डेंगू में गिर गई हैं प्लेटलेट्स, तो बढ़ाने के लिए अपनाएं ये 4 आयुर्वेदिक उपाय

Ayurvedic Remedies for Platelets Count: प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए आप कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का सेवन कर सकते हैं।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Jul 06, 2022Updated at: Jul 06, 2022
डेंगू में गिर गई हैं प्लेटलेट्स, तो बढ़ाने के लिए अपनाएं ये 4 आयुर्वेदिक उपाय

Ayurvedic Remedies for Increasing Platelets Count: स्वस्थ रहने के लिए शरीर में प्लेटलेट्स का सही मात्रा में होना बहुत जरूरी है। जब शरीर में प्लेटलेट्स गिरने लगते हैं, तो व्यक्ति को गंभीर स्थिति का सामना करना पड़ता है। कई बार यह स्थिति जानलेवा भी हो सकती है। प्लेटलेट्स गिरने को मेडिकल टर्म में थ्रोम्बोसाइटोपेनिया कहा जाता है। कुछ लोगों थ्रोम्बोसाइटोपेनिया होता है, लेकिन कुछ लोगों में डेंगू बुखार होने पर प्लेटलेट्स गिरने लगते हैं। ऐसे में डेंगू से रिकवरी करने के लिए प्लेटलेट्स को बढ़ाना बहुत जरूरी होता है। वैसे तो शरीर में प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए पोषक तत्व जैसे विटामिन बी12, विटामिन डी, विटामिन के और फोलेट जरूरी होता है। आप कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों के सेवन से भी प्लेटलेट्स बढ़ा सकते हैं।  

1. गिलोय (Giloy for Platelets in Hindi)

आयुर्वेद में गिलोय का उपयोग कई बीमारियों का इलाज करने के लिए किया जाता है। रिसर्च में पता चलता है कि गिलोय डेंगू के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद होता है। गिलोय प्लेटलेट्स को बढ़ाने में मदद कर सकता है। इतना ही नहीं गिलोय रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और रोगों से लड़ने में हमारी मदद करता है। डेंगू में अगर प्लेटलेट्स गिर रहे हैं, तो आप गिलोय का काढ़ा पी सकते हैं। 

इसके लिए आप गिलोय के तने के छोटे-छोटे टुकड़े लें, इन्हें पानी में उबाल लें। इसके बाद पानी को छानकर पी लें। नियमित रूप से गिलोय का काढ़ा पीने से ब्लड प्लेटलेट्स बढ़ सकते हैं। इसमें ज्वरनाशक गुण भी होता है, जो डेंगू बुखार को कम करता है। 

इसे भी पढ़ें- डेंगू बुखार होने पर नजरअंदाज न करें ये 6 लक्षण, बढ़ सकती है परेशानी

giloy for dengue patients

2. एलोवेरा (Aloe Vera Juice for Low Platelets)

एलोवेरा न सिर्फ त्वचा और बालों, बल्कि स्वास्थ्य समस्याओं को भी दूर करने में मदद करता है। कई अध्ययनों में यह पता चला है कि एलोवेरा प्लेटलेट्स बढ़ाने में असरदार होता है। एलोवेरी में एंटी वायरल गुण होते हैं। यह ब्लड शुगर को कम करने में भी मदद करता है। डेंगू बुखार में प्लेटलेट्स गिरने में आप एलोवेरा जूस को पानी के साथ मिलाकर ले सकते हैं। 

3. पपीता के पत्ते (Papaya Leaf Juice for Platelets)

डेंगू होने पर पपीते के पत्तों का उपयोग पुराने समय से ही किया जाता रहा है। पपीते के पत्तों में टैनिन, कार्डियक, सैपोनिन और अल्कलॉइड होते हैं। इसलिए पपीते के पत्तों को प्लेटलेट्स काउंट को बढ़ाने का बेहतरीन आयुर्वेदिक उपाय माना जाता है। पपीते के पत्तों का रस रक्त कोशिका निर्माण को बढ़ावा देता है। इसके लिए आप पपीते के पत्तों का पेस्ट बनाएं, इसके रस को एक कटोरी में निचोड़ दें। इसके बाद इस रस को पी लें। डेंगू के मरीजों के लिए यह रामबाण हो सकता है।

इसे भी पढ़ें- बच्चों में डेंगू बुखार के हो सकते हैं ये 3 स्टेज, जानें इनके लक्षण

4. गेहूं घास का रस (Wheatgrass Juice for Low Platelets)

गेहूं घास का रस भी डेंगू मरीजों के लिए लाभकारी हो सकता है। जब डेंगू रोगियों में प्लेटलेट्स काउंट कम होते हैं, तो यह रस पीना फायदेमंद होता है। कई अध्ययनों में साबित हुआ है कि व्हीट ग्रास जूस हीमोग्लोबिन, रेड ब्लड सेल्स और व्हाइट ब्लड सेल्स को बढ़ाता है। गेहूं के घास के जूस में क्लोरोफिल, कैल्शियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम, सोडियम, पोटेशियम, विटामिन्स, मिनरल्स और अमीनो एसिड अच्छी मात्रा में पाया जाता है। इसलिए आप इसे नियमित रूप से पी सकते हैं।

इसके लिए आप गेहूं की घास को पीस लें। इसके बाद इस पेस्ट को मलमल के कपड़े में डालें और निचोड़कर कटोरी में रस निकाल लें। रोजाना इस रस को पीकर प्लेटलेट्स बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

अगर डेंगू होने पर आपके प्लेटलेट्स गिरते हैं, तो आप गेहूं के घास का रस, गिलोय काढ़ा, पपीते के पत्तों का रस और एलोवेरा जूस का सेवन कर सकते हैं। ये 4 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां प्लेटलेट्स काउंट को बढ़ाने में मदद कर सकती हैं। 

Disclaimer