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Jul 14, 2022Updated at: Jul 14, 2022
गर्भधारण करने के लिए कितना वजन होना चाहिए?

मां बनना हर महिला के जीवन का सबसे खूबसूरत अहसास होता है। लेकिन कुछ महिलाएं तमाम कोशिशों के बाद भी आसानी से गर्भधारण नहीं कर पाती हैं। गर्भधारण न करने के पीछे कई कारण जिम्मेदार हो सकते हैं, इनमें से एक महिलाओं का अंडर या ओवर वेट होना माना जाता है। जिन महिलाओं का वजन बहुत कम या बहुत अधिक होता है, उन्हें अकसर कंसीव करने में दिक्कतें आती हैं। इसलिए अगर आप कंसीव यानी गर्भधारण की प्लानिंग कर रहे हैं, तो आपका आइडल वेट होना बहुत जरूरी होता है।

कंसीव करने के लिए सही वजन 

गर्भधारण करने के लिए महिलाओं का वजन कंट्रोल में होना बहुत जरूरी होता है। महिलाओं का कम या अधिक वजन गर्भधारण की दिक्कतों को बढ़ा सकता है। गर्भधारण करने के लिए महिलाओं का एक आइडल बॉडी मास इंडेक्स होना जरूरी होता है। 19 से 25 के बीच बीएमआई होने पर आपको कंसीव करने में आसानी हो सकती है। इसके साथ ही कंसीव करने के लिए 22 से 34 वर्ष की उम्र होना बेहतर मानी जाती है।

ओवरवेट होने के नुकसान 

मोटापा कई समस्याओं को जन्म देता है। अगर आपका वजन अधिक है, तो आपको कंसीव करने में दिक्कत आ सकती है।

ओवरवेट महिलाओं में हार्मोन असंतुलित हो सकते हैं। इसकी वजह से अनियमित पीरियड्स हो सकते हैं और ओवुलेशन में दिक्कत आ सकती है। 

गर्भधारण करने  पहले अगर महिला का वजन अधिक होता है, तो इसकी वजह से उन्हें प्रेगनेंसी के दौरान  हाई ब्लड प्रेशर, टाइप 2 डायबीटिज   होने का जोखिम बढ़ जाता है। 

ओवरवेट होने के कारण महिला की नॉर्मल डिलीवरी होने की संभावना काफी कम हो जाती है। 

अंडरवेट के नुकसान

अगर आप अंडरवेट हैं, तो भी आपको गर्भधारण करने में दिक्कत आ सकती है। अगर अंडरवेट में आप कंसीव भी कर लेती हैं, तो आपको प्रेगनेंसी के दौरान दिक्कत आ सकती है। इसकी वजह से बच्चा भी अंडरवेट हो सकता है। बच्चे का समय से पूर्व जन्म हो सकता है।

इसे भी पढ़ें- ओवुलेशन के बाद प्रेग्नेंसी के लक्षण: जानें शरीर में कौन से बदलाव देते हैं प्रेग्नेंट होने का संकेत

Pregnancy Women Weight

इन बातों का रखें ध्यान

  • अगर आप अंडरवेट हैं, तो अपनी डाइट में हाई कैलोरी फूड्स शामिल करें। आप अंकुरित अनाज, बींस और ड्राई फ्रूट्स खा सकते हैं। 
  • प्रोटीन रिच डाइट भी आपका वजन बढ़ाने में मदद कर सकती है। इसके लिए आप मूंगफली, दाल, पनीर, सोयाबींस, ब्रोकली और चिया सीड्स खा सकते हैं।
  • अगर आप ओवरवेट हैं, तो अपनी डाइट का खास ध्यान रखें।
  • इस दौरान जंक फूड, फास्ट फूड आदि खाने से बचें।
  • रेगुलर वॉक करें। आप हल्की एक्सरसाइज भी कर सकते हैं। संतुलित मात्रा में कार्बोहाइड्रेट्स और प्रोटीन को अपनी डाइट में शामिल करें। बैलेंस डाइट लेने से वजन को कम किया जा सकता है।  

         महिला का वजन बच्चे के स्वास्थ्य के लिए काफी जरूरी होता है, इसलिए गर्भाधारण से पहले वजन कितना होना चाहिए। इस बारे में अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें। 

        All Image Credit- Freepik

Disclaimer