एंटीबॉडी कॉकटेल क्या है? जानें कोविड के इलाज में कैसे मददगार है ये नया तरीका और इसकी कीमत

CDSCO द्वारा मंजूर की गई 'एंटीबॉडी कॉकटेल' का सफल परिणाम सामने आया है। एंटीबॉडी कॉकटेल किसने बनाई? क्या है इसकी कीमत? जानते हैं...

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: May 28, 2021
एंटीबॉडी कॉकटेल क्या है? जानें कोविड के इलाज में कैसे मददगार है ये नया तरीका और इसकी कीमत

देश में कोरोना (covid-19) से बचाव के लिए फिर एक नई उम्मीद नजर आई है। हाल ही में सीडीएससीओ यानी सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (The Central Drugs Standard Control Organisation- CDSCO) ने एंटीबॉडी कॉकटेल को देश में इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी है। वहीं इसके परिणाम सफल इलाज के रूप में सामने आए हैं। बता दें कि मोनोक्लोनल एंटीबॉडी कॉकटेल (Monoclonal antibody cocktail) की पहली खुराक जिस व्यक्ति को दी गई थी उसे अगले दिन ही अस्पताल से छुट्टी मिल गई। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बता रहे हैं कि क्या हैं पहली डोज के परिणाम? एंटीबॉडी कॉकटेल क्या है और इसका काम क्या है? इसकी कीमत क्या है? इन सभी सवालों के जवाब आपको दिए जा रहे हैं पढ़ते हैं आगे... 

 

बता दें, एंटीबॉडी कॉकटेल का पहला इलाज सफल पाया गया। यह डोज गुरुग्राम स्थित मेदांता हॉस्पिटल में 84 साल के मरीज को दी गई थी। यह जानकारी हॉस्पिटल के डॉक्टर सत्यप्रकाश और चेयरमैन डॉक्टर नरेश त्रेहान ने साझा की। उन्होंने मुताबिक, मंगलवार को मोहब्बत सिंह (संक्रमित व्यक्ति) को यह एंटीबॉडी कॉकटेल का इंजेक्शन दिया गया और अब उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया है। हालांकि डिस्चार्ज के बाद भी उनसे बीच-बीच में स्वास्थ्य से संबंधित फॉलोअप लेते रहेंगे।

डॉक्टर के ट्वीट को पढ़ें-

चेयरमैन डॉक्टर नरेश त्रेहान के ट्वीट को पढ़ें...

When Casirivimab & Imdevimab are injected into infected patient in early stage it blocks virus from entering cells of patient. It is working against #COVID19 & also effective against B.1.617. This is a new weapon: Dr Naresh Trehan, Chairman, Medanta on COVID antibody cocktail pic.twitter.com/YqolNJZU5t

— ANI (@ANI) May 26, 2021

1 - क्या और कैसे करती है एंटीबॉडी कॉकटेल काम?

एंटीबॉडी कॉकटेल, इसे बनाने के लिए उन दो एंटीबॉडी का इस्तेमाल किया गया जो वायरस पर एक जैसा असर डालती हैं। ये दवा संक्रमण को मानवीय कोशिकाओं तक पहुंचने नहीं देती, जिससे वायरस न्यूट्रिशन नहीं प्राप्त कर पाता। ऐसे में ये दवा वायरस के प्रभाव को कम कर देती है। इसका निर्माण Roche ने regeneron के साथ मिलकर किया है। भारत में एंटीबॉडी ड्रग कॉकटेल Casirivimab/imdevimab (REGN-COV2) की सप्लाई कंपनी सिप्ला करेगी। कुछ शहरों में ये दवाई मिल रही है। अब Zydus कंपनी ने भी एंटीबॉडी कॉकटेल के क्लीनिकल ट्रायल की मांग की है।

2 - कैसे मिली मोनोक्लोनल एंटीबॉडी दवा को मंजूरी?

यह दवा अमेरिका के साथ यूरोपीय संघ के कई देशों में पहले से ही उपयोग में लाई जा रही है। ऐसे में सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन यानी सीडीएससीओ ने भी एंटीबॉडी कॉकटेल को इमरजेंसी यूज ऑथराइजेशन के तहत मंजूरी दे दी है। बता दें कि यह दोनों एंटीबॉडी SARS-CoV-2 स्पाइक प्रोटीन पर भी कारगर है।

इसे भी पढ़ें- अब घर पर खुद करें कोरोना की जांच, ICMR ने जारी की एंटीजन टेस्ट किट के लिए एडवाइजरी

3 - कब तक आ जएगी दवा?

बता दें कि जून के मध्य तक एंटीबॉडी कॉकटेल के एक लाख पैक अपने देश में उपलब्ध हो जाएंगे, जिन्हें 2 लाख मरीजों पर इस्तेमाल किया जा सकता है। इस दवा को काफी बड़े पैमाने पर अमेरिका और यूरोप में इस्तेमाल किया जा चुका है। बता दें कि संक्रमित व्यक्ति को जब पहले 7 दिनों के अंदर यह डोज दी जाती है तो 70 से 80% मरीज को इस डोज को लेने के बाद अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं पड़ती है। 

4 - क्या है एंटीबॉडी कॉकटेल की कीमत?

सोमवार को साझा की गई जानकारी के अनुसार, मरीज के लिए एक खुराक 59,750 रुपए निर्धारित की गई है। अगर देश में रिटेल प्राइस की बात की जाए तो मल्टी डोज 1,19,500 रुपये है। 

इसे भी पढ़ें- कोरोना के इलाज की सूची से जल्द हटाया जा सकता है रेमडेसिविर, प्रभावशीलता का नहीं कोई प्रमाण: डॉ. डीएस राणा

5 - किस पर किया जाएगा इस दवा का इस्तेमाल?

इस दवा का इस्तेमाल 12 साल और उससे अधिक वर्षों के बच्चों के साथ-साथ किशोरों पर भी किया जा सकता है। वहीं व्यस्को पर भी इस दवाई का इस्तेमाल किया जा सकेगा। लेकिन उनका वजन न्यूनतम 40 किलोग्राम होना चाहिए।  इसके अलावा वे मरीज जिनमें गंभीर या मध्यम लक्षण है, जो संक्रमण से ग्रस्त हैं लेकिन ऑक्सीजन की जरूरत नहीं है, ऐसे मरीजों पर भी यह दवा कारगर है। 

6 - ये डोज कितना हैवी है?

कंबाइन 1200 एमजी की है, जिसमें 600 एमजी Casirivimab और 600 एमजी imdevimab की है। 

7 - दवा की पहली शीशी खुलने के बाद उसका इस्तेमाल कब तक किया जा सकता है?  

अगर रोगी को खुराक दी जाती है तो 48 घंटे के भीतर दूसरे रोगी को ये खुराक दे सकते हैं। इस दौरान खुराक को 2 डिग्री सेल्सियस से 8 डिग्री सेल्सियस पर रख सकते हैं।

सिप्ला द्वारा दी गई जानकारी पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

नोट - ऊपर बताएगा बिंदु से पता चलता है कि एंटीबॉडी कॉकटेल संक्रमित मरीजों की स्थिति को सुधारने में बेहद उपयोगी है। ऐसे में देश के हालात जल्दी सुधार आ सकेगा।

Read More Articles on Health News in Hindi

Disclaimer