डायबिटीज मरीजों को बार-बार पेट दर्द होने के क्या कारण हो सकते हैं? डॉक्टर से जानें इससे बचाव के उपाय

डायबिटीज की समस्या में मरीजों को कई कारणों से पेट दर्द का सामना करना पड़ सकता है, जानें इस समस्या में बचाव के टिप्स।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Sep 09, 2021
डायबिटीज मरीजों को बार-बार पेट दर्द होने के क्या कारण हो सकते हैं? डॉक्टर से जानें इससे बचाव के उपाय

असंतुलित खानपान और जीवनशैली की वजह से आज के समय में लाखों लोग डायबिटीज की बीमारी का शिकार हो रहे हैं। डायबिटीज सिर्फ शरीर में ब्लड शुगर के स्तर में बदलाव तक ही सीमित नहीं रहता है। इसकी वजह से आपके शरीर में कई तरह की दूसरी बीमारियां भी हो सकती हैं। डायबिटीज के कारण स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव बहुत गंभीर होते हैं। शरीर में ब्लड शुगर का स्तर बढ़ जाने की समस्या को हाइपरग्लाइसेमिया या टाइप 2 डायबिटीज भी कहा जाता है। पहले यह समस्या बढ़ती उम्र या आनुवांशिक कारणों से ही होती थी लेकिन आजकल असंतुलित खानपान और बदलती जीवनशैली के कारण युवावस्था में भी हो रही है। ब्लड शुगर बढ़ने पर शरीर में कई समस्याएं होती हैं जिनमें से एक प्रमुख समस्या पेट में बार-बार दर्द होना भी है। डायबिटीज के कारण पेट में बार-बार दर्द होने की समस्या को गैस्ट्रोपेरिसिस भी कहा जाता है। गैस्ट्रोपेरिसिस टाइप 1 और टाइप 2 दोनों तरह की डायबिटीज में हो सकता है।

गैस्ट्रोपेरिसिस की समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है। डायबिटीज की समस्या में वेगस तंत्रिका पर भी प्रभाव पड़ता है जो कि पेट को नियंत्रित करती है। वेगस तंत्रिका के क्षतिग्रस्त हो जाने के कारण आपका पाचन कमजोर हो जाता है। और आपके शरीर में भोजन भी जरूरत से ज्यादा देर तक रहता है। चंडीगढ़ पीजीआई के एंडोक्राइनोलॉजी डिपार्टमेंट के विभागाध्यक्ष डॉ. संजय भडाडा के मुताबिक यह समस्या गैस्ट्रोपेरिसिस के नाम से जानी जाती है। इस बीमारी में मरीजों को उल्टी, बेचैनी और पेट में दर्द के लक्षण रहते हैं। टाइप 1 डायबिटीज में यह समस्या सबसे ज्यादा देखने को मिलती है लेकिन टाइप 2 डायबिटीज से ग्रसित लोगों में भी यह समस्या हो सकती है। आइये विस्तार से जानते हैं डायबिटीज की समस्या में होने वाले पेट दर्द के बारे में।

 Diabetic-Stomach-Pain

(image source - freepik.com)

इसे भी पढ़ें : क्या डिप्रेशन भी आपको बना सकता है डायबिटीज का शिकार? जानें दोनों में संबंध और खतरे

डायबिटीज की समस्या में पेट दर्द (Diabetic Stomach Pain)

डायबिटीज के ग्रसित होने पर चिकित्सक मरीज को खानपान और जीवनशैली में बदलाव की सलाह जरूर देते हैं। मरीजों को फाइबर और कोलेस्ट्रॉल को सुधारने के लिए फायदेमंद खाद्य पदार्थों के सेवन की सलाह दी जाती है। डायबिटीज की समस्या में खानपान संबंधी बदलाव कई बार मरीजों के लिए परेशानी का कारण भी बन सकते हैं। अत्यधिक ग्फिबेर का सेवन गैस और सूजन की समस्या का कारण बनता है जिसकी वजह से आपके पेट में दर्द की समस्या हो सकती है। इसके अलावा डायबिटीज के मरीजों में पेट दर्द का सबसे बड़ा कारण गैस्ट्रोपेरिसिस (Diabetic Gastroparesis) को भी माना जाता है। यह पाचन तंत्र से जुड़ी एक गंभीर समस्या है जो डायबिटीज के मरीजों में देखी जाती है। इस समस्या में पाचन तंत्र से भोजन को स्थानांतरित करने वाली नसें क्षतिग्रस्त हो जाती हैं जिसकी वजह से पेट में भोजन ज्यादा देर तक रहता है। इसकी वजह से डायबिटीज के मरीजों में लगातार पेट दर्द की समस्या बनी रहती है। इसकी वजह से मरीजों में पेट दर्द के आलावा ये लक्षण भी देखे जा सकते हैं।

  • पेट में तेज जलन
  • मतली
  • गंभीर मामलों में उल्टी
  • ब्लड शुगर के स्तर में तेज बदलाव
  • सूजन
  • भूख कम लगना
  • वजन कम होना
 Diabetic-Stomach-Pain
(image source - freepik.com)

डायबिटीज की समस्या में पेट दर्द के कारण (Diabetic Stomach Pain Causes)

खानपान में बदलाव, दवाओं का सेवन और गैस्ट्रोपेरिसिस के कारण भी आपको डायबिटीज की समस्या में पेट दर्द का सामना करना पड़ सकता है। शरीर में ब्लड शुगर का स्तर अनियंत्रित होने पर सबसे पहले मरीज को खानपान से जुड़ी आदतों में बदलाव की सलाह दी जाती है। खानपान में अचानक हुए बदलाव और दवाओं के सेवन की वजह से आपको पेट में दर्द महसूस हो सकता है। लेकिन अगर आपको डायबिटीज में लगातार पेट दर्द और पाचन से जुड़ी समस्याएं हो रही हों तो उसके पीछे ये कारण हो सकते हैं।

  • खानपान की आदतों में बदलाव की वजह से।
  • फाइबर के अत्यधिक सेवन के कारण।
  • दवाओं के सेवन से।
  • ब्लड ग्लूकोज कम करने वाली दवाओं के सेवन की वजह से।
  • ब्लड शुगर के स्तर में लगातार परिवर्तन होने के कारण।
  • गैस्ट्रोपेरिसिस की बीमारी के कारण।

डायबिटीज की समस्या पेट दर्द की समस्या से बचने के उपाय (Diabetic Stomach Pain Prevention Tips)

खानपान में अचानक हुए बदलाव के कारण ज्यादातर मरीजों को पेट दर्द की समस्या का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा डायबिटीज के कारण वेगस तंत्रिका पर पड़ने वाले प्रभाव से मरीज को गैस्ट्रोपेरिसिस की समस्या हो सकती है। गैस्ट्रोपेरिसिस के कारण मरीजों को पेट में दर्द का सामना करना पड़ता है। इस समस्या से बचाव के लिए एक्सपर्ट्स खानपान में सामान्य बदलाव और कुछ दवाओं के सेवन की सलाह देते हैं। लगातार पेट दर्द होने की स्थिति में आपको चिकित्सक की सलाह लेनी ही पड़ती है। शुरुआत में इस समस्या के लक्षण दिखने पर आप इलाज के साथ-साथ अपने खानपान की आदतों में कुछ बदलाव कर सकते हैं।

  • अचानक खानपान में अत्यधिक बदलाव न करें। डॉक्टर भी आपको धीरे-धीरे भोजन में बदलाव की सलाह देते हैं।
  • ब्लड शुगर को नियंत्रित रखने वाले भोजन का सेवन करें।
  • अचानक अत्यधिक फाइबर का सेवन बिलकुल भी न करें।
  • पूरे दिन में थोड़ा-थोड़ा करके कई बार भोजन करने की आदत डालें।
  • पचने में अधिक समय लेने वाले खाद्य पदार्थों का सेवन सीमित करें।
  • कम फैट वाले भोजन का सेवन जरूर करें।
  • शराब और कार्बोनेटेड ड्रिंक्स का सेवन करने से बचें।
  • पके हुए गाजर या मशरूम का सेवन करें।
 Diabetic-Stomach-Pain
(image source - freepik.com)

इसके अलावा डायबिटीज की समस्या में पेट दर्द का एक प्रमुख कारण दवाओं का सेवन भी हो सकता है। ऐसी स्थिति में आप एक्सपर्ट डॉक्टर की सलाह के बाद ही दवाओं का सेवन करें। शरीर में ब्लड ग्लूकोज कम करने वाली दवाओं के सेवन के कारण भी आपको डायबिटीज में पेट दर्द की समस्या हो सकती है, इसलिए इन दवाओं का सेवन सिर्फ डॉक्टर की सलाह से ही करें। इसके साथ-साथ इंजेक्टेबल्स दवाओं का इस्तेमाल करने से पहले चिकित्सक की सलाह जरूर लें। डायबिटिक गैस्ट्रोपेरिसिस की स्थिति में डॉक्टर की सलाह के अनुसार अपने खानपान और लाइफस्टाइल में बदलाव जरूर करें। आप इन समस्याओं से बचने के लिए अपने पाचन तंत्र को ठीक करें। भोजन करने के बाद थोड़ी देर टहलना और रात को सोने से 3 या 4 घंटे पहले भोजन करना भी इस समस्या में फायदेमंद होता है।

(main image source - freepik.com)

Read More Articles on Diabetes in Hindi

Disclaimer