पेरेंट्स बच्चों को जरूर सिखाएं ये 7 अच्छी आदतें (गुड मैनर्स)

बच्चों को बचपन से ही अच्छे व्यवहार और संस्कार के गुण सिखाने से उनका व्यक्तित्व सुधरता है, पेरेंट्स को ये 7 आदतें अपने बच्चे को जरूर सिखानी चाहिए।

 
Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghUpdated at: Nov 26, 2021 13:46 IST
पेरेंट्स बच्चों को जरूर सिखाएं ये 7 अच्छी आदतें (गुड मैनर्स)

सभी पेरेंट्स को बच्चों की परवरिश करते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि उनकी परवरिश का किसी भी तरह से बच्चों के संस्कार पर बुरा असर न पड़े। इसके लिए बचपन से ही बच्चों को गुड मैनर्स के बारे में बताते रहना चाहिए। शिष्टाचार और संस्कार सिखाना बच्चों की परवरिश का सबसे अहम हिस्सा है। बचपन में बच्चों का स्वभाव बहुत चंचल होता है और में संगति का सर उनपर सबसे ज्यादा पड़ता है। कई बार बच्चे गलत संगत में आकर गलत व्यवहार सीख लेते हैं। ऐसी स्थिति से बचने के लिए शुरुआत से ही बच्चों को अच्छी और बुरी बातों के बारे में बताना जरूरी है। अच्छी आदतें या गुड मैनर्स सिखाने से आपके बच्चे में शिष्टाचार के गुण बढ़ेंगे और उसे किसके साथ कैसा व्यवहार करना चाहिए इसका भी ज्ञान होगा। परवरिश के दौरान बच्चों के शिष्टाचार और संस्कार ही इस बात को भी दर्शाते हैं कि उनके माता-पिता ने उनकी कैसी परवरिश की है। कई बार तो बच्चों में शिष्टाचार की कमी की वजह से पेरेंट्स को भी कई जगहों पर शर्मिंदा होना पड़ता है। इसलिए अगर आप चाहते हैं कि बच्चों के गलत व्यवहार की वजह से आपको किसी जगह शर्मिंदगी न झेलनी पड़े और आपके बच्चे में संस्कार और शिष्टाचार की आदतें बनी रहें तो इन बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है।

पेरेंट्स बच्चों को जरूर सिखाएं ये 7 गुड मैनर्स (Good Habits That Every Parents Should Teach Their Kids)

Good-Habits-Kids

(image source - freepik.com)

बच्चों को बचपन से ही अच्छी आदतों का ज्ञान देना उनके करियर और जीवन के लिए बहुत उपयोगी होता है। किसी भी माता-पिता की परवरिश का अंदाजा भी बच्चों के व्यवहार और संस्कार से ही लगाया जा सकता है। परवरिश के दौरान कई बार अनजाने में पेरेंट्स से कुछ गलतियां हो जाती हैं जिसकी वजह से उनके बच्चों के व्यवहार में कुछ बुरी आदतें शामिल हो सकती हैं। दरअसल बचपन में बच्चे जिस भी माहौल में रहते हैं उनका व्यवहार भी वैसा ही हो जाता है। इसलिए कहा जाता है कि बचपन से ही बच्चों में अच्छी आदतें विकसित करनी चाहिए जिसकी वजह से आगे चलकर उनमें यह आदतें बनी रहती हैं। आइये जानते हैं 7 ऐसी ही अच्छी आदतों के बारे में जिसे हर पेरेंट्स को अपने बच्चों में जरूर डालनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें : अगर बच्चा हो गया है 3 साल का तो उसे सिखाएं ये 5 चीजें खुद से करना

1. प्लीज और थैंक यू कहने की आदत सिखाएं

बच्चों में आम शिष्टाचार के रूप में उन्हें प्लीज और थैंक यू कहना जरूर सिखाना चाहिए। आपको बचपन से बच्चों को इन शब्दों के मतलब और किन मौकों पर इसका इस्तेमाल करना है इसके बारे में जरूर सिखाना चाहिए। बचपन से ही बच्चों में विनम्रता और शालीनता लाने के लिए जरूरी मौकों पर प्लीज और थैंक यू कहना सिखाना बहुत जरूरी है। उन्हें इस बात के बारे में जरूर बताएं कि जब हम किसी व्यक्ति से किसी चीज के बारे में पूछते हैं या मदद मांगते हैं तो उस समय प्लीज का इस्तेमाल और किसी भी व्यक्ति द्वारा आपको कोई राय देने, सलाह देने या मदद करने के बाद थैंक यू कहने का क्या महत्व है। जब आप इन आदतों को बचपन से बच्चों में डाल देंगे तो आगे चलकर बच्चे अच्छी तरह से इनका इस्तेमाल करना जान जायेंगे।

2. गलतियों पर माफी मांगना जरूर सिखाएं

गलतियां हर इंसान से होती हैं और कई बार तो इंसान से अनजाने में कोई गलती हो जाती है जिसके बारे में उसे पता भी नहीं होता है। गलती करने पर माफी मांग लेना भी एक अच्छे संस्कार को दर्शाता है। इसलिए अच्छों को सॉरी बोलना या माफी मांगना जरूर सिखाएं। बच्चों को उनकी गलतियों पर माफी मांगने के बारे में सिखाने के साथ-साथ उन्हें इसके सही इस्तेमाल के बारे में भी अवगत कराएं। बच्चों को यह जरूर बताएं कि किस जगह और कौन सी गलती के बाद सॉरी बोलना चाहिए। माफी मांग लेने से आपकी बेइज्जती भी नहीं होती है इसके बारे में भी बच्चों को जरूर बताएं।

Good-Habits-Kids

(image source - freepik.com)

इसे भी पढ़ें : बच्चों को सजा देने के ये नकारात्मक तरीके डालते हैं उनके जीवन पर बुरा असर, पेरेंट्स के लिए ध्यान देना है जरूरी

3. किसी के घर में जाने से पहले बेल बजाना और जूते बहार उतारने की आदत

बच्चों में अच्छे संस्कार डालने के लिए यह जरूरी है कि दूसरों के साथ उनकी आदत कैसी हो इस पर ध्यान दिया जाए। जब आपके बच्चे किसी दूसरे के घर जाते हैं तो वहां पर कैसे व्यव्हार किया जाता है और किसी के घर में अंदर जाने से पहले उनकी अनुमति क्यों जरूरी है इसके बारे में भी बच्चों को बचपन से ही सिखाना चाहिए। किसी के घर में जाने से पहले दरवाजा खटखटाना या बेल बजाना क्यों जरूरी है इसके बारे में भी बच्चों को जरूर बताएं। इसके साथ ही किसी के घर में जाने पर उनके घर को गंदा न करने की आदत भी बच्चों को जरूर सिखानी चाहिए। बच्चों में बचपन से ही किसी के घर में जाने पर जूते बाहर उतारने की आदत विकसित करनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें : बच्चों की परवरिश के ये 5 तरीके माने जाते हैं बहुत गलत, जानें कैसे पहुंचाते हैं बच्चों को नुकसान

4. किसी का भी मजाक नहीं उड़ाना चाहिए ये जरूर सिखाएं

बच्चों का मन बचपन में बहुत चंचल होता है और अनजाने में ही सही कई बार बच्चे सार्वजानिक जगहों पर ऐसी गलती कर बैठते हैं जिसके बारे में आपको बिलकुल भी अंदाजा नहीं होता है। बच्चों की कुछ गलत आदतों की वजह से उनके माता-पिता को भी सार्वजानिक जगहों पर शर्मिंदा होना पड़ सकता है। इसलिए बच्चों में अच्छी आदतें विकसित करना बहुत जरूरी होता है। बच्चों को शुरू से ही इस बात की ट्रेनिंग जरूर देनी चाहिए कि उन्हें किसी भी व्यक्ति का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए। अकेले में या लोगों के बीच में किसी भी व्यक्ति के पहनावे, उसके खानपान और रंग या भाषा को लेकर मजाक उड़ाना गलत आदत होती है। बच्चों को यह भी समझाना चाहिए कि किसी भी व्यक्ति के शारीरिक स्थिति या उसकी मानसिक स्थिति का भी मजाक उड़ाना गलत होता है। बचपन से ही यह बात सिखाने से बच्चों में ये अच्छी आदत जीवन भर बनी रह सकती है। 

5. बच्चों को हर किसी की इज्जत करना सिखाएं

बच्चों को हर व्यक्ति की इज्जत करना सिखाना सबसे जरूरी संस्कार है। बचपन से ही बच्चों को अपने बड़ों की इज्जत करनी सिखाना चाहिए। अपने बच्चों को लोगों की इज्जत करना सिखाने से उनमें विनम्रता की भावना भी बढ़ती है। चाहे बच्चों के टीचर्स हों या उनसे बड़े परिवार या समाज के लोग हर किसी की इज्जत करना उनका कर्तव्य है ऐसी भावना बच्चों में डालने से उनमें बड़ों के प्रति आदर का भाव पनपता है। बस, ट्रेन या किसी भी सार्वजनिक स्थान पर बच्चों को बड़े, बूढ़े और महिलाओं के साथ कैसा व्यवहार रखना चाहिए यह सिखाना बहुत जरूरी होता है।

6. बच्चों को फोन मैनर्स सिखाना जरूरी

आज के समय में बच्चों को फोन मैनर्स के बारे में सिखाना बहुत जरूरी है। बच्चों को फोन पर बात कैसे की जाती है और अगर कोई व्यक्ति फोन पर बात करता है तो शांत होकर उसकी बात सुनना चाहिए जैसी आदतें जरूर सिखानी चाहिए।

Good-Habits-Kids

(image source - freepik.com)

7. बच्चों को अच्छी तरह बात करना सिखाना जरूरी

बच्चों के लिए सबसे जरूरी संस्कार या मैनर्स ये हैं कि उन्हें किस व्यक्ति से किस तरह बात करनी चाहिए इसके बारे में जरूर सिखाया जाए। बड़े, छोटे या अन्य लोगों से बात करते समय आवाज कितनी होनी चाहिए और शालीनता से किसी भी व्यक्ति से बात कैसे की जाती है इसके बारे में बच्चों को सिखाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : अपने बच्चों में डालें पूरे परिवार के साथ बैठकर खाना खाने की आदत, स्वभाव में आने लगेंगे ये 5 सकारात्मक बदलाव

ऊपर बताई गयी आदतों को बचपन से हर बच्चे को जरूर सिखाया जाना चाहिए। इससे बच्चों का संस्कार बनता है और बच्चों में ताउम्र ये अच्छी आदतें बनी रहती हैं। अच्छी परवरिश देने का मतलब ये होता है कि आप अपने बच्चे को संस्कार, शालीनता, व्यवहार और विनम्रता के बारे में अच्छी शिक्षा जरूर दें। हमें उम्मीद है कि ये पेरेंटिंग टिप्स आपको पसंद आई होगी।

(main image source - shutterstock.com)

 
Disclaimer