कम्युनिटी ट्रांसमिशन के स्टेज में पहुंचा ओमिक्रॉन, केन्द्र सरकार ने कहा बढ़ रही है आईसीयू मरीजों की संख्या

कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इन दिनों ओमिक्रॉन के नए मामले लगातार लाखों की संख्या में आ रहे हैं। आइए जानते हैं इसके बारे में-

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jan 24, 2022Updated at: Jan 24, 2022
कम्युनिटी ट्रांसमिशन के स्टेज में पहुंचा ओमिक्रॉन, केन्द्र सरकार ने कहा बढ़ रही है आईसीयू मरीजों की संख्या

कोरोना के मामले दिन ब- दिन बढ़ते नजर आ रहे हैं। हर रोज लाखों की संख्या में नए केस सामने (Omicron in india) आ रहे हैं। ऐसे में यह एक चिंता का विषय बना हुआ है। भारत में बीते दिन कोरोना के 3.06 लाख नए मामले सामने आ रहे हैं। वहीं, मरने वालों की संख्या 439  है। वहीं, कर्नाटक में पिछले 24 घंटे में 50,210 नए केस सामने आए हैं, जिसे देखकर लोगों में काफी चिंता बढ़ गई है। इस बीच केंद्र सरकार द्वारा गठित कोविड-19 के जीनोम अनुक्रमण का विश्लेषण करने वाले समूह इंडियन सार्स-कोव-2 जीनोमिक कंसोर्टियम (INSACOG ) ने ताजा बुलेटिन जारी किया है। इसमें कहा गया है कि भारत में ओमिक्रॉन का स्वरूप सामुदायिक संक्रमण के स्तर पर है। कोरोना वायरस के मामले जिन महानगरों में तेजी से वृद्धि देखी जा रही है, वहां यह हावी हो गया है। 

सतर्क रहने की है जरूरत, खतरे में परिवर्तन नहीं 

इतना नहीं INSACOG का कहना है कि देश में ओमिक्रॉन के संक्रामक उप-स्वरूप बीए.2 की कुछ हिस्सों में मौजूदगी मिली है। अब तक ओमिक्रॉन के सामने आए मरीजों में संक्रमण के लक्षण नहीं दिखे हैं या जिन लोगों में लक्षण सामने आए भी हैं, तो काफी हल्के लक्षण हैं। कोरोना के इस लहर में आईसीयू में भर्ती होने वालों की संख्या बढ़ रही है। खतरे के स्तर में परिवर्तन नहीं हुआ है। 

इसे भी पढ़ें - सरकार ने कोरोना के इलाज के लिए जारी की नई गाइडलाइन, इन दवाओं और थेरेपीज पर लगाई रोक

महानगरों में हावी हो रहा कोरोना

जीनोम अनुक्रमण के बुलेटिन में कहा गया है कि भारत में ओमिक्रॉन का प्रसार सामुदायिक स्तर पर हो रहा है। विभिन्न महानगरों में कोरोना हावी हो गया है। खासतौर पर जहां नए मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, वहां बीए.2 उप स्वरूप की मौजूदगी मिली है। ऐसे में एस जीन ड्रॉपआउट आधारित स्क्रीनिंग के दौरान संक्रमण का पता न चलने की आशंका काफी ज्यादा है। इस वायरस के जेनेटिक बदलाव से तैयार ‘एस-जीन' का स्वरूप ओमिक्रॉन जैसा ही है।

आगे कहा गया है कि कोरोना के बी.1.640.2 वेरिएंट की निगरानी की जा रही है। यह हाल में सामने आया वेरिएंट  है। फिलहाल इसके तेजी से फैलने का सबूत नहीं मिला है। हालांकि, यह प्रतिरक्षा प्रणाली को भेज सकता है। लेकिन फिलहाल यह चिंताजनक स्वरूप नहीं है। भारत में अब तक इस तरह के मामलों का पता नहीं चला है। 

महाराष्ट्र और कर्नाटक में तेजी से बढ़ रहे केस 

बता दें कि महाराष्ट और कर्नाटक में लगातार कोरोना वायरस के केस बढ़ रहे हैं। रविवार को कर्नाटक में कोरोना वायरस के 50,210 नए मामले सामने आए हैं। बता दें कि इससे पहले 5 मई 2021 को कर्नाटक में 50,112 मामले सामने आए थे। कर्नाटक में पिछले 24 घंटों में कोरोनो से संक्रमित 19 मरीजों की मौत हुई है। वहीं, 22,842 लोग कोरोना से रिकवर हुए हैं। अब तक इस राज्य में 3121274 लोग कोरोना से रिकवर हो चुके हैं। वहीं, महाराष्ट्र की बात की जाए, तो यहां कोरोना के पिछले 24 घंटों में 40,805 नए मामले सामने आए हैं। वहीं, 44 लोगों की मौत हुई है। यहां अब तक 2,93,305 मामले एक्टिव हैं। 

इसे भी पढ़ें - अच्छी खबर: देश में बढ़ रहे कोरोना के मामले पर R-Value में दिखी गिरावट, जानें कोरोना से जुड़े सभी ताजा अपडेट्स

भारत में कोरोना के मामले लगातर बढ़ रहे हैं। ऐसे में हर एक व्यक्ति को सतर्क होने की जरूरत है। ध्यान रखें कि कोरोना से बचाव के लिए सतर्कता ही बेहद जरूरी है। इसलिए कहीं भी बाहर जाने से पहले मास्क जरूर पहनें। घर को साफ-सुथरा रखें। बाहर से आने के बाद खुद को सैनिटाइज करें। हाथों को बार-बार धोएं। कोरोना का टीका अवश्य लगाएं। ताकि आप और आपका परिवार कोरोना से सुरक्षित हो सके।

 

Disclaimer