फोड़े-फुंसी को जड़ से खत्‍म करता है करेला, जानें और फायदे!

आप अपने घर के किचन में जाइए और वहां रखा करेला लीजिए और उसका इस्‍तेमाल कीजिए। इससे आपकी समस्‍या का जड़ से समाधान होगा!

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jun 22, 2017
फोड़े-फुंसी को जड़ से खत्‍म करता है करेला, जानें और फायदे!

गर्मी और बारिश के मौसम में अक्‍सर लोगों की त्‍वचा में संक्रमण होने का खतरा रहता है। हानिकारक बैक्‍टीरिया की वजह फोड़े-फुंसी की समस्‍या हो जाती है जो काफी दर्दकारक होती है। तो अगर आप भी फोड़े-फुंसी की समस्‍या से जूझ रहे हैं तो आपको कहीं दूर जाने की जरूरत नहीं है। आप अपने घर के किचन में जाइए और वहां रखा करेला लीजिए और उसका इस्‍तेमाल कीजिए। इससे आपकी समस्‍या का जड़ से समाधान होगा!

इसे भी पढ़ें: करेला है डायबिटीज का रामबाण इलाज

boils

फोड़े-फुंसी को ऐसे करें ठीक

अगर आपकी स्किन में कहीं फोड़े-फुंसी हैं, तो आप करेले की जड़ को घिसकर फोड़े या घाव वाली जगह लगा लें। इससे कुछ ही दिनों में फोड़ा ठीक हो जाएगा। अगर करेले की जड़ ना मिले तो करेले के पत्ते को पीसकर थोड़ा गर्म करके पट्टी में बांधकर घाव पर लगा दें, इससे पस निकल जाएगा और घाव में होने वाले दर्द में भी आराम मिलेगा।

 

...और भी हैं करेले के फायदे

1. करेले का जूस और फल के अलावा इसकी पत्तियां भी फायदेमंद होती है। इसका सेवन करने से पेट संबंधी समस्या दूर होती है।

2. इससे पथरी की शिकायत भी दूर होती है। इसलिए नियमित रूप से इसका सेवन करना चाहिए। करेले के अलावा खाली पेट इसका जूस पीना फायदेमंद होता है। लेकिन ताजे करेले के रस का ही सेवन करना चाहिए।

3. करेला कान में होने वाले दर्द को भी दूर करता है। इसके रस की 4-4 बूंदें कान में डालते रहें, इससे कान दर्द में आराम मिलेगा।

4. रोजाना एक गिलास करेले का जूस पीने से अग्नाशय का कैंसर पैदा करने वाली कोशिकाएं नष्ट होती हैं। ऐसा इसलिए होता हैं क्यों कि करेले में मौजूद एंटी- कैंसर कॉम्पोनेंट्स अग्नाशय का कैंसर पैदा करने वाली कोशिकाओं में ग्लूकोस का पाचन रोक देते हैं जिससे इन कोशिकाओं की शक्ति ख़त्म हो जाती हैं और ये ख़त्म हो जाती हैं।  
 
5. भूख नहीं लगने से शरीर को पूरा पोषण नहीं मिल पाता है जिससे कि स्वास्थ्य से सम्बंधित परेशानियां होती हैं। इसलिए करेले के जूस को रोजाना पीने से पाचन क्रिया सही रहती है जिससे भूख बढ़ती है|

 

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles on Herbs In Hindi

Disclaimer