शरीर में इन 3 चीजों की कमी के कारण सोते वक्त होता है पैर में दर्द, जानें कैसे पूरी करें इनकी कमी

मौजूदा समय में लोग अपने काम को लेकर इतना तनाव में रहते हैं कि काम के बाद जब थक हार कर बिस्तर पर लेटते हैं या फिर सोते हैं तो बहुत से लोगों के पैरों में दर्द होने लगता है, जिस कारण सोने में दिक्कत होती है। 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Sep 24, 2019
शरीर में इन 3 चीजों की कमी के कारण सोते वक्त होता है पैर में दर्द, जानें कैसे पूरी करें इनकी कमी

मौजूदा समय में लोग अपने काम को लेकर इतना तनाव में रहते हैं कि काम के बाद जब थक हार कर बिस्तर पर लेटते हैं या फिर सोते हैं तो बहुत से लोगों के पैरों में दर्द होने लगता है, जिस कारण सोने में दिक्कत होती है। पैरों में दर्द के चलते लोगों को अच्छी नींद नहीं आ पाती हैं और व्यक्ति धीरे-धीरे अस्वस्थ महसूस करने लगता है। ऐसा दरअसल किसी बीमारी की वजह से नहीं बल्कि शरीर में कुछ विशेष प्रकार के खनिजों की कमी के कारण होता है। 

दरअसल हमारे शरीर को खाने के जरिए कुछ पोषक तत्वों की जरूरत होती है, जिनके शरीर में न जाने के कारण ही यह समस्या पैदा होने लगती है। अगर आप भी सोते वक्त पैर में दर्द की समस्या से परेशान रहते हैं तो हम आपको बताने जा रहे हैं कि किन तीन चीजों की कमी आपके पैरों में दर्द का कारण बनती है। इन तीन चीजों की पूर्ति कर आप बड़ी आसानी से पैरों में दर्द की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

शरीर में इन तीन चीजों की कमी पैरों में दर्द का कारण 

कैल्शियम की कमी

अगर आप रोजाना की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में अक्सर पैरों के दर्द से परेशान रहते हैं तो आपके शरीर में कैल्शियम की कमी हो गई है। अगर रोजाना रात को सोते समय आपको पैरों में दर्द होता हैं तो समझ लीजिए कि अब शरीर में कैल्शियम की कमी ने दस्तक दे दी है। दरअसल होता यूं है कि शरीर में कैल्शियम की कमी होने से हड्डियों का विकास रुक जाता है, जिस कारण हड्डियों में दर्द की समस्या हो जाती है। अगर आपको सोते वक्त लगातार पैरों में दर्द की शिकायत रहती है तो तुरंत कैल्शियम युक्त आहार का सेवन करना शुरू कर दें। नहीं तो इसे दूर कैसे किया जाए इसके लिए आप अपने डॉक्टर से भी सलाह ले सकते हैं।

कैसे करें कैल्शियम की कमी पूरी

  • कैल्शियम युक्त आहार का अधिक से अधिक सेवन करें।
  • दूध पीएं।
  • बादाम खाएं।
  • लीची, अखरोट, अंकुरित अनाज जैसे  कैल्शियम युक्त आहार का सेवन बढ़ा दें।

इसे भी पढ़ेंः बाजार में बिक रहे चमकदार सेबों पर चढ़ी वैक्स से बीमारियों का खतरा, इन 3 तरीकों से उतारें सेब पर लगी वैक्स

आयरन की कमी

कैल्शियम की कमी के अलावा शरीर में आयरन की कमी भी रात को सोते वक्त पैरों में दर्द का एक कारण हो सकती  है। दरअसल आयरन की कमी के कारण हमारे शरीर में रक्त का प्रवाह सही तरीके से नहीं हो पाता और पैरों की मांसपेशियों में खिचाव होने लगता है, जिसके कारण पैरों में दर्द की समस्या होने लगती है। आप डॉक्टर से पूछ कर इसकी कमी को पूरा करने के लिए आयरन युक्त आहार का सेवन कर सकते हैं। कुछ दिन तक इन चीजों का सेवन आपको पैरों के दर्द से छुटकारा दिला सकता है।

आयरन की कमी दूर करने का तरीका 

  • अपने आहार में फलों को जगह दें।
  • ड्राई फ्रूट्स को अभी अपनी डाइट में शामिल करें। 
  • खजूर, एप्रिकॉट्स, बेरी, तरबूज, अनार, किशमिश और ब्लेकबेरी खाएं।
  • आयरन की कमी दूर करने के लिए खाएं हरी सब्जियां खाएं। 
  • ब्रॉकली, पालक, केल, टर्पिन ग्रीन्स, कॉलर्ड, एसपारागर, मशरूम का भी प्रयोग करें।

इसे भी पढ़ेंः पैरों में आए ये 6 बदलाव हैं इन गंभीर बीमारियों का संकेत, नजरअंदाज करना पड़ सकता है भारी

विटामिन डी की कमी

हाल ही में एक शोध में सामने आया था कि शरीर में विटामिन डी की कमी से लोगों की जिंदगियां छोटी हो रही है। यह इस बात का सबूत देता है कि विटामिन डी हमारे शरीर के लिए कितना जरूरी है। विटामिन डी की कमी से हड्डियों के विकास में रुकावट हो जाती है और हमारे पैर रात को सोते वक्त दर्द करने लगते हैं। विटामिन डी की कमी से पैरों में दर्द की समस्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जाती है। विटामिन डी की कमी किसी को भी नजरअंदाज नहीं करनी चाहिए। इससे छुटकारा पाने के लिए आप विटामिन डी युक्त आहार का सेवन करें। सुबह के समय कुछ देर धूप में टहले।

कमी ऐसे होगी पूरी

  • विटामिन डी और कैल्शियम को आहार में वरीयता दें। 
  • टूना और सॉल्मन मछली, दूध, पनीर और अंडा विटामिन डी के स्रोत हैं। 
  • सुबह के वक्त 15 से 20 मिनट धूप में घूमें, जिससे विटामिन डी बन सके। 
  • विटामिन डी की मात्रा का परीक्षण करवाएं। यदि 20 एनएमएम से कम है तो विटामिन डी का कैप्सूल डॉक्टर के परामर्श से लें। 
  • जीवनशैली को नियंत्रित करें। 
  • याद रखें, आचार-विचार और आहार-विहार स्वस्थ जीवन के आधार हैं।

Read More Articles On Miscellaneous in Hindi

Disclaimer