नाटो और मिसो जैसे फर्मेंटेड सोया उत्पादों के सेवन से मृत्‍यु दर हो सकती है कम, वैज्ञानिको ने किया खुलासा

हाल में हुए एक अध्‍ययन में पाया गया कि मिसो, नाटो या टोफू जैसे किण्वित (फर्मेंटेड) सोया उत्पाद का अधिक सेवन मृत्‍यु दर के खतरे को कम करने से जुड़ा है।

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtUpdated at: Jan 31, 2020 10:36 IST
नाटो और मिसो जैसे फर्मेंटेड सोया उत्पादों के सेवन से मृत्‍यु दर हो सकती है कम, वैज्ञानिको ने किया खुलासा

हाल में जापान में किए गए एक अध्‍ययन के अनुसार, किण्वित (फर्मेंटेड) सोया उत्पाद जैसे मिसो और नाटो, का अधिक सेवन, मृत्यु दर के कम जोखिम से जुड़ा है। शोधकर्ताओं ने कहा कि ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में प्रकाशित निष्कर्षों को सावधानी के साथ व्याख्या की जानी चाहिए क्योंकि वे बिना किसी कारण के प्रभावित हो सकते हैं।

एशियाई देशों, विशेष रूप से जापान में, कई प्रकार के सोया उत्पादों का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है, जैसे कि नाटो - बेसिलस सबटिलिस बैक्टीरिया के साथ किण्वित सोयाबीन, एस्परगिलस ओरेजा बैक्टीरिया के साथ किण्वित सोयाबीन, और टोफू या सोयाबीन दही।

Natto Soy product

हालांकि, जापान में ओसाका यूनिवर्सिटी ग्रेजुएट स्कूल ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ताओं का मानना है कि यह अभी भी स्‍पष्‍ट नहीं है कि विभिन्न सोया उत्पाद, विशेष रूप से किण्वित सोया उत्पादों को विशिष्ट स्वास्थ्य प्रभावों से जुड़े हैं या नहीं।

शोधकर्ताओं ने कई प्रकार के सोया उत्पादों और किसी भी कारण से मृत्यु, और कैंसर, हृदय रोग, श्वसन रोग और चोट के बीच सहयोग का विश्लेषण किया।

शोधकर्ताओं की टीम ने 42,750 पुरुषों, और 50,165 महिलाओं, जिनकी उम्र 45-74 वर्ष की थी, उन पर अपने निष्कर्षों को आधारित किया, जो जापान के सार्वजनिक स्वास्थ्य केंद्र क्षेत्रों में से 11 में आधारित एक अध्ययन में भाग ले रहे थे।

इसे भी पढें: रोजाना अखरोट के सेवन से बुढ़ापे में दिमाग को तेज रखने में मिल सकती है मदद: शोध

प्रतिभागियों ने अपने डाइट की आदतों, जीवन शैली और स्वास्थ्य की स्थिति के बारे में विस्तृत प्रश्नावली भरी। जिसमें कि लगभग 15 वर्षों की अनुवर्ती अवधि में आवासीय रजिस्ट्रियों और मृत्यु प्रमाणपत्रों से मृत्यु की पहचान की गई थी।

Fermented Soy Product Linked to Lower Morality Risk

शोधकर्ताओं ने पाया कि किण्वित सोया (नाटो, टोफू और मिसो) का अधिक सेवन सभी मृत्यु दर के काफी कम यानि लगभग 10 प्रतिशत जोखिम को कम करने से जुड़ा था। हालांकि, उन्होंने कहा, कुल सोया उत्पाद का सेवन सभी मृत्यु दर से जुड़ा नहीं था।

अध्ययन में यह भी पाया गया कि जिन पुरुषों और महिलाओं ने नाटो का सेवन किया, उनमें उन लोगों की तुलना में हृदय संबंधी मृत्यु दर का जोखिम कम था, जिन्होंने नाटो नहीं खाया था। जबकि सोया सेवन और कैंसर से संबंधित मृत्यु दर के बीच कोई संबंध नहीं था। 

 

इसे भी पढें: होम्योपैथिक, यूनानी दवाओं से कोरोनावायरस की रोकथाम के दावे पर आयुष मंत्रालय का यू-टर्न, लोगों ने बनाया था मजाक

शोधकर्ताओं ने उल्लेख किया कि सब्जियों के सेवन के लिए और अधिक समायोजन के बाद भी ये परिणाम बने रहे, जो कि नाटो के बड़े हिस्से का उपभोग करने वालों में अधिक था। 

शोधकर्ताओं ने कहा, "सोयाबीन की उच्च दर के साथ जापान में किए गए इस बड़े संभावित अध्ययन में, कुल सोया उत्पादों के सेवन और मृत्यु दर के बीच कोई महत्वपूर्ण संबंध नहीं पाया गया। लेकिन "इसके विपरीत, किण्वित सोया उत्पादों (नाटो और मिसो) का अधिक सेवन मृत्यु दर के कम जोखिम से जुड़ा था"। 

Read More Article On Health News In Hindi 

  

Disclaimer