प्रेगनेंसी की इन 5 समस्याओं को दूर करता है एलोवेरा का जूस, लेकिन इसे पीने के हो सकते हैं ये 5 नुकसान

गर्भावस्था के दौरान एलोवेरा जूस का सेवन कितना सुरक्षित है और कितना असुरक्षित, इसके बारे में पता होना जरूरी है। जानते हैं उपयोग और नुकसान

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Oct 05, 2021
प्रेगनेंसी की इन 5 समस्याओं को दूर करता है एलोवेरा का जूस, लेकिन इसे पीने के हो सकते हैं ये 5 नुकसान

आयुर्वेद में एलोवेरा प्रसिद्ध जड़ी बूटियों में से एक है। एलोवेरा का जेल हो या जूस, इसके अंदर कई पोषक तत्व पाए जाते हैं जो सेहत को कई समस्याओं से दूर रख सकते हैं। लेकिन सवाल यह है कि प्रेगनेंसी के दौरान एलोवेरा लेना कितना सुरक्षित है और कितना असुरक्षित? बता दें कि एलोवेरा के जूस के अंदर भरपूर मात्रा में पानी, उर्जा, कार्बोहाइड्रेट, शुगर, कैल्शियम, आयरन, सोडियम, विटामिन सी आदि पोषक तत्व पाए जाते हैं। ऐसे में यह जानना बेहद जरूरी है कि एलोवेरा का सेवन गर्भावस्था के दौरान किन समस्याओं को दूर रखने में महिलाओं के काम आ सकता है। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि गर्भवती महिलाएं एलोवेरा के जूस का सेवन करने से किन किन समस्याओं को दूर रख सकती हैं। साथ ही सावधानी और नुकसान के बारे में भी जानेंगे। पढ़ते हैं आगे..

बता दें कि प्रेगनेंसी के दौरान एलोवेरा का जूस असुरक्षित माना गया है। यानि अगर महिलाएं गर्भावस्था के दौरान इसका सेवन करती हैं तो उन्हें और उनके भ्रूण को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इससे संबंधित एक रिसर्च भी सामने आई है जो यह बताती है कि गर्भवती महिलाओं को एलोवेरा का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से गर्भाशय में संकुचन पैदा हो सकती है। ऐसे में महिलाएं एलोवेरा का सेवन या एलोवेरा के जूस का सेवन करने से पहले एक बार एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें। इससे संबंधित रिसर्च पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

इसे भी पढ़ें- दूसरी बार मां बनने पर महिलाओं में दिखते हैं ये 7 अलग लक्षण

गर्भावस्था के दौरान एलोवेरा का उपयोग

जैसा कि हमने पहले भी बताया गर्भावस्था के दौरान एलोवेरा के जूस का सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए। लेकिन इसका उपयोग बाहरी तौर पर किया जा सकता है। इससे संबंधित रिसर्च भी सामने आई है। रिसर्च पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। साथ ही जानते हैं बाहरी तौर पर एलोवेरा के जूस का प्रयोग करने के उपयोग और उससे मिलने वाले फायदे...

1 - यदि महिलाएं प्रेगनेंसी के दौरान मुहांसों की समस्या का सामना कर रही है तो एलोवेरा जेल या एलोवेरा के पानी के अंदर पाए जाने वाला एंटी एक्ने गुण मुहांसों की समस्या को दूर करने में महिलाओं के बेहद काम आ सकता है।

2 - गर्भवती महिलाएं प्रेगनेंसी के दौरान सूजन की समस्या का सामना भी करती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि गर्भाशय की नसों पर दबाव बढ़ना शुरू हो जाता है, जिसके कारण गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को सूजन का सामना करना पड़ता है। इस सूजन को दूर करने में एलोवेरा जेल या इशका पानी आपके बेहद काम आ सकता है।

3 - स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने के लिए भी एलोवेरा जेल महिलाओं की बेहद काम आता है। ऐसे में महिलाएं गर्भावस्था के दौरान एलोवेरा जेल का प्रयोग करें। इसके अलावा एलोवेरा जेल के पानी से प्रभावित स्थान को धोया जाए तो ऐसा करने से भी स्ट्रेच मार्क से राहत मिल सकती है। ध्यान दें, एलोवेरा जेल स्ट्रेच मार्क्स को पूरी तरह से दूर नहीं कर सकता। पर हां, उनके निशान को हल्का कर सकता है।

4 - त्वचा की कई समस्याओं को दूर करने के लिए एलोवेरा जेल या उसके पानी का इस्तेमाल मुख्यतौर पर किया जाता है। लेकिन गर्भवती महिलाएं तीसरी तिमाही में त्वचा की दरारों का सामना करती हैं। इन दरारों से छुटकारा पाने के लिए एलोवेरा जेल महिलाओं के बेहद काम आ सकता है।

5 - गर्भावस्था के दौरान बालों की समस्या को दूर करने में भी एलोवेरा जेल आपके बेहद काम आ सकता है। गर्भावस्था में महिलाओं को बाल झड़ने की समस्या काफी रहती है। ऐसे में यदि बालों की जड़ों पर एलोवेरा जेल का प्रयोग किया जाए तो यह एलोवेरा बालों के झड़ने की समस्या को रोक सकता है। इसके अलावा एलोवेरा जेल के पानी से अगर बाल धोएं जाएं तो भी महिलाओं को बाल झड़ने की समस्या से राहत मिल सकती है।

गर्भावस्था में एलोवेरा जूस पीने के नुकसान

गर्भावस्था के दौरान यदि महिलाएं एलोवेरा जूस का सेवन करती हैं तो उन्हें निम्न नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। पढ़ते हैं आगे...

1 - प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को मतली आने की समस्या का सामना करना पड़ता है। लेकिन आपको बता दें कि यदि महिलाएं एलोवेरा जूस का सेवन करती हैं तो यह समस्या और बढ़ सकती है।

2 - बता दें कि एलोवेरा के लैटेक्स में एंथ्राक्विनोन नामक कंपाउंड (Anthraquinone) मौजूद होता है, जो गर्भावस्था के दौरान गर्भपात का कारण बन सकता है। इससे संबंधित रिसर्च पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

3 - यदि गर्भावस्था के दौरान महिलाएं एलोवेरा जूस का सेवन करती हैं तो इससे भ्रूण के विकास में भी रुकावट आ सकती है।

इसे भी पढ़ें- प्रेगनेंसी में आंख आने (Conjunctivitis) के होते हैं ये 7 कारण, जानें लक्षण और बचाव

4 - गर्भावस्था के दौरान एलोवेरा जूस का सेवन पहले प्रसव होने की समस्या का सामना भी करा सकता है।

5 - गर्भावस्था के दौरान कुछ महिलाएं तीसरी तिमाही में खुजली की समस्या का सामना करती हैं। लेकिन एलेवोरा के अंदर बैक्टेरिसाइडियल गुम (बैक्टीरिया से बचाव करने वाले गुण) मौजूद होते हैं जो खुजली से राहत दिलाने में महिलाओं के बेहद काम आ सकता है। ऐसे में महिलाएं खुजली की समस्या के लिए एलोवेरा जेल लगाएं।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि एलोवेरा जूस प्रेगनेंसी के दौरान लेना सही नहीं है। ऐसे में किसी के कहने पर अपनी डाइट में एलोवेरा जूस को ना जोड़ें। इससे अलग यदि आप अपनी डाइट में एलोवेरा का जूस पी रहे हैं तो सबसे पहले एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें। नहीं तो इसके कारण और आपकी सेहत दोनों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। लेकिन हां, एलोवेरा का जेल से बने जूस का प्रयोग बाहरी त्वचा पर कर सकते हैं। ऐसा करने से त्वचा की समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है। लेकिन अगर एलेवोरा के उपयोग से त्वचा में किसी भी तरह की एलर्जी महसूस हो तो तुरंत इसका उपयोग बंद करें।

इस लेख में फोटोज़ Freepik से ली गई हैं। 

Disclaimer