वजाइना (योनि) के पीएच लेवल काे सही रखने के लिए अपनाएं ये 7 घरेलू उपाय, जानें क्यों जरूरी सही pH लेवल

वजाइना काे सुरक्षित रखने के लिए इसका पीएच लेवल बैलेंस में हाेना बेहद जरूरी हाेता है। आप इसके लिए कुछ घरेलू उपाय आजमा सकती हैं। जानें इनके बारे में-

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Sep 22, 2021
वजाइना (योनि) के पीएच लेवल काे सही रखने के लिए अपनाएं ये 7 घरेलू उपाय, जानें क्यों जरूरी सही pH लेवल

वजाइना के पीएच लेवल काे कैसे संतुलित किया जा सकता है (How to Balance Vaginal PH Level)? वजाइना का पीएच लेवल बिगड़ने पर महिलाओं काे कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। अगर याेनि यानी वजाइना का पीएच लेवल बिगड़ता है, ताे इस स्थिति में वजाइना में सूखापन हाेने लगता है। साथ ही इसमें बदबू, खुजली और असहजता महसूस हाेने लगती है। वजाइना का पीएच लेवल 3.5 से लेकर 4.5 तक हाेना बेहद जरूरी हाेता है। इससे कम या अधिक हाेने पर आप असहज महसूस कर सकती हैं। 

कई बार साबुन और पानी की वजह से भी पीएच लेवल गड़बड़ा जाता है। वजाइना काे सुरक्षित रखने के लिए इसके पीएच लेवल काे बैलेंस में रखना बहुत जरूरी हाेता है। इसके लिए आप चाहें ताे कुछ घरेलू उपायाें काे भी आजमा सकती हैं। 

tea tree oil

(Image Source : isabellasclearly.com)

1. टी ट्री ऑयल (Tea Tree Oil)

वजाइना के पीएच लेवल काे संतुलन में रखने के लिए आप टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल कर सकती हैं। टी ट्री ऑयल वजाइना के लिए एक बेहतरीन घरेलू उपाय है। इसमें एंटी फंगल और एंटी बैक्टीरियल गुण हाेते हैं, जाे वजाइना के इंफेक्शन काे कम करता है और पीएच लेवल काे बैलेंस में रखता है। इसके साथ ही इसके इस्तेमाल से वजाइनल इचिंग से भी छुटकारा मिलता है। टी ट्री ऑयल याेनि संक्रमण से बचाता है। 

इसे भी पढ़ें - वजाइना (योनि) में गीलापन महसूस होने के हो सकते हैं कई कारण, डॉक्टर से समझें पूरी बात

2. खुद काे हाइड्रेट रखें (Hydrate)

खुद काे हाइड्रेट रखकर आप कई तरह की बीमारियाें से खुद काे बचा सकती हैं। याेनि के पीएच लेवल काे संतुलन में रखने के लिए भी हाइड्रेट रहना जरूरी हाेता है। इसके लिए आपकाे अपनी डाइट में तरल पदार्थाें काे शामिल करना चाहिए। दिनभर में 8-10 गिलास पानी आपकाे जरूर पीना चाहिए। इस तरह से आप अपनी याेनि या वजाइना के पीएच स्तर काे संतुलित कर सकती हैं।

3. डाइट में प्राेबायाेटिक शामिल करें (Include Prebiotics in Diet)

एक स्वस्थ व्यक्ति के लिए प्राेबायाेटिक का सेवन करना बेहद जरूरी हाेता है। याेनि काे सुरक्षित रखने के लिए भी यह जरूरी हाेता है। प्राेबायाेटिक्स में अच्छे बैक्टीरिया हाेते हैं, जाे याेनि के पीएच लेवल काे संतुलित बनाए रखने में मदद करता है। साथ ही यह संक्रमण से लड़ने में भी मदद करते हैं। दही में काफी अच्छी मात्रा में प्राेबायाेटिक हाेता है, आप इसका सेवन कर सकती हैं। प्राेबायाेटिक पाचन तंत्र काे स्वस्थ रखने में मदद करता है।

4. एक्सरसाइज करें (Do Exercise)

याेनि के पीएच स्तर काे संतुलन में रखने के लिए एक्सरसाइज करना भी बेहद जरूरी हाेता है। एक्सरसाइज तनाव कम करता है और आपकाे स्वस्थ रखने में मदद करता है। आप एक्सरसाइज, याेगा और प्रणायाम से याेनि के पीएच स्तर काे बैलेंस कर सकती हैं।

(Image Source : hunimed.eu)

5. धूम्रपान छाेड़ें (Avoid Smoking)

धूम्रपान काे छाेड़ने से आप याेनि के पीएच बैलेंस काे संतुलन में रख सकते हैं। धूम्रपान आपकी योनि के मिरकोबायोटा को प्रभावित कर सकता है और आपकी योनि से लैक्टोबैसिलस को कम कर सकता है। जो लोग धूम्रपान नहीं करते हैं, उनका योनि और समग्र स्वास्थ्य बेहतर होता है। धूम्रपान छाेड़ना  योनि पीएच संतुलन में सुधार करने में मदद कर सकता है।

इसे भी पढ़ें - वजाइना से जुड़ी इन 5 अफवाहों को आप मानती हैं सही? डॉक्टर से जानें सच्चाई

6. याेनि की सफाई का ध्यान रखें  (Clean Vaginal)

कई बार महिलाएं अपनी योनि की सफाई के लिए खुशबूदार क्लीनर्स का इस्तेमाल करती हैं, लेकिन इससे उन्हें नुकसान हाे सकता है। यह याेनि के पीएच काे बाधित कर सकता है। याेनि के पीएच काे संतुलित रखने के लिए उसकी सफाई का ध्यान रखना भी बहुत जरूरी है। सुगंधित उत्पादाें के इस्तेमाल से पीएच लेवल बिगड़ सकता है।

7. अंडरगारमेंट्स का भी रखें ध्यान

अंडरगारमेंट्स भी आपके स्वास्थ्य काे काफी हद तक प्रभावित कर सकते हैं। अगर आप अंडरगारमेंट्स की स्वस्छता का ध्यान रखते हैं, ताे इससे पीएच संतुलन में सुधार हाे सकता है। इतना ही नहीं आपकाे अंडरगारमेंट्स चुनते हुए भी सतर्क हाेना जरूरी है। इसके साथ ही दिन में दाे बार गारमेंट्स जरूर बदलें।

अगर आप अपने याेनि काे सुरक्षित रखना चाहती हैं, ताे इन उपायाें काे जरूर फॉलाे करें। इससे आपकी याेनि का पीएच लेवल हमेशा बैलेंस में रहेगा और आप स्वस्थ रहेंगी। 

(Main Image Source : aufeminin.com)

Read More Articles on Home Remedies in Hindi
Disclaimer