Expert

इन विटामिन्स और मिनरल्स की अधिकता भी हो सकती है खतरनाक, जानें क्या होते हैं नुकसान

Risks of Taking Supplements Daily: शरीर में विटामिन और मिनरल्स की कमी को पूरा करने के लिए सप्लीमेंट्स का अधिक सेवन नुकसानदायक साबित हो सकता है।

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarPublished at: Jul 20, 2022Updated at: Jul 20, 2022
इन विटामिन्स और मिनरल्स की अधिकता भी हो सकती है खतरनाक, जानें क्या होते हैं नुकसान

शरीर में पोषक तत्वों की कमी कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती है। इसलिए हेल्थ एक्सपर्ट्स संतुलित पोषक तत्वों से भरपूर आहार लेने की सलाह देते हैं, जिससे की शरीर को पर्याप्त पोषण मिल सके। लेकिन व्यस्त जीवनशैली और भागदौड़ भरी जिंदगी में सभी के लिए संतुलित आहार ले पाना मुमकिन नहीं हो पाता है। ऐसे स्थिति में शरीर पर्याप्त विटामिन और मिनरल्स प्रदान करने के लिए सप्लीमेंट्स का सहारा लेते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं, संतुलित आहार के बजाए सप्लीमेंट्स का अधिक और लंबे समय तक सेवन कई स्वास्थ्य समस्याओं के जोखिम को बढ़ा सकता है। ज्यादा सप्लीमेंट्स का सेवन सेहत के लिए कैसे नुकसानदायक साबित हो सकता है इसके बारे में अधिक जानने के लिए हमने क्लीनिकल न्यूट्रिशनिस्ट गरिमा गोयल से बात की। आइए जानते हैं सप्लीमेंट्स ज्यादा लेने के क्या जोखिम हो सकते हैं।

इन विटामिन्स और मिनरल्स की ज्यादा मात्रा हो सकती है नुकसानदायक-  Risks of Taking Supplements Daily in Hindi

1. विटामिन डी की अधिकता

शरीर में कैल्शियम के बेहतर अवशोषण के लिए विटामिन डी बहुत जरूरी है। धूप विटामिन डी का बेहतरीन स्रोत है, लेकिन बहुत से लोग धूप में समय बिताने से कतराते हैं और घर में समय अधिक बिताते हैं। विटामिन डी प्राप्त करने के लिए वे सप्लीमेंट्स का सहारा लेते हैं। लेकिन अगर आप ज्यादा मात्रा में या रोजाना इनका सेवन करते हैं तो यह नुकसानदायक साबित हो सकता है। अध्ययन में यह पाया गया है कि शरीर में विटामिन डी का अधिक स्तर अतिरिक्त कैल्शियम के अवशोषण को ट्रिगर कर सकता है, जिससे मांसपेशियों में दर्द, मूड डिरऑर्डर, पेट दर्द और किडनी स्टोन जैसी समस्याएं हो सकती हैं।"

Risk of taking supplements in hindi

2. कैल्शियम की अधिकता

हड्डियों, दांतों और शरीर के कई अन्य कार्यों के लिए कैल्शियम की पर्याप्त सेवन बहुत जरूरी है। लेकिन इसका अधिक सेवन से सेहत को नुकसान पहुंच सकता है। "एनआईएच (NIH) के अनुरास अगर 19 से 50 वर्ष की उम्र वाले लोग प्रति दिन 2,500mg से अधिक, 51 और उससे ज्यादा उम्र वाले लोगों के लिए प्रति दिन 2,000 MG से अधिक कैल्शियम का सेवन कई समस्याओं का कारण बन सकता है। यह कठोर धमनियां या एथेरोस्क्लेरोसिस और हृदय रोग के जोखिम को बढ़ाता है।

इसे भी पढें: प्याज के रस में शहद मिलाकर खाने से मिलते हैं ये 6 फायदे

3. मल्टीविटामिन और मल्टीमिनरल्स की अधिकता

बहुत से लोग संतुलित आहार नहीं ले पाते हैं, ऐसे में मल्टीविटामिन और मल्टीमिनरल्स टेबलेट्स का सहारा लेते हैं। "जामा इंटरनल मेडिसिन जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन पाया गया है कि सप्लीमेंट्स लेने वाली महिलाओं में संतुलित आहार लेने वाली महिलाओं की तुलना में मरने का जोखिम अधिक था। एनआईएच के अनुसार स्मोकिंग करने वाले लोगों और स्मोकिंग से पहले विटामिन ए या बीटा-कैरोटीन की अधिक मात्रा वाले सप्लीमेंट्स लेने से बचना चाहिए, क्योंकि इन पोषक तत्वों से फेफड़ों के कैंसर का जोखिम बढ़ सकता है।"

ये भी देखें:

4. विटामिन बी-12 की अधिकता

विटामिन बी-12 का अधिक मात्रा में सेवन करने से रक्त में में थक्के बनने की समस्या हो सकती है। साथ ही इससे उल्टी-दस्त की समस्या हो सकती है। साथ ही यह शरीर में सूजन को भी ट्रिगर कर सकता है। इसके अलावा विटामिन बी12 सप्लीमेंट्स लेने से त्वचा में लाल चकत्ते की समस्या भी देखने को मिल सकती है।

इसे भी पढें: फैटी लिवर में दही खाना चाहिए या नहीं, जानें एक्सपर्ट की राय

5. आयरन की अधिकता

शरीर में हीमोग्लोबिन के स्तर को बनाए रखने और ब्लड सर्कुलेशन के लिए आयरन बहुत जरूरी मिनरल है। इन दिनों बहुत से लोग शरीर में आयरन की कमी से जूझ रहे हैं, इस स्थिति को एनीमिया कहते हैं। इसके लिए लोग आयरन सप्लीमेंट्स का सेवन करते हैं, लेकिन अगर इनका लंबे समय तक सेवन किया जाता है तो इससे कोशिकाओं पर अधिक दबाव पड़ता है। यह हृदय संबंधी समस्याओं, लिवर डैमेज, हड्डियों के कमजोर होने की समस्या हो सकती है। लिवर का बढ़ना या दर्द, बहुत अधिक थकान, लिवर का बढ़ जाना या दर्द होना, हार्ट बीट तेज होना, बाल कमजोर होना, जोड़ों मे दर्द के साथ ही मांसपेशियां कमजोर होने जैसी समस्याएं भी हो सकती है।

All Image Source: Freepik.com

Disclaimer