क्या कम उम्र में ही झड़ने लगे हैं आपके बाल? डॉक्टर से जानें इसके 9 कारण

कम उम्र में बाल झड़ना इन दिनों काफी बड़ी समस्या हो चुकी है। ऐसे में इस समस्या का कारण जानना बहुत ही जरूरी है। चलिए जानते हैं इसके बारे में-

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Sep 13, 2021Updated at: Sep 13, 2021
क्या कम उम्र में ही झड़ने लगे हैं आपके बाल? डॉक्टर से जानें इसके 9 कारण

बाल झड़ना इन दिनों काफी बड़ी समस्या हो गई है। एक उम्र के बाद अगर बाल झड़े, तो यह सामान्य सी बात लगती है। लेकिन इन दिनों युवावस्था और किशोरावस्था में भी बाल झड़ने की समस्या होने लगी है, जो एक परेशानी का कारण बन चुका है। कम उम्र में बाल झड़ना इन दिनों लोगों को काफी ज्यादा परेशान कर रहा है। क्योंकि अगर शुरुआत में ही उनके बाल झड़े, तो आगे चलकर यह और ज्यादा परेशानी का कारण बन सकते हैं। ऐसे में हमें बाल झड़ने का मूल कारण जानने की जरूरत है। ताकि बाल झड़ने का सही कारण जानकर इसका सही उपचार कर सकें। आज हम आपको इस लेख में कम उम्र में बाल झड़ने का कारणों के बारे में बताने जा रहे हैं, ताकि आप अपनी इन समस्याओं को दूर करने का प्रयास कर सकें। चलिए जानते हैं कम उम्र में क्यों झड़ते हैं बाल?

कम उम्र में क्यों झड़ते हैं बाल?

दिल्ली के डर्मेटॉलोजिस्ट डॉक्टर एसके कश्यप का कहना है कि किशोरावस्था में कई शारीरिक हार्मोनल बदलाव होते हैं। जिसके कारण नींद की कमी, अत्यधिक तनाव की स्थिति उत्पन्न होने लगती हैं। ऐसे में अगर बालों का खास ख्याल न रखा जाए, तो आपके बाल झड़ सकते हैं। इसके अलावा कई अन्य कारण हैं, जिसके कारण आपके बाल झड़ सकते हैं। जैसे-अनुवांशिक, मनोवैज्ञानिक इत्यादि। चलिए विस्तार से जानते हैं इसके बारे में-

इसे भी पढ़ें - बालाें के लिए शैम्पू, कंडीशनर, जेल खरीदते समय चेक कर लें ये 4 इंग्रीडिएंट्स, प्रयोग से खराब हो सकते हैं बाल

1. हार्मोनल बदलाव

डॉक्टर का कहना है कि टीनएज में शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिसके कारण बाल झड़ने की भी समस्या हो सकती है। बालों के विकास को नियंत्रित करने में थायराइड और प्रजनन हार्मोंन का विशेष योगदान है। अगर इन दोनों हार्मोंस में किसी भी तरह की समस्या उत्पन्न होती है, तो युवा और किशोरावस्था में आपके बाल तेजी से झड़ सकते हैं। डॉक्टर का कहना है कि इन दिनों कम उम्र में ही लोग थायराइड असंतुलन के शिकार हो रहे हैं, जिसके कारण कम उम्र में ही बाल झड़ने की समस्या हो रही है। इसके अलावा अगर कम उम्र में महिलाएं पीसीओएस से संबंधित बीमारी की शिकार हो रही हैं, तो किशोरावस्था में बाल झड़ने की समस्या हो सकती है।

2. ज्यादा दवाइयों का सेवन करना

किशोरावस्था के दौरान कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिसके कारण शरीर को कई तरह की समस्याएं होती हैं। इन समस्याओं से बचने के लिए अगर आप बच्चों को ज्यादा दवाइयां देते हैं, तो उनके बाल झड़ सकते हैं। कुछ लोग पिंपल्स से बचने के लिए भी दवाइयों का सेवन करने लग जाते हैं, जो बिल्कुल गलत है। किरोरावस्था में पिंपल्स होना सामान्य है, इससे बचने के लिए दवाइयों का सेवन एकमात्र सहारा नहीं होता है। अगर आपको पिंपल्स की परेशानी ज्यादा हो रही है, तो डॉक्टर से संपर्क करें। ताकि डॉक्टर आपको उचित सलाह दे सकते हैं। इसके अलावा अगर आप ज्यादा एंटी-एक्ने, एंटीबायोटिक और एंटीडिप्रेसेंट की दवा लेते हैं, तो आपके बाल तेजी से झड़ सकते हैं। इसलिए ज्यादा दवाइयों के सेवन से बचें। 

3. ट्रैक्शन एलोपेसिया के कारण

ट्रैक्शन एलोपेसिया का अर्थ है, बालों पर बहुत अधिक खिंचाव होना। अगर किसी कारण से आपके बालों पर काफी ज्यादा खिंचाव हो रहा है, तो आपको बाल झड़ने की समस्या हो सकती है। ट्रैक्शन एलोपेसिया उन लोगों को अधिक होता है, जो लंबे समय तक हेलमेट, मैनबन, ब्रेड्स, ओवरहेड ईयरफोन का अधिक इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा कुछ लोग बालों को लंबे करने के लिए कुछ ऐसे हेयल स्टाइल अपनाते हैं, जिससे बालों में खिंचाव उत्पन्न होता है, जिसके कारण बाल झड़ने की समस्या हो सकती है।  

इसे भी पढ़ें - मॉनसून में बाल झड़ने और डैंड्रफ जैसी समस्याओं के लिए यूज करें त्रिफला और भृंगराज हेयर मास्क

4. स्ट्रेस बढ़ना

डॉक्टर का कहना है कि किशोरावस्था में लोगों पर काफी ज्यादा प्रेशर होता है। खासतौर पर इन दिनों पढ़ाई से लेकर खेलकूद में प्रतिस्पर्धा काफी ज्यादा बढ़ गई है, जिसके कारण कम उम्र में ही लोग काफी ज्यादा तनाव लेने लगे हैं। मानसिक तनाव बढ़ने से बालों का झड़ना सामान्य है। अगर आप बाल झड़ने की समस्या से बचना चाहते हैं, तो तनाव को खुद से दूर रखें। इससे बाल झड़ने की समस्या से काफी हद तक बचा जा सकता है। 

5. हेयर स्टाइलिंग टूल का अधिक इस्तेमाल

इन दिनों लोग अपने लुक को बेहतर करने के लिए कई तरह के हेयर स्टाइलिंग टूल्स का इस्तेमाल करने लगे हैं। अगर इन टूल्स के इस्तेमाल से आपके बालों को नुकसान पहुंचता है। अगर आप जरूरत से ज्यादा या बार-बार इन टूल्स का इस्तेमाल करते हैं, तो आपके बाल झड़ सकते हैं। इसलिए हो सके तो इन चीजों के इस्तेमाल से बचें। किशोरावस्था में अपने बालों को कलर न करें। इससे आपके बाल कम उम्र में ही झड़ने शुरू हो सकते हैं। 

6. ट्रिचोटिलोमेनिया डिसऑर्डर

यह एक मानसिक बीमारी है, जिसमें व्यक्ति अपने खुद के बालों को खींचने लगता है। ट्रिचोटिलोमेनिया डिसऑर्डर से ग्रसित व्यक्ति के स्कैल्प पर गंजेपन के पैचेस बनने लगते हैं। यह एक ऐसी समस्या है, जिसके कारण बाल झड़ सकते हैं। यह समस्या पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिक होती है। 

7. मेडिकल समस्याएं

कुछ बीमारियों की वजह से भी कम उम्र में बाल झड़ने की समस्या हो सकती है। खासतौर पर स्कैल्प से जुड़ी समस्याएं होने पर आपके बाल झड़ सकते हैँ। जैसे- एग्जिमा, सोरायसिस, फंगल इंफेक्शन इत्यादि।

8. पोषक तत्वों की कमी

शरीर में पोषक तत्वों की कमी के कारण भी आपके बाल झड़ सकते हैं। इन दिनों लोग रिफाइंड आटा, चीनी और रिफाइंड तेल का इस्तेमाल काफी ज्यादा करने लगे हैं, जो सेहत के लिए अनहेल्दी माना जाता है। ऐसी चीजों के सेवन से शरीर में पोषक तत्वों की कमी होने लगती है। अगर आप ऐसी चीजों का सेवन करते हैं, तो आपके बाल कम उम्र में ही झड़ने लग सकते हैं। साथ ही इससे बच्चों को भी नुकसान होता है। इसके अलावा शरीर में आयरन की कमी, विटामिन सी, कैल्शियम और प्रोटीन की कमी के कारण कम उम्र में बाल झड़ने की शिकायत हो सकती है। 

बाल झड़ना एक सामान्य समस्या हो सकती है। लेकिन अगर आपके या फिर आपके बच्चों के कम उम्र में ही काफी ज्यादा बाल टूट रहे हैं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। ज्यादा बाल टूटना भी गंभीर समस्याओं की ओर इशारा कर सकते हैं। इसलिए बाल झड़ने की समस्या को नजरअंदाज न करें।

Read More Articles on Other diseases in Hindi

Disclaimer