लौकी का जूस कब और कितना पीना चाहिए? जानें इससे जुड़े सवालों के जवाब

लौकी का जूस सेहत के लिए फायदेमंद होता है, लेकिन इस हमेशा सही समय और मात्रा में ही पीना चाहिए।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: May 01, 2022Updated at: May 01, 2022
लौकी का जूस कब और कितना पीना चाहिए? जानें इससे जुड़े सवालों के जवाब

Bottle Gourd Juice in Hindi: लौकी का जूस सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। यह पोषक तत्वों से भरपूर होता है। लौकी का जूस फाइबर, एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन ए, विटामिन सी, कैल्शियम और मैग्नीशियम से भरपूर होता है। इसके साथ ही लौकी के जूस में पोटैशियम, जिंक, आयरन भी अच्छी मात्रा में होता है। लौकी का जूस डायबिटीज रोगियों, लिवर की समस्या में भी फायदेमंद होता है। 

लौकी का जूस पीने से पाचन क्रिया में सुधार होता है। लेकिन लौकी के जूस ( Lauki ke juice ke fayde) के फायदे तभी तक मिलते हैं, जब तक आप इसे सही तरीके और मात्रा में पीते हैं। लौकी का जूस पीने से पाचन तंत्र पर बुरी असर भी पड़ सकता है, इससे डायरिया की समस्या हो सकती है। इसलिए लौकी का जूस सही तरीके से पीना जरूरी होता है। चलिए जानते हैं लौकी का जूस कब और कितना पीना (what is the best time to drink bottle gourd juice) चाहिए-

लौकी का जूस कब पीना चाहिए (when to drink bottle gourd juice)

लौकी का जूस सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। जब सही समय पर लौकी का जूस पिया जाता है, तो इससे शरीर को सारे लाभ मिलते हैं। लौकी का जूस पीने का सबसे सही (what is the best time to drink bottle gourd juice) समय सुबह का होता है। लौकी का जूस हमेशा सुबह खाली पेट ही पीना चाहिए। 

लौकी का जूस कितना पीना चाहिए: how much we drink bottle gourd juice

अति किसी भी चीज की बुरी होती है। भले ही कोई चीज कितनी भी फायदेमंद हो, लेकिन उसके सभी लाभ तभी मिलते हैं जब उसका सेवन सीमित मात्रा में किया जाता है। लौकी का जूस भी सीमित मात्रा में ही पीना चाहिए। अधिक मात्रा में लौकी का जूस पीना सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। एक दिन में एक गिलास से अधिक लौकी का जूस नहीं पीना चाहिए। इसका असर पाचन तंत्र पर पड़ सकता है।

इसे भी पढ़ें -लौकी का भरता खाने से सेहत को मिलते हैं ये 5 फायदे, जानें इसे बनाने का आसान तरीका

लौकी का जूस कैसे पीना चाहिए? (how to drink bottle gourd juice)

लौकी का जूस का जूस पीते समय इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि जूस बिल्कुल भी कड़वा नहीं होना चाहिए। लौकी का कड़वा जूस सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। इसका कड़वापन पेट में गैस जैसी दिक्कतें पैदा कर सकता है। लौकी के जूस के कड़वेपन को खत्म करने के लिए आप इसमें काला नमक, काली मिर्च, नींबू का रस और पुदीना मिला सकते हैं। इससे लौकी में मौजूद पोषक तत्व बढ़ेगे, शरीर को लाभ भी मिलेगा। 

लौकी का जूस कैसे बनाएं: bottle gourd juice recipe: lauki ka juice kaise banaye

लौकी का जूस बनाने के लिए सबसे पहले एक लौकी लें, इसका छिलका निकाल लें। अब इसमें एक चम्मच जीरा, 10-15 पुदीने की पत्तियां, 2-3 चम्मच नींबू का रस और स्वादानुसार काला नमक मिलाएं। इसके बाद सभी को अच्छी तरह से ब्लैंड कर लें। अब इस जूस को पी छानकर पी लें। 

इसे भी पढ़ें - लौकी और चने की दाल की सब्जी खाने से सेहत को मिलते हैं ये 4 फायदे, जानें इसकी हेल्दी रेसिपी

लौकी का जूस सही समय और सही मात्रा में पीना चाहिए। लौकी का जूस पीने से सेहत को लाभ मिलता है, तो नुकसान भी होता है। इसलिए एक दिन में एक गिलास से अधिक लौकी का जूस बिल्कुल नहीं पीना चाहिए। 

Disclaimer