रोजाना अखरोट के सेवन से बुढ़ापे में दिमाग को तेज रखने में मिल सकती है मदद: शोध

हाल में हुए एक शोध के अनुसार अखरोट आपके दिमाग को तेज रखने और संज्ञात्‍मक कार्यों में गिरावट को कम कर सकता है। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Jan 30, 2020
रोजाना अखरोट के सेवन से बुढ़ापे में दिमाग को तेज रखने में मिल सकती है मदद: शोध

अखरोड एक सुपरफूड में से एक है, जो कि आपको स्‍वस्‍थ जीवन जीने में मदद कर सकता है। क्‍योंकि अखरोट हेल्‍दी फैट, फाइबर, विटामिन और मिनरल्‍स से भरपूर है, इसलिए इसका रोजाना सेवन आपको कई फायदे पहुंचा सकता है। जी हां हाल में कैलिफोर्निया और स्पेन के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्ययन में कहा गया है कि स्वस्थ, बुजु्र्ग वयस्कों द्वारा अखरोट का सेवन दो वर्षों में संज्ञानात्मक कार्य पर बहुत कम प्रभाव पड़ता है, लेकिन उन बुजुर्ग वयस्कों पर इसका काफी अधिक प्रभाव पड़ा है, जिन्होंने अधिक धूम्रपान किया था और कम आधारभूत न्यूरोसाइकोलॉजिकल परीक्षण स्कोर प्राप्‍त किया था।

क्‍योंकि अखरोट में ओमेगा -3 फैटी एसिड और पॉलीफेनोल होते हैं, जो पहले ऑक्सीडेटिव तनाव और सूजन का मुकाबला करने के लिए पाए गए हैं, दोनों संज्ञानात्मक गिरावट को कम या धीमा करने में मददगार हैं। इतना ही नहीं, कुछ अध्‍ययन में अखरोट आपके आंत स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाने और कोलेस्‍ट्रोल लेवल में सुधार करने में भी सहायक पाया गया है। 

Walnuts for Sharp mind in old age

इसे भी पढें: प्रीमेच्योर बर्थ (समय से पहले डिलीवरी) का खतरा कम कर सकती है एस्पिरिन की टैबलेट, वैज्ञानिकों ने खोजी संभावनाएं

'द अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रिशन’में प्रकाशित अध्ययन में  लोमा लिंडा, कैलिफोर्निया, अमेरिका में लगभग 640 फ्री रहने वाले बुजुर्गों की दो साल के लिए बार्सिलोना, कैटेलोनिया, स्पेन में जांच की गई। जिसमें दो साल तक परीक्षण में एक समूह के दैनिक आहार में अखरोट को शामिल किया गया, और दूसरे समूह के आहार से अखरोट को हटा दिया गया।

अध्ययन के मुख्य शोधकर्ता जोआन साबेट ने कहा, "जबकि यह एक मामूली परिणाम था, यह अधिक समय तक आयोजित किए जाने पर बेहतर परिणाम दे सकता है।"

"विशेष रूप से वंचित आबादी के लिए हमारे निष्कर्षों के आधार पर आगे की जांच निश्चित रूप से वारंट है, जो अखरोट और अन्य नट्स को अपने डाइट में शामिल करने से सबसे अधिक लाभ हो सकता है।"

इसे भी पढें: खून का कैंसर (ल्यूकीमिया) क्यों बढ़ता है तेजी से? वैज्ञानिकों ने खोज ली है वजह, आसान हो जाएगा इलाज

पहली बार 1993 में न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में निष्कर्ष प्रकाशित किए गए थे, जिसमें लोमा लिंडा विश्वविद्यालय में साबेट और उनकी शोध टीम ने सबसे पहले अखरोट की खपत को कम करने वाले खून के कोलेस्ट्रॉल को कम करने के साथ कोलेस्ट्रॉल के कम प्रभाव की खोज की थी। इसके बाद, लोमा लिंडा विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के निष्कर्षों ने अखरोट के सेवन को हृदय रोगों के कम जोखिम से जोड़ा है।

अखरोट के संभात्‍मक प्रभाव को देखते हुए, शोधकर्ताओं ने कहा कि यदि आप अखरोट नियमित रूप से खाते हैं, तो यह आपको बुढ़ापे में तेज दिमाग रखने में मदद कर सकता है। 

Read More Article On Health News In Hindi 

Disclaimer