कोरोना से ठीक हो चुके लोगों के लिए भी जरूरी है वैक्सीन, डॉक्टर से जानें वैक्सीन कैसे करती है शरीर पर असर

कोरोना वैक्सीन को लेकर अब भी लोगों में कई सवाल हैं। इन सवालों के जवाब एक्सपर्ट ने दिए हैं, जिनसे आप अफवाह से बच पाएंगे।

 

Meena Prajapati
Written by: Meena PrajapatiPublished at: Mar 31, 2021
कोरोना से ठीक हो चुके लोगों के लिए भी जरूरी है वैक्सीन, डॉक्टर से जानें वैक्सीन कैसे करती है शरीर पर असर

कोरोना के मामले एक बार फिर से बढ़ने लगे हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना की दूसरी लहर (Second wave of corona) आ गई है। कोरोना के असर को कम करने के लिए अब वैक्सीनेशन प्रोग्राम भी शुरू हो गया है। अब तक कोविड वैक्सीनेशन के दो चरण हो चुके हैं। तीसरे चरण की शुरुआत जल्द ही होने वाली है। लेकिन वैक्सीनेशन के साथ लोगों के दिमाग में कई सवाल भी हैं। उन्हीं में से एक सवाल उन लोगों का है जिनको पहले कोरोना हुआ था लेकिन तब तक वैक्सीन नहीं आई थी, और वे लोग हो गए थे, तो क्या उन्हें भी कोविड टीका लगवाने की जरूरत है। इस विषय में ज्यादा जानकारी लेने के लिए हमने बात की कानपुर में हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. अवधेश शर्मा से।

inside6_VaccineFAQ

कोरोना से ठीक होने के बाद टीका लगवाएं या नहीं?

कोरोना से ठीक होने के बाद टीका लगवाएं या नहीं, इस सवाल पर हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. अवधेश शर्मा का कहना है कि ऐसे लोगों को भी कोरोना का टीका लगवाना चाहिए। अवधेश शर्मा का कहना है कि जिन लोगों को पहले कोरोना हुआ, अब वे ठीक हो गए तो शरीर में जो नेचुरली इम्युनिटी बनती है, वो चार से छह हफ्ते तक ही काम करती है। उसके बाद उनका रक्त में लेवल कम होना शुरू हो जाता है। उसके बाद उन लोगों में संक्रमण की आशंका फिर बढ़ जाती है, इसलिए वैक्सीनेशन जरूरी है। वैक्सीन लगने से कोरोना की गंभीरता कम हो जाती है। वैक्सीन से जो एंटीबॉडी बनती है वो ज्यादा दिनों तक टिकने वाली होती है। इनका लेवल कम होने की संभावना कम रहती है। जिनको कोविड हो गया है उन्हें अगर लंबे समय के लिए प्रोटेक्शन चाहिए तो उन्हें वैक्सीन लगवाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : डायबिटीज के मरीज कोरोना की वैक्सीन लेने के बाद बरतें ये सावधानियां, डॉक्टर से जानें सभी जरूरी बातें

inside2_VaccineFAQ

वैक्सीन संक्रमण पर कैसे काम करती है?

कोरोना का टीका संक्रमण पर कैसे काम करता है, इस सवाल पर डॉ. अवधेश शर्मा का कहना है कि दो तरह के इन्फेक्शन होते हैं। बैक्टीरियल इन्फेक्शन को एंटी-बायोटिक की मदद से मारते हैं। वायरल इन्फेक्शन वैक्सीन से खत्म होते हैं। वैक्सीन में लो स्ट्रेन का वायरस डाला जाता है। जब बॉडी में आर्टीफिशियल इन्फेक्शन क्रिएट करते हैं तो बॉडी उसी वायरस के जैसा एंटीबॉडी बनाती है। वो वायरस शरीर में एंटीबॉडी बनाता है, बीमारियां नहीं। फिर उसी वायरस का नेचुरल अटैक होगा तो वो उस वायरस से लड़ लेगा। वैक्सीन से शरीर को पहले परिचित कराया जाता है। फिर बॉडी उससे लड़ती है।  वायरस की गंभीरता उतनी नहीं होगी जितनी बिना वैक्सीन के होती।  वैक्सीन लगने से कोरोना के मामलों में गंभीरता कम हो जाएगी।

इसे भी पढ़ें : कोरोना की वैक्सीन लगवाने के कितने दिन बाद करें बेबी प्लानिंग? एक्सपर्ट बता रहे हैं महिलाओं के लिए जरूरी टिप्स

क्या वैक्सीन लगवाने के बाद भी कोरोना हो सकता है?

जी हां, वैक्सीन लगवाने के बाद भी कोरोना हो सकता है। लेकिन उसकी गंभीरता कम होगी। कोरोना का वायरस मरेगा नहीं, लेकिन वैक्सीन लगवाने के बाद उसकी गंभीरता कम हो जाएगी। जिसने नहीं लगवाई है उसकी बॉडी वायरस के लिए नई होगी, जिससे रोग की गंभीरता बढ़ेगी। वैक्सीन से बॉडी वायरस से परिचित हो जाती है। उसके विरुद्ध वो अपने डिफेंस मेकेनिज्म तैयार करती है।  

वैक्सीन लगवाने के बाद किन बातों का ध्यान रखें?

वैक्सीन लगवाने के बाद हल्का बुखार और दर्द हो सकता है, तो थोड़े समय में ठीक हो जाता है। वैक्सीन लगवाने के बाद अगर आपको भी ऐसे लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो घबराएं नहीं। वैक्सीन लगवाने के बाद निम्न बातों का ध्यान रखें।

  • कोविड प्रोटोकॉल का ध्यान रखें। जिसमें उचित दूरी का पालन, मास्क पहनना, सेनिटाइजर पास रखना, नियमित रूप से हाथ धोना आदि। 
  • कोरोना वेक्सीन लगवाने के बाद भी कोरोना हो सकता है। उसके बाद भी कोविड प्रोटोकॉल का ध्यान रखना है।
  • जिनको कोरोना हो गया है उन्हें ध्यान रखना है कि उसको 6 हफ्ते तक वैक्सीन न लगवाएं। इस समय तक उसकी नेचुरल एंटीबॉडी काम कर रही होती हैं।

कोरोना वैक्सीन को लेकर कई तरह के सवाल लोगों के मन में हैं। इन्हीं सवालों के जवाब ऑन्ली माई हेल्थ ने देने की कोशिश की है। पर यह ध्यान रहे कि वैक्सीन लगवाने के बाद भी कोरोना हो सकता है। पर उसकी गंभीरता कम होगी।

Read More Articles on Health News in Hindi

 

Disclaimer