कई तरह के होते हैं ओवेरियन सिस्ट (अंडाशय की रसौली), डॉक्टर से जानें इसके लक्षण, कारण और जांच

अंडाशय या बच्चेदानी में होने वाली गांठों को ओवरियन सिस्ट कहते हैं। ये कई प्रकार की हो सकती हैं, जिनके लक्षणों को पहचानकर इलाज कराना जरूरी है।

Monika Agarwal
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: Monika AgarwalPublished at: Oct 10, 2021
कई तरह के होते हैं ओवेरियन सिस्ट (अंडाशय की रसौली), डॉक्टर से जानें इसके लक्षण, कारण और जांच

यह तो हम सभी जानते हैं कि अंडाशय या ओवरी (Ovaries) महिलाओं के प्रजनन तंत्र (Reproductive system) का हिस्सा होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ओवेरियन सिस्ट क्या होता है? दरअसल ओवरियन सिस्ट एक तरह के तरल पदार्थ भरे छोटे-छोटे छाले या गांठें होती हैं, जो ओवरीज के अंदर बनने शुरू हो जाते हैं। मदरहुड हॉस्पिटल में सीनियर आब्सट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट डॉ मनीषा रंजन बताती हैं कि अंडाशय की ये गांठें ही ओवेरियन सिस्ट (Ovarian Cyst) कहलाती हैं। अधिकतर मामलों में जब तक यह गांठ (Cyst) बड़ी न हो जाए तब तक इस गांठ (Cyst) के न तो कोई लक्षण देखने को मिलते हैं और न ही इसमें दर्द जैसी कोई तकलीफ होती है। यह ओवेरियन सिस्ट कुछ दिनों से लेकर कुछ महीनों तक बनी रहती हैं। फिर अपने आप ही बढ़ने लगती हैं। महिलाओं में मुख्यतया यह तीन तरह की होती है।

ओवेरियन सिस्ट के प्रकार

फॉलिकल सिस्ट (Follicle Cyst)

महिला को मासिक धर्म साइकिल (Menstrual Cycle) के दौरान थैली (Sac) में एक अंडा बनने लगता है, जिसे फॉलिकल कहा जाता है। हर महीने यह थैली फट जाती है और अंडा बाहर निकल (एग रिलीज) जाता है। लेकिन अगर यह नहीं  फटती है तो ओवरी के अंदर ही एक सिस्ट बन जाता है।

कॉर्पस ल्यूटियम सिस्ट (Corpus Luteum Cysts)

फॉलिकल सैक एग के रिलीज होने के बाद अपने आप गायब हो जाता है। लेकिन अगर सैक अपने आप गायब नहीं होता है तो उसके अंदर एक और फ्लूइड उत्पन्न होना शुरू हो जाता है और इसे कॉर्पस ल्यूटियम का नाम दे दिया जाता है।

इसे भी पढ़ें - जानें क्या होते है ओवेरियन सिस्ट और किसे होता है इसका ज्यादा खतरा?

पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS)

महिलाओं में होने वाली पीसीओएस एक आम स्वास्थ्य समस्या है। यदि समय पर इस समस्या का उपचार नहीं होता तो अन्य समस्याएं जैसे कि हाई ब्लड प्रेशर, हार्ट प्रॉब्लम या कोलेस्ट्रॉल अथवा तनाव या एंजायटी होने लगती हैं। यही नहीं ओवरी के अंदर बहुत से सिस्ट भी बनने लगते हैं जो आगे चलकर बांझपन का कारण बनते हैं।

ओवेरियन सिस्ट के लक्षण (Symptoms Of Ovarian Cyst)

  • पेट का फूल जाना या पेट पर सूजन महसूस होना
  • बाउल मूवमेंट के समय दर्द होना
  • पीरियड्स के दौरान या उनके बाद पेल्विक पेन महसूस होना
  • सेक्शुअल कॉन्टैक्ट के दौरान बहुत अधिक दर्द होना
  • जांघों या पैरों में दर्द होना
  • छाती में अकड़न महसूस होना
  • उल्टियां आना या जी घबराना
  • कुछ गंभीर लक्षण जिनके तुरंत बाद आपको डॉक्टर के पास जाना चाहिए।
  • बहुत अधिक पेल्विक पेन होना
  • बुखार होना
  • चक्कर आना या बेहोश हो जाना
  • बहुत तेज तेज सांस लेना

ओवेरियन सिस्ट की पहचान किस प्रकार हो सकती है (How To Diagnose Ovarian Cyst)

सीटी स्कैन : इसमें एक बॉडी इमेजिंग यंत्र का प्रयोग किया जाता है जिससे आपके शरीर के आंतरिक ऑर्गन की क्रॉस सेक्शनल तस्वीरें बाहर निकल कर आती हैं।

एमआरआई : यह एक ऐसा टेस्ट होता है जिसमें मैग्नेटिक फील्ड का प्रयोग किया जाता है। ताकि शरीर के आंतरिक ऑर्गन की गहराई से तस्वीर देखने को मिल सके।

अल्ट्रासाउंड : यह भी एक इमेजिंग यंत्र होता है। जिसके माध्यम से ओवरी की तस्वीरें देखी जा सकती है।

आपके डॉक्टर आपकी बीमारी को पता करने के लिए कुछ अतिरिक्त टेस्ट जैसे प्रेग्नेंसी टेस्ट, हार्मोन लेवल टेस्ट, ओवेरियन कैंसर को देखने वाले टेस्ट भी कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें - Women's Day 2021: 21वीं सदी की महिलाओं को होने वाली 5 आम बीमारियां, जिनसे प्रभावित हो रहा है उनका स्वास्थ्य

ओवेरियन सिस्ट के उपचार (Treatment for Ovarian Cyst)

गर्भ निरोधक दवाइयां : अगर आप को बार बार ओवेरियन सिस्ट देखने को मिल रहे हैं तो आपके डॉक्टर आपको गर्भ निरोधक दवाइयां लेने को बोल सकते हैं। ताकि ओवुलेशन बंद हो सके और इसके साथ ही नए सिस्ट भी बनने से बंद हो जायें। ओरल दवाइयां ओवेरियन कैंसर का रिस्क भी बहुत कम कर सकती हैं।

लेपरोस्कोपी : अगर आपका सिस्ट बहुत छोटा है और इसमें कैंसर जैसे लक्षण देखने को मिल रहे हैं तो आप के डॉक्टर इस तरीके का प्रयोग करके सिस्ट को बाहर निकाल सकते है। इस प्रक्रिया में आपके डॉक्टर आपकी नाभी के पास एक छोटा सा छेद करेंगे और एक टूल अंदर डाल कर सिस्ट को बाहर निकाल लेंगे।

लैपरोटोमी : अगर आपके सिस्ट का साइज बड़ा होता है तो आपके डॉक्टर बड़ा छेद करके सर्जरी के माध्यम से आपके शरीर से सिस्ट निकाल लेंगे।

आप को अपने शरीर में सिस्ट के लक्षणों का ध्यान रखना चाहिए और जैसे ही कोई भी लक्षण महसूस करने को मिलता है तो आपको तुरंत डॉक्टर के पास चेक करवाना चाहिए।

Inside : Freepik

Disclaimer