24 घंटे में आए कोविड के 3,545 नए मामले, WHO का दावा भारत में कोरोना से हुई 47 लाख मौतें, मुकरी सरकार

देश में बीते 24 घंटे में कोरोना के 3,545 नए मामले और 27 मौतें दर्ज की गयी हैं वहीं WHO द्वारा जारी मौत के आंकड़ों पर सरकार ने सवाल खड़ा किया है।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: May 06, 2022Updated at: May 06, 2022
24 घंटे में आए कोविड के 3,545 नए मामले, WHO का दावा भारत में कोरोना से हुई 47 लाख मौतें, मुकरी सरकार

देश में कोरोना वायरस के नए मामले लगातार सामने आ रहे हैं। बीते कुछ दिनों से कोरोना के रोजाना सामने आ रहे मामलों में इजाफा हो रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटे में देश में कोरोना के 3,545 नए मामले सामने आये हैं। इस दौरान कोरोना से संक्रमित 27 मरीजों की मौत भी हुई है। नए मामलों के दर्ज होने के बाद देश में अब तक कोरोना से संक्रमित लोगों की कुल संख्या बढ़कर 4,30,94,938 हो गयी है। गौरतलब हो इससे पहले गुरुवार को देश में कोरोना के 3,275 नए मामले दर्ज किये गए थे। देश में कोरोना के मामलों में तेजी के बीच एक्टिव केसलोड भी लगातार बढ़ रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में कोरोना के एक्टिव मामले बढ़कर 19,688 हो गये हैं। देश में अब तक कुल 5,24,002 लोग कोरोना संक्रमण की वजह से जान गंवा चुके हैं। हालांकि देश में कोरोना से होने वाली मौतों के आंकड़ों को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन और भारत सरकार आमने-सामने है।

देश में कोरोना संक्रमण का रिकवरी रेट (Covid Recovery Rate in India in Hindi)

लगातार बढ़ रहे कोरोना के नए मामलों के बीच राहत की खबर यह है कि देश में संक्रमित लोग जल्दी ठीक हो रहे हैं। तीसरी लहर के दौरान कोरोना से संक्रमित होने वाले लोगों में कई गंभीर परेशानियां देखने को मिली थीं लेकिन फिलहाल वैसी स्थिति देखने को नहीं मिल रही है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि दुनियाभर में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के नए मामले चौथी लहर का कारण हो सकते हैं। हालांकि देश में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा मिले आंकड़ों के मुताबिक कोरोना के एक्टिव मामले कुल संक्रमित मामलों का 0.05% ही हैं। इसके अलावा देश में कोरोना का रिकवरी रेट 98.74% दर्ज हुआ है। बीते 24 घंटे में कोरोना के एक्टिव मामलों में भी थोड़ी कमी देखने को मिली है। सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में कोरोना संक्रमण का डेली पॉजिटिविटी रेट 0.76% और वीकली पॉजिटिविटी रेट 0.79% है।

Coronavirus-Cases-WHO-Report

इसे भी पढ़ें : सामने आया कोरोना वायरस का नया XE वैरिएंट, WHO ने बताया ओमिक्रोन से ज्यादा संक्रामक

दिल्ली में कोरोना के मामले (Coronavirus Cases in Delhi in Hindi)

बीते कुछ सप्ताह से राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमण की स्थिति गंभीर बनी हुई है। राजधानी दिल्ली में कोरोना की तीसरी लहर के बाद अब फिर से रोजाना सामने आने वाले नए मामले 1 हजार से ज्यादा बने हुए हैं। दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बीते 24 घंटे के हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक दिल्ली में कोरोना के 1,365 नए मामले दर्ज किये गए हैं। इस दौरान किसी भी मरीज की कोरोना संक्रमण के चलते मृत्यु नहीं हुई है। राजधानी दिल्ली में कोरोना का पॉजिटिविटी रेट 6.35% है और बीते 24 घंटे में कोरोना से संक्रमित 1,472 की रिपोर्ट नेगेटिव भी आई है। राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमण की गंभीर स्थिति से बचने के लिए सरकार अपने स्तर पर कई कदम उठा रही है।

मौत के आकड़ों पर WHO और सरकार आमने-सामने (Indian Govt Rejects WHO Death Report in Hindi)

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने दुनियाभर में कोरोना संक्रमण से हुए मौतों को लेकर अपनी एक रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट को लेकर भारत सरकार और विश्व स्वास्थ्य संगठन आमने-सामने है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट में यह अनुमान लगाया गया है कि भारत में कोरोना संक्रमण और इसके प्रभाव की वजह से 47 लाख लोगों की मौत हुई है। जिसके बाद भारत की तरफ से विश्व स्वास्थ्य संगठन की मॉडलिंग और सैंपलिंग पर ही सवाल खड़ा कर दिया गया है। देश के स्वास्थ्य विशेषज्ञ भी विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी इन आंकड़ों को भरोसे के लायक नहीं बता रहे हैं। एम्स के डायरेक्टर डॉ रणदीप गुलेरिया ने विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी रिपोर्ट पर आपत्ति जताई और कहा कि भारत में जन्म और मृत्यु के पंजीकरण के लिए एक मजबूत प्रणाली है जिसके माध्यम से कोरोना से होने वाली मौतों के आकंडे मौजूद हैं। उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इन आंकड़ों का इस्तेमाल अपनी रिपोर्ट को तैयार करने में नहीं किया है। वहीं भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) के महानिदेशक डॉ बलराम भार्गव समेत नीति योग के सदस्य डॉ वीके पॉल ने भी विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी इस रिपोर्ट पर सवाल उठाये हैं। 

इसे भी पढ़ें : क्या गर्भवती महिलाएं लगवा सकती हैं कोविड वैक्सीन का बूस्टर डोज? जानें डॉक्टर की राय

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी आंकड़ों पर देश के कई प्रमुख वैज्ञानिकों और हेल्थ एक्सपर्ट्स ने भी सवाल खड़ा किया है। गौरतलब हो कि देश में कोरोना संक्रमण के खिलाफ लगातार वैक्सीनेशन प्रोग्राम चलाया जा रहा है। देश में नेशनल वैक्सीनेशन प्रोग्राम के तहत अब तक कुल 189.81 करोड़ वैक्सीन की डोज लोगों को दी गयी है। 

(All Image Source - Jagran.com)

Disclaimer