प्री-डायबिटीज का पता चलने पर लाइफस्टाइल में कौन से बदलाव जरूरी हैं ताकि न रहे टाइप 2 डायबिटीज का खतरा?

ब्लड शुगर बढ़ जाने (प्री-डायबिटीज) पर तुरंत करें लाइफस्टाइल में ये 5 बदलाव, ताकि टाइप 2 डायबिटीज में न बदले आपकी समस्या।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavUpdated at: Jun 02, 2020 14:03 IST
प्री-डायबिटीज का पता चलने पर लाइफस्टाइल में कौन से बदलाव जरूरी हैं ताकि न रहे टाइप 2 डायबिटीज का खतरा?

प्री-डायबिटीज (Prediabetes) का अर्थ है डायबिटीज से पहले की अवस्था। जब शरीर में ब्लड शुगर (Blood Sugar) बढ़ना शुरू होता है, तभी शरीर कुछ स्पष्ट संकेत देने लगता है। बार-बार प्यास लगना, जल्दी-जल्दी पेशाब जाना, थकान महसूस होना आदि सभी ऐसे लक्षण हैं, जो इस बात का संकेत हो सकते हैं कि आपके शरीर में ब्लड शुगर का बैलेंस (Blood Sugar Balance) बिगड़ गया है। इस स्टेज को प्री-डायबिटीज कहते हैं। अगर इस स्टेज पर आप संभल जाएं तो ठीक, अन्यथा जल्द ही आप टाइप 2 डायबिटीज (Type 2 Diabetes) का शिकार हो जाएंगे। 35 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को आमतौर पर इसका खतरा बहुत ज्यादा होता है। इसलिए उन्हें इन संकेतों पर नजर रखनी चाहिए। डायबिटीज स्वयं में तो खतरनाक बीमारी है ही, इसके होने पर कई और गंभीर बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है, जैसे- हार्ट अटैक, किडनी फेल्योर, लिवर फेल्योर, कैंसर, अंधापन, बहरापन आदि।

इसलिए अगर किसी व्यक्ति को पता चलता है कि उसे प्री-डायबिटीज (Pre-Diabetes) है, यानी उसका ब्लड शुगर बढ़ा हुआ रहता है, तो उसे अपनी जीवनशैली (Lifestyle) में ये 5 बदलाव कर लेने चाहिए, ताकि टाइप 2 डायबिटीज होने की संभावना कम से कम रहे।

diabetes diet

खाने की आदतें तुरंत बदल दें

जैसे ही आपको पता चलता है कि आपके ब्लड में शुगर बढ़ने लगा है, तो आपको तुरंत अपने खाने की आदतें बदल देनी चाहिए।

  • फाइबर वाले आहार ज्यादा खाएं क्योंकि ये खून में शुगर को धीरे-धीरे छोड़ते हैं, जिससे ब्लड शुगर अचानक नहीं बढ़ता है।
  • ज्यादा से ज्यादा सब्जियां, कच्चा सलाद, साबुत फल (जूस बिल्कुल नहीं), साबुत अनाज, दाल, नट्स और लेग्यूम्स खाएं।
  • सुबह का नाश्ता कभी न छोड़ें और रात का खाना सोने से 2 घंटे पहले खा लें।
  • पैकेट बंद स्नैक्स, कोल्ड ड्रिंक, कैंडी, मिल्क चॉकलेट्स और दूसरी प्रॉसेस्ड मीठी चीजों का सेवन बिल्कुल बंद कर दें।
  • बटर, फ्राइड फूड्स, पेस्ट्री, केक, बिस्कुट, पैकेटबंद चिप्स आदि का सेवन कम करें क्योंकि ये फूड्स इंसुलिन हार्मोन को बनने से रोकते हैं।

रोज 30 मिनट एक्सरसाइज को बना लें आदत

आपका ब्लड शुगर बढ़ने लगा है और डॉक्टर ने डायबिटीज या प्री-डायबिटीज बता दिया है, तो आपको घर लौटने के समय से ही संकल्प कर लेना चाहिए कि हर रोज 30 मिनट एक्सरसाइज जरूर करेंगे। समय कम है, शरीर साथ नहीं देता, अवस्था कम अच्छी है, तो तेज एक्सरसाइज न करें, लेकिन तेज गति से पैदल चलें, साइकिल चलाएं, जॉगिंग करें या फिर स्विमिंग करें। 30 मिनट डेली एक्सरसाइज ही आपको डायबिटीज से बचा सकती है।

धूम्रपान और शराब तुरंत छोड़ दें

प्री-डायबिटीज ऐसी स्टेज है, जहां से आप डायबिटीज होने को रोक सकते हैं। याद रखें एक बार डायबिटीज हो गया तो इसका कोई इलाज नहीं है। फिर इसे कंट्रोल करने में ही जीवन गुजरने लगता है। इसलिए जैसे ही पता चले कि आप प्रीडायबिटीज के शिकार हैं, आपको सिगरेट, शराब और दूसरी गुटखा संबंधी आदतें छोड़ देनी चाहिए। सिर्फ सिगरेट पीने से ही डायबिटीज का खतरा 40% तक बढ़ जाता है।

diabetes exercise

वजन घटाने को अपना लक्ष्य मान लें

आमतौर पर डायबिटीज का शिकार वो लोग ज्यादा होते हैं, जो मोटे होते हैं और जिनके कमर के आसपास चर्बी जमा होती है। अगर आपके साथ भी ऐसा है, तो आपको वजन घटाने को अपने जीवन का मुख्य लक्ष्य बना लेना चाहिए। क्योंकि अगर आप समय के साथ वजन घटाने में सफल रहे तो आप स्वस्थ रहेंगे, अन्यथा डायबिटीज तो रहेगी ही साथ ही हार्ट अटैक और कैंसर का खतरा भी बहुत अधिक बढ़ जाएगा।

इसे भी पढ़ें: डायबिटीज रोगियों को क्यों होती है हर समय थकान और आलस की समस्या, जानें कारण

डॉक्टर के संपर्क में रहें

कई बार देखा जाता है कि कुछ लोग एक बार समस्या होने पर तो डॉक्टर के पास चले जाते हैं लेकिन जब डॉक्टर से पता चलता है कि उन्हें अभी डायबिटीज नहीं है, या वो प्री-डायबिटीज की स्टेज पर हैं, तो वो लापरवाह हो जाते हैं। इसके कारण उनका ब्लड शुगर काफी बढ़ सकता है। इसलिए किसी भी तरह की समस्या से बचने के लिए अपने डॉक्टर के संपर्क में रहें और उनसे समय-समय पर सलाह लेते रहें। यकीन मानें डायबिटीज बहुत खतरनाक बीमारी है, जिसके कारण दुनिया में करोड़ों लोग परेशान हैं और लाखों अपनी जान गंवाते हैं।

Read More Articles on Diabetes in Hindi

Disclaimer