Doctor Verified

फाइलेरिया (हाथी पांव) होने से पहले शरीर में दिखते हैं ये शुरुआती लक्षण, जानें बचाव के लिए क्या करें

फाइलेरिया की बीमारी एक घातक बीमारी है जो धीरे-धीरे शरीर को गंभीर नुकसान पहुंचाती है, जानें इसके शुरुआती लक्षण और बचाव के उपाय। 

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Apr 20, 2022Updated at: Apr 20, 2022
फाइलेरिया (हाथी पांव) होने से पहले शरीर में दिखते हैं ये शुरुआती लक्षण, जानें बचाव के लिए क्या करें

फाइलेरिया एक गंभीर और घातक बीमारी है जो साइलेंट तरीके से शरीर को नुकसान पहुंचाती है। इस बीमारी की समय पर जानकारी होने पर आप इसे गंभीर स्थिति में पहुंचने से आसानी से रोक सकते हैं। यह बीमारी जब गंभीर हो जाती है तो इसका प्रभाव पूरे शरीर में देखने को मिल सकता है। आमतौर पर फाइलेरिया की बीमारी होने पर एक पैर में गंभीर रूप से सूजन आ जाती है। कुछ लोगों में फाइलेरिया की समस्या (Filariasis or Filaria in Hindi) होने पर उन्हें दोनों पैरों या शरीर के किसी अन्य अंग में सूजन हो सकती है। फाइलेरिया को आम बोलचाल की भाषा में हाथी पांव की समस्या भी कहा जाता है। शुरुआत में यह बीमारी होने पर आपके हाथ, पैर, स्तन और मुंह पर सूजन दिखाई दे सकती है। इसके अलावा कुछ लोगों में फाइलेरिया की बीमारी होने पर उनके अंडकोष में भी सूजन आ सकती है। इस बीमारी के बारे में सही जानकारी होने पर आप आसानी से इसे दूर कर सकते हैं। फाइलेरिया के बारे में सही जानकारी और समय पर इसके लक्षणों को पहचानकर सही कदम उठाने से इससे बचाव संभव है। आइये जानते हैं फाइलेरिया के शुरुआती लक्षण और इससे बचाव के बारे में। 

फाइलेरिया की बीमारी के शुरुआती लक्षण (Filaria Early Symptoms in Hindi)

फाइलेरिया की बीमारी को हाथी पांव के नाम से भी जाना जाता है। मेडिकल की भाषा में फाइलेरिया को एलीफेंटिटिस यानि श्लीपद ज्वर भी कहते हैं। यह बीमारी एक परजीवी के कारण फैलती है। फाइलेरिया की बीमारी के कारण के कारण मरीज को विकलांगता की समस्या भी हो सकती है। शरीर में इस बीमारी के प्रवेश करने पर शुरुआत में लक्षणों को समझकर सही कदम उठाने से आप इस गंभीर समस्या से बच सकते हैं। प्रयागराज के फाइलेरिया और मलेरिया नियंत्रण अधिकारी डॉ ए के सिंह के मुताबिक फाइलेरिया की बीमारी परजीवी मच्छरों की कुछ प्रजातियां और खून चूसने वाले कीट के काटने की वजह से होती है। कुछ लोगों में यह समस्या आनुवांशिक कारणों से भी हो सकती है। शरीर में फाइलेरिया के शुरुआती लक्षण इस तरह से दिखाई देते हैं। 

Filaria-Early-Symptoms

इसे भी पढ़ें : डॉक्टर से जानें मच्छरों से कैसे फैलता है फाइलेरिया (हाथी पांव) और क्यों खतरनाक है ये रोग

1. फाइलेरिया का संक्रमण कुछ लोगों में बचपन से भी हो सकता है। ऐसे में उनसे बढ़ती उम्र के साथ शरीर के किसी अंग में सूजन की समस्या हो सकती है।

2. फाइलेरिया का संक्रमण होने पर आपको बार-बार बुखार आने की समस्या हो सकती है। फाइलेरिया की वजह से आने वाला बुखार सामान्य बुखार से अलग भी हो सकता है। 

3. हाथ, पैर और जननांगों में सूजन की समस्या अगर लंबे समय तक बनी रहती है तो इसे फाइलेरिया के शुरुआती लक्षण माना जाता है। 

4. फाइलेरिया का संक्रमण होने पर आपके शरीर में लगातार खुजली की समस्या बनी रह सकती है। लगातार खुजली होने पर आपको डॉक्टर से संपर्क कर सलाह जरूर लेनी चाहिए।

5. फाइलेरिया की वजह से आपको हाइड्रोसील की समस्या हो सकती है। फाइलेरिया से पीड़ित ज्यादातर मरीजों में यह समस्या देखी जाती है।

फाइलेरिया की समस्या से बचाव के उपाय (Filariasis or Filaria Prevention Tips)

फाइलेरिया की समस्या से बचाव के लिए इसके शुरुआती लक्षणों के बारे में जानकारी जरूर होनी चाहिए। इसके लक्षणों के दिखते ही डॉक्टर से संपर्क कर सही समय पर इलाज और बचाव के उपाय अपनाने से आप इस समस्या का शिकार होने से बच सकते हैं। फाइलेरिया से बचाव करने के लिए आप इन बातों का ध्यान जरूर रखें।

  • चूंकि फाइलेरिया की समस्या मच्छरों के काटने से फैलती है इसलिए आपको घर में जगह-जगह पानी नहीं जमा होने देना चाहिए।
  • घर या जिस भी जगह रहते हैं वहां आसपास सही ढंग से साफ-सफाई करनी चाहिए।
  • लौंग का इस्तेमाल फाइलेरिया की समस्या में बहुत फायदेमंद होता है। फाइलेरिया में लौंग का सेवन कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : लिम्फेटिक फाइलेरिया नामक रोग भी फैलाते हैं मच्छर, जानें लक्षण

इन चीजों के अलावा समय पर डॉक्टर की सलाह लेकर फाइलेरिया का इलाज करान इस समस्या में बहुत जरूरी होता है। फाइलेरिया गंभीर होने पर विकलांगता का कारण बन सकती है, इसलिए हमेशा सही समय इसके लक्षणों को पहचानकर इलाज लेना चाहिए।

(All Image Source - Freepik.com)

 
Disclaimer