कॉकरोच एलर्जी क्या है? जानें इसके खतरे, लक्षण और बचाव के उपाय

बरसात के मौसम में अगर आपके घरों में कॉकरोच की संख्या बढ़ गई है, तो इसे नजरअंदाज ना करें। इससे आपको कॉकरोच एलर्जी हो सकती है।

Monika Agarwal
अन्य़ बीमारियांWritten by: Monika AgarwalPublished at: Jul 17, 2021Updated at: Jul 17, 2021
कॉकरोच एलर्जी क्या है? जानें इसके खतरे, लक्षण और बचाव के उपाय

कॉकरोच ऐसे इंसेक्ट हैं जो भारत में लगभग 60% घरों या बिल्डिंग में देखने को मिल जाएंगे। इनसे परेशान भी होते हैं। यह अधिकतर सिंक के पाइप, फ्रिज के को,ने घर के कोनों में, या फिर किसी भी सीलन वाली जगह पर चिपके रहते हैं। कॉकरोच ज्यादातर रात में निकलते हैं और लाइट से दूर भागते हैं। बहुत से लोगों को कॉकरोच से एलर्जी (Cockroach Allergy) हो सकती है जोकि उनके अस्थमा या एलर्जी को और अधिक बढ़ा देती है। वैसे तो कॉकरोच गर्मियों के मौसम में ज्यादा देखने को मिलते हैं। स्टडीज के मुताबिक अगर आपको यह कॉकरोच से एलर्जी (Cockroach Allergy) हो जाती है और उसके बाद आपको अस्थमा अटैक पड़ता है तो आपको अस्पताल में भर्ती होने तक की नौबत भी आ सकती है। आइए जानते हैं इसके बारे में अधिक विस्तार से और इसके साथ ही इसके लक्षण, उपचार के बारे में भी जानेंगे।

Inside4Cockroach

क्या है कॉकरोच एलर्जी-What is Cockroach allergy?

कॉकरोच में एक ऐसा प्रोटीन होता है जो लोगों के लिए एक प्रकार के एलर्जन का काम करता है और ये एलर्जिक इम्यून रिएक्शन का कारण बनता है। कॉकरोच का मल, सलाइवा और बॉडी पार्ट एक एलर्जन का ही काम करते हैं। यहां तक कि मरे हुए कॉकरोच भी एक्टिव एलर्जन हो सकते हैं।

कॉकरोच एलर्जी के लक्षण-Symptoms of Cockroach Allergy

कॉकरोच एलर्जी  से होने वाले कुछ आम और कॉमन लक्षण निम्न हैं : 

  • -छींक आना
  • -नाक बहना
  • -आंखें बहना और आंखें लाल हो जाना और उनमें खुजली होना
  • -मुंह और गले, नाक में खुजली होना
  • -खांसी होना
  • -स्किन पर खुजली होना
  • -कॉकरोच एलर्जी से अस्थमा लक्षण

इसे भी पढ़ें : FSSAI ने बताया कैंटीन को कीड़ा मुक्त करने का 4D नियम, इन्हें अपनाकर आप भी किचन से भगा सकते हैं कीड़े-मकोड़े

अगर आपकी कॉकरोच एलर्जी (Cockroach Allergy) से अस्थमा ट्रिगर हो सकती है तो इससे आपको निम्न लक्षण देखने को मिल सकते हैं : 

  • -सांस लेने में तकलीफ होना।
  • -छाती में खिंचाव होना या दर्द होना।
  • -सांस लेते समय सिटी बजने की आवाज आना।
  • -सांस न ले पाने की वजह से नींद न आना।
Inside5CockroachAllergy

आप कॉकरोच एक्सपोजर से किस प्रकार बच सकते हैं-Prevention Tips

  • -सभी प्रकार की ट्रैश कैंस को ढंक दें।
  • -खाने को एयर टाइट कंटेनर में रखें ताकि उनमें कॉकरोच न घुस सके।
  • -सभी झूठे बर्तनों को साफ रखें और उन्हें सिंक या काउंटर पर ज्यादा समय तक न रखें।
  • -अगर किचन, टेबल या किसी भी जगह पर थोड़ा बहुत खाना या खाने के टुकड़े पड़े रह जाते हैं तो उसे जल्द से जल्द साफ कर दें।
  • -पालतू के खाने आदि को भी कहीं पर खुला न छोड़ें या कहीं पर पड़ा न रहने दें।
  • -बेसमेंट या सिंक आदि में अगर कोई पाइप लीक कर रहा है तो उसे जल्द ही ठीक करवा लें।
  • -अगर दीवार या फ्लोर पर कहीं क्रैक आ गया है तो उसे ठीक करवा लें।

इसे भी पढ़ें : किचन के कीड़े-मकौड़ों को मार देता है पुदीने का पौधा, जानें कैसे

कॉकरोच एलर्जी का ट्रीटमेंट क्या है (Allergy Treatment)

सबसे खास बात यह है कि आपको कॉकरोच से जितना हो सके उतना दूर रहना है और उसके एक्सपोजर से खुद को बचाएं। कॉकरोच भगाने का उपाय करें। ताकि आपके लक्षण जल्द से जल्द ठीक हो सकें। हालांकि आपको कुछ दवाइयों की भी जरूरत पड़ सकती है ताकि कॉकरोच  एलर्जी (Cockroach Allergy) कम हो सके। इस प्रकार की रिएक्शन से आप को ठीक करने के लिए आपके डॉक्टर आपको निम्न दवाइयां या स्प्रे आदि दे सकते हैं लेकिन इन का प्रयोग बिना डॉक्टर के सुझाव के बिलकुल न करें।

एंथिस्टामिन : यह पिल्स, लिक्विड और नोज स्प्रे के रूप में उपलब्ध है और यह छींक और खुजली को कम करने में लाभदायक है।

नेसल कोर्टी को स्टीरॉयड : यह नोज स्प्रे का एक प्रकार है और यह एलर्जी के लक्षणों से राहत दिलाने में लाभदायक है। यह नाक को सूजन को भी कम करता है।

क्रॉमिलिन सोडियम : यह एक स्प्रे है और उन केमिकल्स को रिलीज होने से रोकता है जिस कारण एलर्जी अधिक बढ़ती है।

अगर आपको इस कारण अस्थमा हो जाता है तो आपके डॉक्टर आपको एंटी इंफ्लेमेट्री दवाइयां भी दे सकते है। कुछ लोगों को दवाइयों और स्प्रे आदि से लक्षणों में कोई फर्क महसूस नहीं होता। अगर आप के साथ भी ऐसा है तो आपके डॉक्टर आपको इम्यूनों थेरेपी दे सकते हैं। यह एक लंबे समय तक चलने वाला उपचार होता है जो एलर्जिक रिएक्शन की गंभीरता से आप को बचाता है। इसके साथ ही अपने घर को साफ सुथरा भी रखें।

Read more articles on Other-Diseases in Hindi

Disclaimer