हार्ट का साइज बढ़ने के क्या हैं कारण? जानें इसके लक्षण और बचाव के टिप्स

हार्ट या दिल का साइज बढ़ना कोई बीमारी नहीं है, बल्कि यह किसी अन्य गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है। जानें क्या है इसके लक्षण, कारण और बचाव टिप्स

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: May 27, 2021 12:48 IST
हार्ट का साइज बढ़ने के क्या हैं कारण? जानें इसके लक्षण और बचाव के टिप्स

अगर आपको सांस लेने में दिक्कत, सीने में दर्द, पंजों में सूजन और लगातार सूखी खांसी की समस्या हो तो इन लक्षणों को बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें। ये सभी संकेत दिल के आकार बढ़ने (Signs of Heart Size Increase) के हो सकते हैं। दिल का आकार बढ़ना बेहद खतरनाक होता है। वैसे तो यह कोई बीमारी नहीं है लेकिन गंभीर बीमारियों का संकेत हो सकता है। ऐसे में सचेत रहने की जरूरत होती है। अगर आपको ये लक्षण नजर आए, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करके अपना एक एक्स-रे करवा लें। एक्स-रे से डॉक्टर आपको बता सकते हैं कि आपके हार्ट का साइज बढ़ा है या नहीं। 

heart

क्या है हार्ट का साइज बढ़ना (What is Heart Size Increase)

फ्लोरेस अस्पताल, गाजियाबाद के हृदय रोग विशेषज्ञ डॉक्टर आशीष श्रीवास्तव (Cardiologist Dr. Ashish Srivastava of Floors Hospital, Ghaziabad) बताते हैं कि दिल का साइज बढ़ना अपने आप में कोई बीमारी नहीं है। लेकिन यह कई बीमारियों का कारण बन सकता है। दिल का साइज बढ़ना किसी दूसरी गंभीर बीमारियों का संकेत हो सकता है। मेडिकल टर्म में इसे कार्डियोमेगाली (Cardiomegaly) कहा जाता है। 

हार्ट साइज बढ़ने के लक्षण (Heart Size Increase Symptoms)

  • 1. अत्यधिक सांस फूलना
  • 2. कमजोरी और थकान होना
  • 3. पंजों में सूजन
  • 4. बैचेनी और घबराहट होना
  • 5. गुलाबी रंग का बलगम यानी बलगम के साथ खून निकलना
  • 6. रात के समय पेशाब ज्यादा आना
  • 7. लगातार तेज सूखी खांसी होना
  • 8. हार्ट फेल्योर
  • 9. सीने में तेज दर्द होना
  • 10. चक्कर और बेहोसी

अगर आपको इनमें से कोई लक्षण नजर आता है, तो आपको तुरंत डॉक्टर को दिखाने की जरूरत होती है। ऐसे में डॉक्टर दिल का साइज पता लगाने के लिए एक्स-रे करवाते हैं। अगर एक्स-रे में सीटी रेशियो (Cardiothoracic Ratio) 0.5 से ज्यादा होती है, तो इसे कार्डियोमेगाली यानी हार्ट का साइज बढ़ना कहते हैं। इसके बाद हार्ट का अल्ट्रासाउंड करवाया जाता है। जिससे व्यक्ति के दिल का साइज बढ़ने के पीछे के कारण का पता चलता है।  

इसे भी पढ़ें - क्या हार्ट अटैक का खतरा बढ़ाता है दर्द निवारक दवाओं का ज्यादा सेवन? डॉक्टर से जानें

हार्ट का साइज बढ़ने के कारण (Heart Size Increase Causes)

hyp

हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर (Hypertension or High Blood Pressure)

आजकल हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर की समस्या काफी सामान्य होती जा रही है। यह आपके हार्ट को प्रभावित करता है। अगर आपका ब्लड प्रेशर कंट्रोल में नहीं रहता है, तो इससे भी आपके हार्ट का साइज बढ़ने की संभावना रहती है। अगर आपका ब्लड प्रेशर 140/90 रहता है तो ऐसे में हार्ट के साइज बढ़ने का जोखिम बढ़ जाता है। 

पल्मोनरी हाइपरटेंशन (Pulmonary Hypertension)

पल्मोनरी हाइपरटेंशन वह स्थिति होती है, जब फेफड़ों और दिल के बीच रक्त पहुंचाने के लिए हार्ट को ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। इसमें दिल और फेफड़ों को जोड़ने वाली धमनी में बीपी बढ़ जाता है। जिसकी वजह से दाई तरफ से दिल का साइज बढ़ने लगता है।

पुराना हार्ट अटैक (Heart Attack)

अगर किसी व्यक्ति को पहले कभी हार्ट अटैक आया है, तो उसे भी हार्ट का साइज बढ़ने की समस्या हो सकती है। हार्ट अटैक के बाद अकसर लोगों को दिल का साइज बढ़ने का खतरा रहता है। ऐसे में अगर आपको पहले कभी हार्ट अटैक आ चुका है, तो आप समय-समय पर अपने स्वास्थ्य की जांच जरूर करवाते रहें। 

डायबिटीज (Diabetes)

नानावती मैक्स सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के इंटरेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर राजीव भागवत (Dr Rajiv Bhagwat, Interventional Cardiology, Nanavati Max Super Speciality Hospita) कहते हैं कि डायबिटीज दिल और किडनी रोग का एक अहम कारण होता है। ब्लड शुगर बढ़ने से दिल से जुड़ी कई बीमारियां होने लगती हैं। डायबिटीज हार्ट का साइज बढ़ने का कारण भी हो सकता है। ऐसे में आपको अपने ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखना जरूरी होता है। 

इसे भी पढ़ें - क्या है हृदय वाल्व रोग? जानें इसके लक्षण, कारण, प्रकार और बचाव

गर्भावस्था (Pregnancy)

डॉक्टर राजीव भागवत बताते हैं कि गर्भावस्था भी दिल या हार्ट का साइज बढ़ने की एक वजह हो सकती है। गर्भावस्था के दौरान भी कुछ महिलाओं के दिल साइज बढ़ जाता है। ऐसे में उन्हें समय-समय पर अपनी जांच करवाती रहनी चाहिए। 

heart 

दिल की मांसपेशियां कमजोर होना (Weak Heart Muscle)

जब दिल की मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं, तो दिल को रक्त पंप करने में काफी मेहनत करनी पड़ती है। जिससे दिल का साइज बढ़ने लगता है। 

हृदय वाल्व में समस्या (Heart Valve)

हमारे दिल में चार तरह के वाल्व (Valve) होते हैं, जो खून के दिल में जाने पर खुलते हैं और खून के विपरीत दिशा में जाने पर बंद हो जाते हैं। लेकिन जब ये वाल्व खराब होते हैं, तो ये संकुचित और कठोर (Compressed and Hardened) हो जाते हैं। इस वजह से भी कई बार दिल का साइज बढ़ने लगता है। 

कोरोनरी आर्टरी डिजीज (Coronary Artery Disease)

कोरोनरी आर्टरी डिजीज हृदय से जुड़ी एक बीमारी है। इसमें हृदय वाहिकाओं के माध्यम से रक्त प्रवाह यानी ब्लड सर्कुलेशन में समस्या होती है। जिससे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ता है। 

थायरॉइड (Thyroid)

थायरॉइड ग्रंथि के कम या ज्यादा हार्मोन बनाने की वजह से थायरॉइड की समस्या होती है। थायरॉइड भी दिल के साइज बढ़ने का एक कारण हो सकता है। इतना ही नहीं थायरॉइड दिल के कई अन्य बीमारियों का कारण भी बन सकता है।

हीमोक्रोमैटोसिस (Hemochromatosis)

हीमोक्रोमैटोसिस एक ऐसी समस्या है, जब शरीर लोह तत्वों को पचा नहीं पाता है। इससे ये तत्व दिल और शरीर के दूसरे अंगों में जमा हो जाते हैं। जिससे दिल की मासंपेशियां कमजोर हो जाती हैं और दिल का साइज बढ़ने लगता है।

ये भी हो सकते हैं कारण 

  • - अगर परिवार में किसी सदस्य को दिल से जुड़ी समस्याएं है या उनका दिल बढ़ा हुआ है, तो यह समस्या आपको भी हो सकता है।
  • - अगर किसी व्यक्ति को जन्मजात हृदय रोग है, तो उसे भी हार्ट साइज बढ़ने का जोखिम हो सकता है।
  • - इसके साथ ही दिल के चारों तरफ तरल पदार्थ जमा होने पर भी दिल का साइज बढ़ सकता है। 
  • - शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी होना भी दिल के साइज बढ़ने का कारण हो सकता है।

हार्ट का साइज बढ़ने पर बचाव टिप्स (Prevention Tips to Heart Size Increase)

  • - डॉक्टर आशीष श्रीवास्तव बताते हैं कि अगर आपको हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है, तो हार्ट के साइज को बढ़ने से रोकने के लिए अपने ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रखना जरूरी होता है।
  • - हेल्दी और बैलेंस डाइट लें। हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें। 
  • - फलों का ज्यादा सेवन करें।
  • - नमक का कम मात्रा में सेवन करें। ज्यादा नमक खाने से बचें।
  • - अत्यधिक पानी पीने से बचें।
  • - एल्कोहल हार्ट की मसल्स को कमजोर करता है और दिल के साइज को बढ़ा सकता है। ऐसे में एल्कोहल के सेवन से बचें।
  • - सिगरेट या दूसरे तरह के नशीले पदार्थों से दूरी बनाकर रखना।

अगर आपको भी इनमें से कोई लक्षण नजर आते हैं या आपको भी इनमें से कोई समस्या है, तो आपको समय-समय पर इसकी जांच करवाते रहना चाहिए। इन लक्षणों को बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें, क्योंकि दिल का साइज बढ़ना कई दूसरी बीमारियों को न्यौता दे सकता है।

Read More Articles on Heart Health in Hindi

Disclaimer