Castor Oil: त्वचा-बालों ही नहीं, सेहत के लिए भी बहुत गुणकारी है अरंडी का तेल, जानें इसके फायदे और नुकसान

कैस्टर ऑयल स्किन ही नहीं, बल्कि सेहत के लिए भी गुणकारी साबित हो सकता है। इसके इस्तेमाल से आपको कई फायदे होते हैं। आइए जानते हैं इस बारे में विस्तार से

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jan 18, 2021Updated at: Jan 18, 2021
Castor Oil: त्वचा-बालों ही नहीं, सेहत के लिए भी बहुत गुणकारी है अरंडी का तेल, जानें इसके फायदे और नुकसान

स्किन और बालों के लिए अरंडी का तेल (castor Oil) बहुत ही फायदेमंद होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह हमारे स्वास्थ्य के लिए भी काफी अच्छा साबित हो सकता है। कैस्टर ऑयल हमाले लिए रामबाण औषधी के समान कार्य करते हैं। सर्दियों में अरंडी के तेल का इस्तेमाल करना हमारे लिए बहुत ही फायदेमंद साबित हो सकता है। कैस्टर ऑयल गंधहीन और बेस्वाद तेल है, जो एक पौधे के बीजों से तैयार होता है। इस तेल का वैज्ञानिक नाम रिकिनस कम्युनिस है। भारतीय घरों में इस तेल का इस्तेमा औषधी के रूप में किया जाता है। यह तेल हमारे शरीर के लगभग सभी तरह के रोगों को दूर करने में हमारी मदद करता है। अरंडी के तेल से गठिया जैसी परेशानी को दूर किया जा सकता है। इसके साथ ही इसके इस्तेमाल से मासिक धर्म संबंधी विकार और कब्ज की परेशानी से राहत मिलता है। अरंडी का तेल का इस्तेमाल ना सिर्फ स्किन की परेशानियों को दूर करने के लिए किया जाता है, बल्कि इससे पेट से जुड़ी परेशानियां भी दूर हो सकती हैं। गाजियाबाद स्वर्ण जयंती के आयुर्वेदाचार्य डॉक्टर राहुल चतुर्वेदी का कहना है कि कैस्टर ऑयल में प्राकृतिक एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुण मौजूद होते हैं, जो हमारे शरीर में विभिन्न संक्रमण को फैलने से रोकता है। इसके साथ ही इस तेल का इस्तेमाल कई तरह की दवाईयों, स्किनकेयर प्रोडक्ट्स और शैंपू में इस्तेमाल किया जाता है। आइए एक्सपर्ट से जानते हैं अरंडी तेल किस तरह करता है कार्य और इस तेल के फायदे-नुकसान (Benefit and Side effects of castor Oil) क्या हैं। 

अरंडी का तेल कैसे करता है काम (How Castor Oil Works)

आयुर्वेदाचार्य राहुल चतुर्वेदी बताते हैं कि अरंडी के तेल में फ्लेवोनोइड्स, फैटी एसिड, फेनोलिक यौगिक, अमीनो एसिड, फाइटोस्टेरोल और टेरेपीनोइड जैसे कई आवश्यक तत्व होते हैं, जो हमारे शरीर के लिए गुणकारी साबित हो सकते हैं। इसके अलावा इस तेल में कई और गुण मौजूद हैं। जैसे-

  • मधुमेह रोधी
  • रोगाणुरोधी
  • एंटी-इंफ्लेमेटरी
  • हेपेटोप्रोटेक्टिव
  • खनिज पदार्थ
  • विटामिन ई
  • प्रोटीन
  • ओमेगा 6 और ओमेगा 9 (अच्छा वसा)
  • रिकिनोलेइक एसिड
  • एंटीऑक्सीडेंट
घाव और जख्म को जल्दी भरने की क्षमता इत्यादि गुण कैस्टर ऑयल में छिपे हैं। 

अरंडी का तेल उपयोग ( Castor oil use in hindi)

कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल इस बात पर निर्भर करता है कि आप किन चीजों के लिए इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। अगर आप हेल्दी शरीर के लिए इसका इस्तेमाल कर रहे हैं, तो आप इसका थोड़ी सी मात्रा में इसका सेवन कर सकते हैं। वही, अगर आपको उल्टी या फिर मतली की शिकायत है, तो आप इस तेल से अपने पेट पर मालिश करें। स्किन और बालों पर मुख्य रूप से कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल किया जाता है। स्किन और बालों में डायरेक्ट आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा घाव के लिए भी यह फायदेमंद होता है। यह घाव में पनपने वाले संक्रमण को तेजी से रोकता है।

इसे भी पढ़ें- आपकी स्किन के लिए बहुत फायदेमंद है कुमकुमादि तेल, जानें इसे कितने तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं आप

कैस्टर ऑयल के फायदे (Benefits of Castor Oil)

इम्यूनिटी करता है बूस्ट

कैस्टर ऑयल रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मददगार साबित हो सकता है। अरंडी तेल के इस्तेमाल से ब्लड सर्कुलेशन, लसीका प्रणाली और थाइमस ग्रंथि के स्वास्थ्य में सुधार करता है। इस तेल के इस्तेमाल से शरीर में लिम्फोसाइटों का उत्पादन बढ़ता है, जो शरीर को विषाक्त पदार्थों से दूर करते हैं और जीवाणुओं से लड़ने में हमारी मदद करते हैं।

ब्लड सर्कुलेशन को करता है बेहतर 

ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर करने में अरंडी का तेल फायदेमंद होता है। यह तेल हमारे शरीर के लसीका प्रणाली (Lymphatic system) को स्वस्थ रखने में हमारी मदद करता है। यह छोटी केशिकाओं और धमनियों के जरिए हमारे हृदय से शरीर के अन्य हिस्सों में ब्लड सर्कुलेशन बेहतर करता है।  

कब्ज का करता है इलाज

अरंडी तेल के इस्तेमाल से कब्ज की परेशानी दूर रहती है। कैस्टर सीड ऑयल में किनोलेइक एसिड की प्रचुरता होती है, जो मल को नियमित रूप से त्याग करने में मददगार होता है। इसमें कई पोषक तत्व मौजूद होता है। अरंडी तेल के इस्तेमाल से कब्ज, इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (IBS), पेट में ऐंठन जैसी परेशानियां दूर रहती है। 

गठिया की समस्या होगी दूर 

कैस्टर ऑयल गठिया रोगियों के लिए फायदेमंद होता है। सन् 2015 में इंटरनेशनल जर्नल ऑफ इनोवेटिव रिसर्च इन टेक्नोलॉजी (IJIRT) में प्रकाशित हुए अध्ययन के मुताबिक अरंडी तेल के इस्तेमाल से गठिया रोग से बचाव किया जा सकता है। इस तेल को बॉडी में लगाने से जोड़ों और घुटनों के दर्द से राहत मिलता है। यह तेल हड्डियों में सूजन की परेशानी को दूर करने में हमारी मदद करता है। दरअसल, अरंडी के तेल में रिकिनोलेइक, लिनोलेनिक, और अन्य फैटी एसिड पाया जाता है, जो गठिया और जोड़ों के दर्द को दूर करता है। 

इसे भी पढ़ें - पीपल की पत्तियों में होते हैं कई बेहतरीन औषधीय गुण, जानें इन 6 तरह की समस्याओं में कैसे करें इस्तेमाल

अरंडी तेल के नुकसान (Side Effects of Castor Oil)

बढ़ा सकता है डिलीवरी पैन - गर्भवती महिलाओं को कैस्टर ऑयल के इस्तेमाल से बचना चाहिए। उन्हें गर्भावस्था के सभी चरणों में इस तेल का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। क्योंकि यह ऑयल आपके डिलीवरी पैन को बढ़ा सकती है। इसके साथ ही अगर आप इस तेल का इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो डॉक्टर्स से संपर्क जरूर करें। 

हो सकता है गर्भपात - अगर आप गर्भवती महिलाएं कैस्टर ऑयल का सेवन करती हैं, तो इससे गर्भपात होने का खतरा रहता है। इस तेल के सेवन से पेल्विक में संकुचन बढ़ जाता है, जिसके कारण गर्भपात या फिर समय से पहले डिलीवरी होने की संभावना हो जाती है। 

डायरिया (दस्त) - यह कैस्टर ऑयल के सेवन डायरिया का खतरा रहता है। इसलिए इसका सेवन सीमित मात्रा में करें। 

इसे भी पढ़ें - नाभि में नारियल तेल लगाने से सर्दियों की समस्या से मिलेगी राहत, जानिए इसके और भी फायदे

एलर्जी की हो सकती है समस्या - त्वचा पर कैस्टर ऑयल लगाने से आपको किसी तरह की समस्या हो रही है, तो इस तेल को ना लगाएं। इससे आपकी परेशानी बढ़ सकती है।

 

Read More Articles on   Ayurveda in Hindi

 

 

Disclaimer