गर्भाशय (बच्चेदानी) को स्वस्थ रखने के लिए महिलाएं अपनाएं ये 6 तरीके, बढ़ेगी फर्टिलिटी

महिलाएं घर पर रहकर अपने दिनचर्या में थोड़ा-सा बदलाव करके गर्भाशय यानी बच्चेदानी को स्वस्थ रख सकती हैं। जानते हैं क्या हैं इसके आसान से तरीके...

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Oct 11, 2021
गर्भाशय (बच्चेदानी) को स्वस्थ रखने के लिए महिलाएं अपनाएं ये 6 तरीके, बढ़ेगी फर्टिलिटी

यूट्रस यानी गर्भाशय, आम भाषा में इसे बच्चेदानी कहते हैं। ये महिलाओं के शरीर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सों में से एख है। आप सोच रहे होंगे कि गर्भाशय का मतलब गर्भधारण से है। जी हां, बिल्कुल सही सोच रहे हैं आप। लेकिन इसका संबंध कई और अंगों के साथ भी है। बता दें कि यूट्रस जननांगों में ब्लड फ्लो को प्रेरित कर सकता है। ऐसे में यूट्रस का ख्याल रखना हमारी ही जिम्मेदारी है। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि किस प्रकार से हम यूट्रस को हेल्दी रख सकते हैं। इसके लिए हमने न्यूट्रिशनिस्ट और वैलनेस एक्सपर्ट वरुण कत्याल ( Nutritionist and wellness expert varun katyal) से भी बात की है। पढ़ते हैं आगे...

 

1 - डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन करने से

अपनी डाइट में ऐसी चीजों को जोड़ें, जिनमें कैल्शियम और विटामिन दोनों मौजूद हो। उदाहरण के तौर पर आप अपनी डाइट में डेयरी प्रोडक्ट्स को जोड़ सकते हैं जैसे- दही, पनीर, दूध आदि न केवल गर्भाशय के लिए अच्छे हैं बल्कि इससे ओवरी भी स्वस्थ रह सकती है। बता दें कि कैल्शियम के सेवन से हड्डियां मजबूत रहती हैं और विटामिन डी के सेवन से फाइब्रॉयड्स को गर्भाशय से दूर रखा जा सकता है।

इसे भी पढ़ें- प्रेगनेंसी में हीमोग्लोबिन कम होना हो सकता है शिशु के लिए खतरनाक, जानें इसका महत्व और बढ़ाने के उपाय

2 - रोज करें एक्सरसाइज

महिलाओं का नियमित रूप से एक्सरसाइज करना भी बेहद जरूरी है। आप अपनी क्षमता के अनुसार व्यायाम को निर्धारित करें और नियमित रूप से व्यायाम को अपनी दिनचर्या में जोड़ें। ऐसा करने से न केवल शरीर में रक्त का फ्लो सही रहेगा बल्कि गर्भाशय भी स्वस्थ बनाने के लिए ये एक अच्छा विकल्प है। इसके अलावा आप अपनी दिनचर्या में वॉक को भी जोड़ सकते हैं। महिलाओं का 30 मिनट के लिए नियमित रूप से टहलना ओवरी और यूट्रस दोनों के लिए अच्छा हैं।

3 - धूम्रपान से नहीं दूर

अगर आप यूट्रस को स्वस्थ रखना चाहते हैं तो अपनी दिनचर्या से धूम्रपान को निकाल दें। क्योंकि इसके उपयोग से गर्भाशय को काफी नुकसान हो सकता है। सिगरेट का जो महिलाएं सेवन करती हैं उनके शरीर में एस्ट्रोजन का स्तर कम होने लगता है साथ ही बच्चा पैदा करने में भी दिक्कत आ सकती है। ऐसे में धूम्रपान को करने से बचें।

4 - नींबू का उपयोग

नींबू के अंदर भरपूर मात्रा में विटामिन सी मौजूद होता है जो न केवल शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने में मददगार है बल्कि महिलाओं के गर्भाशय और ओवरी से बैक्टीरिया को दूर भी कर सकता है। यह बैक्टीरिया यूट्रस में इंफेक्शन की समस्या पैदा कर सकते हैं। ऐसे में नींबू के सेवन से खतरनाक इन्फेक्शन को दूर रखा जा सकता है।

इसे भी पढ़े - कई तरह के होते हैं ओवेरियन सिस्ट (अंडाशय की रसौली), डॉक्टर से जानें इसके लक्षण, कारण और जांच

5 - नट्स का करें सेवन

जब भी नट्स की बात आती है तो सबसे पहले ख्याल काजू, बादाम, किशमिश और अखरोट का आता है। लेकिन बता दें कि इनके साथ-साथ अलसी के बीज भी यूट्रस की अच्छी सेहत के लिए बेहद उपयोगी हैं। अलसी के बीज, काजू और बादाम के अंदर भरपूर मात्रा में ओमेगा 3 फैटी एसिड मौजूद होता है। साथ ही इसमें गुड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा भी अच्छी होती है। आप इनके सेवन से गर्भाशय में होने वाले कैंसर से बचाव कर सकते हैं और गर्भाशय को स्वस्थ बना सकते हैं।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि महिलाएं गर्भाशय की सेहत को अच्छा बनाने के लिए अपनी दिनचर्या में थोड़ा सा बदलाव कर सकती हैं। लेकिन अगर आपको पहले से यूट्रस आ ओवरी से संबंधित कोई समस्या है तो लेख में बताई गई चीजों को अपनी दिनचर्या में जोड़ने से पहले एक बार एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें। हेल्दी लाइफ़स्टाइल गर्भाशय को भी हेल्दी बना सकता है।

इस लेख में फोटोज़ Freepik से ली गई हैं।

Disclaimer