डायबिटीज रोगियों के लिए फायदेमंद है 'सदाबहार की पत्तियां', जानें इसके सेवन करने का तरीका

डायबिटीज के रोगियों को नियमित रूप से इस्तेमाल करना चाहिए सदाबहार की पत्तियां, इसका सेवन कर आप खुद को लंबे समय तक रख सकते हैं स्वस्थ। 

Vishal Singh
डायबिटीज़Written by: Vishal SinghPublished at: Sep 03, 2018Updated at: Dec 08, 2020
डायबिटीज रोगियों के लिए फायदेमंद है 'सदाबहार की पत्तियां', जानें इसके सेवन करने का तरीका

डायबिटीज आजकल एक आम समस्या बन गई है जिसका शिकार ज्यादातर लोग हो रहे हैं। इसका मुख्य कारण अनियमित खानपान और जीवनशैली हो सकती है, लेकिन अगर आप सही समय पर इसका इलाज नहीं करवाते तो ये गंभीर स्थिति बन सकती है। डायबिटीज के दौरान आपको कई चीजों का ख्याल रखना जरूरी होता है, डॉक्टर आपको जीवनशैली और खानपान में सुधार या बदलाव करने की सलाह दे सकता है। वहीं, लोग कुछ घरेलू उपाय भी अपनाते हैं जिसकी मदद से डायबिटीज को कंट्रोल किया जा सकता है। ऐसे ही सदाबहार है जिसे डायबिटीज के इलाज के लिए असरदार माना जाता है और ये आपको लंबे समय तक स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है। 

आपको बता दें कि सदाबहार का इस्तेमाल काफी समय से आयुर्वेद और चीनी दवाओं में किया जाता है और इसे मधुमेह (Diabetes), मलेरिया, गले में खराश और ल्यूकेमिया जैसी स्थितियों से बचने के लिए हर्बल उपचार के तौर पर किया जाता है। इसमें दो सक्रिय यौगिक होते हैं एल्कलॉइड और टैनिन। यह माना जाता है कि पौधे में करीब 100 से ज्यादा अल्कलॉइड हैं, जो कि बहुत ही फायदेमंद होते हैं। 

diabetes

सदाबहार क्या है?

सदाबहार का पौधा आसानी से भारत में कहीं भी मिल जाता है और इसे मेडागास्कर का मूल निवासी कहा जाता है। यह एक सदाबहार झाड़ी है जो सजावटी पौधे के रूप में और औषधीय प्रयोजनों के लिए काम करता है। इसके फूलों का रंग गुलाबी और सफेद होता है जो चिकनी, चमकदार होते हैं और इसकी पत्तियां गहरे हरे रंग की होती हैं जो टाइप -2 मधुमेह के लिए प्राकृतिक औषधि के रूप में काम करती है। सदाबहार की पत्तियों का इस्तेमाल डायबिटीज (Diabetes) के लिए खाने के रूप में किया जाता है, ये पूरी तरह से असरदार होता है और ब्लड शुगर लेवल को बढ़ने से रोककर उसे कंट्रोल में रखता है। 

diabetes

मधुमेह के लिए सदाबहार का इस्तेमाल कैसे करें?

  • सदाबहार की ताजी हरी पत्तियों को सबसे पहले सुखाया जाता है, फिर इसे अच्छी तरह से पीस लें और एक एयर-टाइट कंटेनर में रख लें। रोजाना एक कप ताजे फलों के रस या पानी के साथ इस सूखे पत्तों के पाउडर का एक चम्मच सेवन करें। आपको इस पौधे की पत्तियों का पाउडर थोड़ा कड़वा जरूर लग सकता है।
  • पौधे की 3 से 4 पत्तियों से ज्यादा न लें और दिन में रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने के लिए उन्हें सिर्फ मुंह में रख कर चबाते रहें। 
  • सदाबहार पौधे के गुलाबी रंग के फूल लें और उन्हें एक कप पानी में उबालें। इसको उबलने के बाद आप पानी को छान लें और इसे रोजाना सुबह खाली पेट पीने की आदत डालें। इससे आपका डायबिटीज काफी हद तक कंट्रोल में रह सकता है। 

इसे भी पढ़ें: प्री-डायबिटीज का पता चलने पर लाइफस्टाइल में कौन से बदलाव जरूरी हैं ताकि न रहे टाइप 2 डायबिटीज का खतरा?

सदाबाहर के अन्य फायदे

कैंसर के खतरे को करता है कम 

सदाबहार की पत्तियों में कैंसर (Cancer) से लड़ने वाले तत्व पाए जाते हैं, ये शरीर में कैंसर को बढ़ाने वाले सेल्स को खत्म करने का काम करते हैं और उन मरे हुए सेल्स को ठीक करने में मदद करते हैं। आपको बता दें कि सदाबहार की पत्तियों में दो एल्कलॉइड पाए जाते हैं, जो विन्क्रिस्टिन और विंब्लास्टिन नामक होते हैं। ये दोनों ही एल्कलॉइड कीमोथेरेपी के साथ दिये जाते हैं। इसके साथ ही अगर आप कैंसर (Cancer) से पीड़ित हैं तो आपको इनकी पत्तियों की चटनी बना कर देनी चाहिए। 

ब्लड प्रेशर को रखता है निंयत्रित

सदाबहार की पत्तियों में पाया जाने वाला अज्मलसिने नामक एल्कलॉइड आपके ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) को कंट्रोल में रखता है। इसके साथ ही ये हाई ब्लडप्रेशर होने पर तुरंत उसे कम करने का काम करता है, नियमित रूप से इसकी पत्तियों को चबाने से आपका ब्लड शुगर हमेशा निंयत्रण में रह सकता है।

इसे भी पढ़ें: डायबिटीज होने के बावजूद सोनम कपूर कैसे रखती हैं अपनी फिटनेस का ख्याल?

खुजली से मिलती है राहत

सदाबहरा की पत्तियों का इस्तेमाल शरीर पर हो रही खुजली को भी दूर किया जा सकता है। इसके लिए आपको रोजाना इसकी पत्तियों से निकलने वाले दूध को अपने शरीर के खुजली वाले हिस्से पर लगाना चाहिए। कुछ ही दिनों में आपकी खुजली की समस्या दूर हो जाएगी। 

Read More Articles on Diabetes in Hindi 

Disclaimer