आई फ्लोटर्स (eye floaters) अक्सर अचानक ही होने लगते हैं। ऐसे में अगर आपको आंखों के आगे काले धब्बे नजर आए तो अपने डॉक्टर से जरूर दिखवाएं।

"/>

Eye Floaters: आंखों में काले धब्बों का होना हो सकता है इस रोग का संकेत, जानें इसका कारण और इलाज

आई फ्लोटर्स (eye floaters) अक्सर अचानक ही होने लगते हैं। ऐसे में अगर आपको आंखों के आगे काले धब्बे नजर आए तो अपने डॉक्टर से जरूर दिखवाएं।

Vishal Singh
अन्य़ बीमारियांWritten by: Vishal SinghPublished at: Oct 12, 2018Updated at: Jul 08, 2021
Eye Floaters: आंखों में काले धब्बों का होना हो सकता है इस रोग का संकेत, जानें इसका कारण और इलाज

हमारी आंखें, हमारे शरीर के कुछ सबसे नाजुक अंगों में से एक है। पर फिर भी आंखों की देखभाल में कमी रह जाने से हम आंखों से जुड़े रोगों के शिकार हो जाते हैं। आंखों से जुड़ा एक ऐसा ही रोग है (eye floaters in hindi)। इसमें आंखों के आगे अचानक से काले धब्बे दिखने लगते हैं। इस स्थिति में आपकी आंखों के आगे काले छोटे धब्बे दिखाई देते हैं, जिसे मेडिकल भाषा में फ्लोटर्स (floaters) कहा जाता है। फ्लोटर्स छोटे धब्बे या तार होते हैं जो आपके आंखों के आगे तैरते हैं। आंखों के फ्लोटर्स को आपको कोई दर्द या असुविधा नहीं होनी चाहिए। आमतौर पर ये काले या भूरे रंग के डॉट्स, रेखाओं या बूंद की तरह ही दिखाई देते हैं। वहीं, कई मामलों में कभी-कभी एक बड़ा फ्लोटर आपकी आंखों पर छा सकता है और आपकी आंखों को खराब कर सकता है। आइए जानते हैं अचानक आंखों के आगे आने वाले काले धब्बे के पीछे क्या कारण है और इससे बचाव क्या है।

EYE PROBLEMS

ये फ्लोटर्स (Floaters) आमतौर पर तब दिखाई देते हैं जब आप एक चमकदार, सादे सतह, जैसे कि आकाश या साफ वस्तु या कोरे कागज को घूरते हैं। वे केवल एक आंख में मौजूद हो सकते हैं या कभी-कभी दोनों में हो सकते हैं। फ्लोटर्स आपकी आंख के तरल पदार्थ के अंदर होते हैं, वे आपकी आंखों के हिलते ही चले जाएंगे। वहीं, अगर आप उन्हें ठीक से देखने का प्रयास करते हैं तो वो अचानक आपकी आंखों से गायब हो जाते हैं। 

इसे भी पढ़ें: आंखों की रोशनी हमेशा रहेगी बरकरार अगर आदतों में लाएंगे ये 6 बदलाव

फ्लोटर्स का कारण क्या है (Causes Of Eye Floaters)

आंखों में फ्लोटर्स(Floaters)  की समस्या पैदा होना कई तरह के कारणों से हो सकती है।  बढ़ती उम्र में आंखों के फ्लोटर्स का सबसे आम कारण है। इसमें आपकी आंखों के सामने कॉर्निया और लेंस आंख के पीछे रेटिना पर रोशनी केंद्रित करती हैं। जैसे-जैसे प्रकाश आंख के सामने से पीछे की ओर जाता है, यह आपकी आंखों के अंदर एक जेली जैसा पदार्थ के माध्यम से गुजरता है। आंखों के अंदर मलबे और जमा के साथ भीड़ हो जाती है। इन विट्रो के अंदर और आपस में चिपकना शुरू कर देते हैं। जिसकी वजह से आपकी आंखों के आगे काले धब्बे नजर आने लगते हैं। इसके साथ ही कुछ अन्य कारण भी हैं जैसे: 

इसे भी पढ़ें: गर्मियों में आंखों के संक्रमण का अचूक इलाज है ये 11 सस्‍ते उपाय

फ्लोटर्स का इलाज (Treatment of floaters)

फ्लोटर्स की समस्या पैदा होने पर ये ज्यादातर मामलों में सामान्य ही रहते हैं साथ ही ये बहुत कम मामलों में ही गंभीर समस्या बनकर तैयार होते हैं। लेकिन फिर भी अगर आपको ज्यादा समस्या हो रही है तो आप फ्लोटर्स (Floaters)  का इलाज जरूर कराएं। अगर आपकी आंखों में एक फ्लोटर बाधा डाल रहा है, तो आप अपनी आंखों को साइड से और ऊपर और नीचे रोल करें।

हालांकि, आंख फ्लोटर्स आपकी आंख को खराब कर सकते हैं, खासकर अगर आपकी आंखों की स्थिति बिगड़ती है। बहुत ज्यादा गंभीर और खराब मामले में ही डॉक्टर लेजर हटाने या सर्जरी के रूप में इलाज की सलाह देते हैं। 

Read More Article On Other Diseases In Hindi

Disclaimer