गले में दर्द और इंफेक्शन का कारण हो सकता है मौसम में बदलाव, इन घरेलू नुस्खों से जल्दी मिलेगा छुटकारा

मौसम में होने वाले बदलाव और कोरोनावायरस के कारण गले में दर्द और इन्फेक्शन के मामले बढ़ रहे हैं, इनसे बचने के लिए घरेलू उपाय।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Apr 28, 2021Updated at: Apr 28, 2021
गले में दर्द और इंफेक्शन का कारण हो सकता है मौसम में बदलाव, इन घरेलू नुस्खों से जल्दी मिलेगा छुटकारा

मौसम में हो रहे बदलाव और कोरोनावायरस संक्रमण की वजह से लोगों में गले के इन्फेक्शन और दर्द (Throat Pain and Infection) के मामले ज्यादातर देखे जा रहे हैं। खांसी, जुखाम और बुखार की वजह से भी गले में कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं। बदलते मौसम और कोरोना संक्रमण के कहर के दौरान गले में दर्द और इन्फेक्शन की समस्या से बचने के लिए कुछ घरेलू उपाय बेहद कारगर माने जाते हैं, आइये जानते हैं इन घरेलू नुस्खों (Home Remedies) के बारे में।

गले में दर्द और इन्फेक्शन से निजात पाने के लिए घरेलू नुस्खे (Home Remedies for Throat Pain and Infection)

गले में दर्द और इन्फेक्शन को इस दौरान नजरअंदाज करना भारी पड़ सकता है। इस समस्या से बचने और इससे निजात पाने के  घरेलू नुस्खों का सहारा ले सकते हैं। भारतीय रसोई में बहुत सारे ऐसे एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-वायरल गुणों से युक्त चीजें मौजूद होती हैं जिनकी मदद से हम गले में संक्रमण और दर्द से लड़ने में कामयाब हो सकते हैं। गले में संक्रमण का मुख्य कारण मौसम में बदलाव, फ्लू या संक्रमित लोगों के संपर्क में आना होता है। गले का संक्रमण मूल रूप से कुछ वायरस या बैक्टीरिया के कारण होता है। इससे बचने के कुछ कामयाब घरेलू उपाय इस प्रकार से हैं।

throat-infection-and-pain

1. हल्दी और दूध (Turmeric Milk) 

हल्दी और दूध का सेवन गले से जुड़ी कई समस्याओं में बेहद फायदेमंद माना जाता है। हल्दी वाले दूध का इस्तेमाल सैकड़ों सालों से पारंपरिक चिकित्सा में भी किया जाता रहा है। गले में खराश, सर्दी, गले के दर्द और इन्फेक्शन में इसका सेवन बेहद फायदेमंद होता है। इसके सेवन से गले में हुई सूजन और दूसरी अन्य समस्याओं से भी निजात मिलती है। आयुर्वेद में हल्दी को प्राकृतिक एंटीबायोटिक माना जाता है। इसमें एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-वायरल गुण होते हैं।

इसे भी पढ़ें : Burning Throat: इन 6 कारणों से होती है गले में जलन, जानें इसके लक्षण और उपचार

2. शहद और अदरक (Honey and Ginger)

अदरक और शहद के इस्तेमाल से भी गले के दर्द और इन्फेक्शन की समस्या से निजात पा सकते हैं। एक चम्मच शहद में थोड़ा सा अदरक का रस मिलाकर पीने से गले से जुड़ी कई समस्याएं दूर हो जाती हैं। अदरक का काढ़ा भी इन समस्याओं में बेहद फायदेमंद होता है।खांसी, जुखाम और गले से जुडी समस्याओं में इसका सेवन जरूर करना चाहिए। शहद एक हाइपरटोनिक आसमाटिक के रूप में भी काम करता है और इसकी वजह से यह वाले ऊतकों से पानी खींच सकता है। यह गले में सूजन को कम करने में भी मदद करता है।

throat-problems

3. नमक और पानी (Salt Water for Throat Problems)

पानी में नमक मिलाकर इसे गर्म करके गरारे (Gargle) करने से गले की कई समस्या में फायदा मिलता है। नमक में मौजूद एंटी-बैक्टीरियल गुण गले से जुड़ी समस्याओं में बेहद फायदेमंद होते हैं। गले की खराश, दर्द और इन्फेक्शन को दूर करने के लिए दिन में कम से कम दो से तीन बार गुनगुने पानी में नमक डालकर गरारा करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : गले में दर्द और सूजन टॉन्सिलाइटिस की है निशानी, एक्सपर्ट से जानिए इसके इलाज और बचाव

4. लहसुन का सेवन (Garlic for Throat Problems)

गले में दर्द और इन्फेक्शन की समस्या में कच्चे लहसुन का सेवन भी किया जा सकता है। कच्चे लहसुन को चबाने से गले से जुड़ी तमाम समस्याओं में फायदा मिलता है। लहसुन में मौजूद ऐलीसिन नामक तत्व इन्फेक्शन फैलाने वाले जीवाणुओं को खत्म करने में सहायक होता है। दिन में दो बार एक या दो लहसुन की कली का सेवन इन समस्याओं में फायदा जरूर देगा। 

5. नींबू पानी का सेवन (Lemon Water for Throat Infection)

नमक पानी और शहद के जैसे ही नींबू पानी का सेवन भी गले की तमाम समस्याओं में फायदेमंद होता है। नींबू का सेवन गले में खराश की समस्या में बहुत फायदेमंद माना जाता है। नींबू में बलगम को ख़त्म करने और दर्द से राहत देने वाले गुण होते हैं। नींबू में मौजूद विटामिन सी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करते हैं। गले के संक्रमण में नींबू पानी का सेवन जरूर करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : गले में खिचखिच, खराश, बलगम और सीने में भारीपन की समस्या दूर करेगा ये तुलसी का काढ़ा, इम्यूनिटी भी होगी मजबूत

इन आसान घरेलू उपचार का प्रयोग कर आप गले के दर्द, संक्रमण और खराश जैसी समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं। कोरोनाकाल में गले से जुड़ी समस्याओं से ज्यादातर लोग पीड़ित हैं ऐसे में वे इन घरेलू उपचार का सहारा ले सकते हैं। किसी गंभीर बीमारी या समस्या से ग्रसित होने पर इनका इस्तेमाल करने से पहले चिकित्सक की सलाह जरूर लें।

Read more Articles on Other Diseases In Hindi

Disclaimer