मोशन सिकनेस होती है तो करें ये 3 योगासन, जल्द मिलेगा आराम

Benefits of yoga for motion sickness: अगर आपको मोशन सिकनेस की दिक्कत है, तो आपको कुछ खास योगासन का अभ्यास करना चाहिए। इससे कई लाभ मिलते हैं।

Dipti Kumari
Written by: Dipti KumariPublished at: Aug 10, 2022Updated at: Aug 10, 2022
मोशन सिकनेस होती है तो करें ये 3 योगासन, जल्द मिलेगा आराम

कई लोगों को सफर के दौरान उल्टी होना एक सामान्य समस्या होती है। यह मोशन सिकनेस की दिक्कत होती है। कई लोगों को यात्रा के दौरान कार या गाड़ी में सफर के दौरान उल्टियां होती रहती हैं। इससे बेचैनी, सिरदर्द और कमजोरी का अनुभव होता है। मोशन सिकनेस की समस्या में आप उल्टी और मतली की परेशानी दूर करने के लिए अजवाइन, जीरा पानी और सौंफ का पानी पी सकते हैं। इसके अलावा अगर आपको इस परेशानी से छुटकारा पाना है, तो योग और ध्यान का सहारा भी ले सकते हैं। योग करने से मोशन सिकनेस की दिक्कत दूर होने के साथ-साथ अन्य समस्याएं भी दूर हो सकती है। आइए इसके बारे में विस्तार सा जानते हैं। 

मोशन सिकनेस की दिक्कत में करें योग

1. ताड़ासन 

मोशन सिकनेस होने पर आप ताड़ासन का अभ्यास कर सकते हैं। इससे आपको मन शांत करने, स्ट्रेस दूर करने और शरीर को मजबूत बनाने में मदद मिलती है। ताड़ासन के अभ्यास से आपको मानसिक शांति मिलती है। अगर आपको मोशन सिकनेस के दौरान हाथ-पैर और पीठ दर्द की दिक्कत होती है, तो इसके अभ्यास से ये परेशानी भी दूर हो सकती है। 

ताड़ासन के अभ्यास का तरीका 

1. दोनों पंजों को एक-दूसरे से सटाएं या उनके बीच कुछ जगह छोड़ दें और खड़े हो जाएं। 

2. फिर दोनों हाथों को शरीर के पास ले आएं। 

3. अब हाथों को जोड़कर नमस्कार की स्थिति में खड़े हो जाएं। 

4. फिर हाथों को धीरे-धीरे ऊपर ले जाएं। हाथों को सिर के ऊपर से ले जाते हुए पूरी तरह सीधा करने का प्रयास करें। 

5. अब एड़ियां उठाकर अपने पैरों की उंगलियों पर खड़े हो जाएं। 

6. जब तक संभव हो उसी मुद्रा में बने रहे और फिर दोबारा उसी मुद्रा में वापस आ जाएं। 

yoga-for-motion-sickness

2. उष्ट्रासन 

उष्ट्रासन का अभ्यास करने से आपके पूरे शरीर को खोलने में मदद मिलती है। इससे आपको काफी रिलैक्स महसूस होता है। उष्ट्रासन करने से शरीर लचीला बना रहता है। इससे आपको थकान, चिंता और स्ट्रेस महसूस नहीं होती है। इसे आप सुबह के समय कर सकते हैं। 

उष्ट्रासन करने का तरीका 

1. उष्ट्रासन करने के लिए आप जमीन पर योग मैट बिछा लें। फिर घुटनों के बल लेट जाएं। 

2. अब अपने दोनों हाथों को अपने हिप्स के पास ले आएं। 

3. इस मुद्रा में आपके कंधे और घुटने एक ही सीध में होने चाहिए।

4. उष्ट्रासन करने के लिए आप पांवों को इस तरह मोड़ें की तलवे छत की तरफ रहें।

5. इस दौरान आप एक बार गहरी सांस अंदर खींचें और रीढ़ की हड्डी के निचले हिस्से पर दबाव बनाने की कोशिश करें।

6. फिर हाथों से अपने पैरों को पकड़ें। अब कमर को पीछे की तरफ ले जाते हुए मोड़ें।

7. इसी मुद्रा में 30-50 सेकेंड तक बने रहने के प्रयास करें। उसके बाद वापस प्रारंभिक मुद्रा में आने की कोशिश करें। 

इसे भी पढे़ं- सफर के दौरान उल्टी क्यों होती है? जाने इसका कारण और उल्टी रोकने के आसान उपाय

home-remdies-for-motion-sickness

3. वृक्षासन

वृक्षासन आपके शरीर में संतुलन बनाए रखता है। यह आपको मानसिक संतुलन देने के साथ उल्टी और मतली की दिक्कत से भी आराम दिला सकता है। साथ ही इससे मानसिक शांति भी मिलती है। 

वृक्षासन करने का तरीका 

1. सबसे पहले दोनों योग मैट पर सीधे खड़े हो जाएं।

2. अब दाहिने पैर को घुटने से मोड़ते हुए दाहिने पैर के तलवे को बाएं पैर की जांघ के पास लाने की कोशिश करें। 

3. इस दौरान यह जरूर सुनिश्चित करें कि बाया पैर सीधा रहे और पैर का संतुलन बना रहे।

4. शरीर को बाएं पैर पर संतुलित करते हुए लंबी सांस लें, फिर दोनों हाथों को सिर के ऊपर ले जाएं और नमस्कार की मुद्रा बना लें। 

5. इस दौरान रीढ़ की हड्डी, कमर और सिर एक सीध में होने चाहिए। 

6. अब इस मुद्रा में करीब 5-10 मिनट तक रहते हुए धीरे-धीरे सांस लेते और छोड़ते रहें।

(All Image Credit- Freepik.com)

Disclaimer