Doctor Verified

कहीं आप तो नहीं पी रहे बासी दूध? एक्‍सपर्ट से जानें ताजे और बासी दूध में अंंतर कैसे पहचानें

बाजार में ब‍िक रहे बासी दूध का सेवन करने से पाचन तंत्र ब‍िगड़ सकता है। जानें ताजे और बासी दूध में अंतर करने का तरीका।

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Dec 30, 2022 08:00 IST
कहीं आप तो नहीं पी रहे बासी दूध? एक्‍सपर्ट से जानें ताजे और बासी दूध में अंंतर कैसे पहचानें

3rd Edition of HealthCare Heroes Awards 2023

दूध में कैल्‍श‍ियम, व‍िटाम‍िन्‍स, प्रोटीन, कॉर्ब्स, वसा जैसे पोषक तत्‍व मौजूद होते हैं। ताजा दूध पीने से ये सभी पोषक तत्‍व आपके शरीर को म‍िलते हैं। लेक‍िन बाजार में ब‍िकने वाले बासी दूध का सेवन करने से पेट में दर्द, डायर‍िया, उल्‍टी जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं। ताजा और बासी दूध के बीच फर्क पता करना इतना मुश्‍क‍िल नहीं है। कुछ बातों पर गौर करेंगे, तो आप भी ताजे दूध की पहचान कर पाएंगे। दूध की सुगंध, गाढ़ापन, रंग आद‍ि आधार पर पता लगाया जा सकता है क‍ि दूध ताजा है या नहीं। इस लेख में हम असली दूध की पहचान करने के तरीके जानेंगे। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की। 

fresh and spoiled milk

1. दूध की कंस‍िसटेंसी चेक करें  

गरम दूध की जांच करें। अगर दूध गरम होने के बाद पहले की तरह पतला न होकर गाढ़ा हो गया है, तो ये उसके खराब होने का संकेत है। खराब दूध में प्रोटीन एक-साथ च‍िपक जाते हैं और गुठली बनना शुरू हो जाती है। हालांक‍ि दूध के ऊपर पतली पपड़ी नजर आना सामान्‍य है। अगर आप नॉन डेयरी म‍िल्‍क जैसे आल्‍मंड म‍िल्‍क या सोया म‍िल्‍क पीते हैं, तो उसे फ्र‍िज में ही स्‍टोर करें। दूध को पीने से पहले उसकी कंस‍िसटेंसी चेक करें। अगर दूध ज्‍यादा गाढ़ा है, तो मतलब वो खराब हो चुका है।

इसे भी पढ़ें- दूध में मिलाकर पिएं कच्ची हल्दी, सेहत को मिलेंगे ये 5 अनोखे फायदे

2. दूध के रंग की जांच करें

अगर दूध के रंग में पीलापन नजर आ रहा है, तो मतलब दूध ताजा नहीं है। खराब दूध पीला या अजीब रंग का म‍िश्रण होता है। दूध के ऊपर पीली परत भी उसके खराब होने का संकेत है। दूध क‍ितने द‍िनों तक खराब नहीं होता ये उसमें मौजूद फैट और लैक्‍टोज की मात्रा पर न‍िर्भर करता है। दूध को फ्रेश रखने के ल‍िए उसे रूम के तापमान पर स्‍टोर करने के बजाय ठंडे तापमान पर रखें। दूध को स्‍टोर करने के ल‍िए फ्र‍िज का इस्‍तेमाल करें। अगर दूध को 1 घंटे या उससे ज्‍यादा समय के ल‍िए रूम के तापमान पर रख देंगे, तो उसके खराब होने की आशंका बढ़ जाएगी। दूध को लाइट के सामने न रखें। दूध को प्‍लास्‍ट‍िक कंटेनर में रखने के बजाय स्‍टील या ग्‍लास के बर्तन में स्‍टोर करें।

3. दूध में गुठली बनने की जांच करें

दूध में लंप्‍स यानी गुठली नजर आ रहे हैं, तो समझ जाएं क‍ि दूध खराब हो गया है। दूध को कंटेनर में न‍िकालकर जांच करें। अगर दूध में लंप्‍स होंगे, तो वो तली में जमा हो जाएंगे। दूध खरीदने से पहले त‍िथ‍ि चेक करें। अगर तारीख न‍िकल गई है, तो दूध जल्‍दी खराब हो सकता है।

4. बेक‍िंग सोडा से करें दूध की जांच

बेकि‍ंग सोडा ताजे दूध में र‍िएक्‍ट नहीं करता है। अगर दूध खराब है, तो दूध के संपर्क में आने से बेक‍िंग सोडा बुलबुले छोड़ने लगता है। अगर बेक‍िंग सोडा में थोड़े भी बुलबुले उठ रहे हैं, तो उस दूध का इस्‍तेमाल न करें। जांच करने के ल‍िए बेक‍िंग सोडा के ऊपर दूध की 1 से 2 बूंदें डालकर चेक करें। बेक‍िंग सोडा से दूध की सही जांच की गारंटी ओनलीमायहेल्‍थ नहीं लेता। अन्‍य तरीकों के आधार पर दूध की जांच कर सकते हैंं।   

5. दूध में गंध की जांच करें  

दूध को सूंघकर उसकी जांच करें। ताजे दूध में महक नहीं होती है। वहीं खराब दूध में अजीब सी तेज गंध होती है। कमरे के तापमान पर दूध को ज्‍यादा देर के ल‍िए न रखें। ऐसा करने पर दूध में महक आ सकती है और वो खराब हो सकता है।

पैकेट वाला दूध लेने से पहले उसकी एक्‍सपायरी डेट चेक कर लें। दूध का स्‍वाद, महक और रंग में फर्क नजर आए, तो उसका इस्‍तेमाल करने से बचें।    

Disclaimer