दूषित वायु में सांस लेते हैं 95% लोग, स्वास्थ्य के लिए है हानिकारक

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 19, 2018
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

विश्व की 95 फीसदी आबादी दूषित हवा में सांस ले रही है और वैश्विक तौर पर प्रदूषण से होने वाली मौतों में 50 फीसदी के लिए चीन और भारत अकेले जिम्मेदार हैं। 'सीएनएन' के अनुसार, बोस्टन स्थित हेल्थ इफेक्ट्स इंस्टीट्यूट (एचईआई) की सालाना वैश्विक वायु स्थिति रपट के अनुसार, लंबे समय तक वायु प्रदूषण के प्रभाव में रहने वाला जोखिम 2016 में दुनिया भर में अनुमानित 61 लाख लोगों की मौत का कारण बना है।

रपट में कहा गया है कि 11 लाख के आंकड़े के साथ भारत और चीन वायु प्रदूषण से होने वाली मौतों में शीर्ष पर हैं। चीन ने वायु प्रदूषण घटाने में कुछ प्रगति की थी, लेकिन भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश में 2010 से वायु प्रदूषण के स्तर में सबसे ज्यादा वृद्धि हुई है। रपट के अनुसार, वायु प्रदूषण विश्वस्तर पर उच्च रक्तचाप, कुपोषण और धूम्रपान के बाद स्वास्थ्य जोखिमों से होने वाली मौतों का चौथा सबसे बड़ा कारण था।

इसे भी पढ़ें : महिलाओं में बैली फैट का कारण है एडिपोज टिश्यूज, ये उपाय रखता है संतुलित

सीएनएन ने एचईआई के उपाध्यक्ष बॉब ओकीफे के मंगलवार को दिए एक बयान के हवाले से कहा, वायु प्रदूषण दुनिया भर में बड़ी संख्या में मौतों के लिए जिम्मेदार है, जो श्वांस रोग से पीड़ित लोगों के लिए सांस लेना मुश्किल कर देता है, युवाओं और वृद्धों को अस्पताल भेज देता है, स्कूल और काम छूट जाते हैं और जल्दी मौत का कारण बन जाता है।

इसे भी पढ़ें : दांत के कीड़ों को 5 मिनट में ठीक करते हैं ये आसान उपाय

इस रोग का रहता है खतरा

साइनस मानव शरीर की खोपड़ी में हवा भरी हुई कैविटी होती हैं जो हमारे सिर को हल्कापन व सांस वाली हवा लाने में मदद करती है। सांस लेने में अंदर आने वाली हवा इस थैली से होकर फेफड़ों तक जाती है। यह इस थैली में हवा के साथ आई गंदगी यानी धूल और दूसरी तरह की गंदगियों को रोककर, बाहर की ओर फेंक देती है। लेकिन साइनस का मार्ग रुकने पर अर्थात बलगम निकलने का मार्ग रुकने पर 'साइनोसाइटिस' नामक बीमारी हो सकती है। आमतौर पर लोग साइनोसाइटिस के प्रति ज्यादा गंभीर नहीं होते। लेकिन स्थिति गंभीर होने पर सांस नली में संक्रमण से ब्रोंकाइटिस तथा फेफड़ों में सिकुड़न से अस्‍थमा भी हो सकता है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Health News In Hindi

Loading...
Write Comment Read ReviewDisclaimer
Is it Helpful Article?YES596 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर