औषधीय गुणों वाले 'अगस्त्य के पेड़' से दूर हो सकती हैं कई बीमारियां, आयुर्वेदाचार्य से जानें फायदे और प्रयोग

अगस्त्य पेड़ के फूल, पत्ते, जड़, छाल और फल सभी औषधीय गुणों से भरपूर हैं। आयुर्वेद में इससे कई रोगों का इलाज किया जाता है। जानें इसके फायदे और नुकसान 

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Mar 31, 2021 12:04 IST
औषधीय गुणों वाले 'अगस्त्य के पेड़' से दूर हो सकती हैं कई बीमारियां, आयुर्वेदाचार्य से जानें फायदे और प्रयोग

अगस्त्य पेड़ (Agastya Tree) के बारे में आपने जरूर सुना होगा लेकिन इसके औषधीय गुणों से आप अंजान होंगे। आयुर्वेद में इसे औषधीय गुणों से भरपूर बताया गया है। कई तरह के रोगों के इलाज में अगस्त्य पेड़ का इस्तेमाल किया जाता है। इसका वानस्पतिक नाम सेस्बेनिया ग्रैण्डीफ्लोरा (Sesbania randiflora) है। अंग्रेजी में इस पेड़ को स्कारलेट विस्टोरिया ट्री (Scarlet Wisteria Tree) के नाम से जाना जाता है। इसके अलावा इसे अगस्त का पेड़ भी कहा जाता है। यह शरीर से विषैले तत्वों (Toxin) को बाहर निकालने का काम करता है। इसके फूल सफेद और गुलाबी (White and Pink Flowers) रंग के होते हैं और इनकी सब्जी भी बनाई जाती है, जो स्वादिष्ट होने के साथ ही स्वास्थ्यवर्द्धक भी होती है। इसके जड़, फूल और फलों का इस्तेमाल दवाइयां बनाने के लिए भी किया जाता है। अगस्त पेड़ के बीजों का तेल (Oil) निकाला जाता है। इसके फलों का स्वाद मीठा, कसैला और कड़वा होता है। अगस्त के पेड़ के उपयोगी भागों को काढ़ा, चूर्ण और रस के रूप में लिया जा सकता है। इनके सेवन से शरीर को कई स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं। इससे याद्दाश्त तेजी होती है, खांसी-जुखाम और बुखार में भी इसका सेवन करना फायदेमंद होता है। इसके अलावा यह सिरदर्द, गठिया रोगों, पेट दर्द और मिर्गी में भी लाभकारी होता है। राम हंस  चेरीटेबल हॉस्पिटल, सिरसा के आयुर्वेदाचार्य श्रेय शर्मा बता रहे हैं अगस्त्य पेड़ के कई अन्य स्वास्थ्य लाभों और नुकसान के बारे में- (Health Benefits and Side Effects of Agastya Tree)

churna

अगस्त्य पेड़ के उपयोगी भाग (Useful Parts of Agastya Tree)

  • - फूल (Flower)
  • - पत्ते (Leaves)
  • - फल (Fruit)
  • - जड़ (Root)
  • - छाल (Bark)
  • - बीज (Seed)

अगस्त्य पेड़ में पोषक तत्व (Agastya Tree Nutrients)

  • - आयरन (Iron)
  • - विटामिन ए, बी और सी (Vitamin A, B and C)
  • - प्रोटीन (Protein)
  • - कैल्शियम (Calcium)
  • - कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate)

अगस्त्य पेड़ के फायदे (Agastya Tree Health Benefits)

आयुर्वेद में अगस्त्य पेड़ के फल, छाल, जड़, फूल और पत्तों का इस्तेमाल कई औषधीय गुणों के लिए किया जाता है। इसके सेवन से त्वचा रोग, सिरदर्द और खांसी-जुखाम में फायदा मिलता है। आयुर्वेद में कई रोगों के इलाज में इसका इस्तेमाल किया जाता है। 

1) त्वचा रोगों में फायदेमंद (Beneficial in Skin Diseases)

आजकल के खान-पान (Diet) और प्रदूषण (Pollution) से लोगों में त्वचा रोग (Skin Diseases) सामान्य होने लगे हैं। इसमें कोई फोड़े-फुंसी, खुजली, दाद, मुहांसों से परेशान है तो किसी को कई दूसरे तरीके के त्वचा रोग है। ऐसे में अगस्त्य के पेड़ के फूलों को फायदेमंद बताया गया है। इसमें विटामिन बी और विटामिन सी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है, जिससे त्वचा संबंधी रोग ठीक होते हैं। अगर आप इसका सेवन करते हैं, तो आप त्वचा रोगों से अपना बचाव कर सकते हैं। 

cough

2) खांसी-जुखाम और बुखार में फायदेमंद (Beneficial in Cough-Cold and Fever)

बदलते मौसम में अकसर ही बच्चे, बूढ़े और जवान सभी खांसी-जुखाम की शिकायत करते हैं। इस मौसम में किसी-किसी को बुखार भी हो जाता है। ऐसे में अगस्त्य पेड़ के जड़ और पत्तों का सेवन करने से इन्हें ठीक किया जा सकता है। इसके लिए आप इनका काढ़ा पी सकते हैं। इससे आपको खांसी-जुखाम और बुखार से राहत मिलेगी। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity Boost) बढ़ाता है, जिससे शरीर वायरल इंफेक्शन (Viral Infection), बैक्टीरिया (Becteria) और वायरस (Virus) के लड़ने के लिए भी तैयार रहता है।    

3) ल्यूकोरिया में लाभकारी (Beneficial in Leucorrhea)

सभी महिलाओं में सफेद पानी निकलने यानी ल्यूकोरिया की समस्या सामान्य होती है। इसके लिए महिलाएं कई दवाएं खाती हैं और समस्या ठीक न होने पर परेशान रहती हैं। लेकिन आयुर्वेद में इसके लिए अगस्त्य के पत्तों को लाभकारी बताया गया है। इसके पत्तों के रस में शहद (Honey) मिलाकर पीने से फायदा मिलता है। इसके साथ ही इसके सेवन से निजी अंगों में खुजली की समस्या से भी राहत मिलती है।

leuocorrhea

4) याद्दाश्त बढ़ाने में सहायक (Helpful in Enhancing Memory)

कई लोगों की याद्दाश्त बहुत कमजोर होती है। वे सुबह की चीजों को शाम तक भी याद नहीं रख पाते हैं। अकसर ही वे सुबह कोई चीज कही रखते हैं और रात होने तक उसे भूल जाते हैं। अगर आपकी भी याद्दाश्त कमजोर (Weak Memory) है तो अगस्त्य के पेड़ का चूर्ण खाना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इसके सेवन से याद्दाश्त तेज होती है और सारी चीजें याद रहती है। आप इसके चूर्ण का सेवन सुबह-शाम दूध के साथ कर सकते हैं।

5) आंखों के रोग ठीक करे (Cure Eye Diseases)

आजकल बच्चों से लेकर बड़ों तक में आंखों के संबंधित समस्याएं आम हो गई हैं। इसमें सामान्य आंखों में दर्द, आंखें लाल होना, आंखों में जलन होना शामिल हैं। ऐसे में अगस्त्य पेड़ के फूल, पत्तों और फलों का इस्तेमाल करना फायदेमंद हो सकता है। इसके लिए आप इनका काढ़ा पी सकते हैं और फलों की सब्जी बनाकर खा सकते हैं। 

अगस्त्य पेड़ के अन्य लाभ (Other Benefits of Agastya Tree)

  • - मिर्गी के रोग में सहायक
  • - रक्तस्त्राव में फायदेमंद
  • - गठिया रोग में लाभकारी
  • - पेट दर्द और सिर दर्द में राहत दिलाए

अगस्त्य के सेवन से नुकसान (Side Effects of Agastya Tree)

सीमित मात्रा में अगस्त्य का सेवन करना सुरक्षित है। लेकिन अधिक मात्रा में इसके सेवन से मन व्याकुलता, उल्टी और दस्त की समस्या हो सकती है। अगर आप गर्भवती हैं या स्तनपान करवाती हैं तो आपको इसके डॉक्टर की सलाह पर ही इसे लेना चाहिए। इसके साथ ही जो लोग किसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं, उन्हें भी डॉक्टरी सलाह पर ही इसका सेवन करना चाहिए। 

इसे भी  पढ़ें - Ashwagandha Benefits: अश्वगंधा के फायदे, सेवन का तरीका और सावधानियां

अगस्त्य का इस्तेमाल (Uses of Agastya)

वैसे तो आप इसे आसानी से ले सकते हैं लेकिन अगर आप किसी बीमारी से पीड़ित है और आयुर्वेद में इलाज करवाना चाहते हैं तो भी इसका सेवन अपने आप करने से बचें। इसके लिए आपको एक बार आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

  • - रस : 10-20 मिली
  • - चूर्ण : 2-4 ग्राम
  • - काढ़ा : 20-40 मिली

अगस्त्य पेड़ के उपयोगी भागों का सेवन करना आयुर्वेद में बेहद लाभकारी बताया गया है। लेकिन कोई भी गंभीर बीमारी होने पर इसका सेवन बिना डॉक्टर की सलाह से न करें। इसके साथ ही इसका सीमित मात्रा में सेवन करना चाहिए, अन्यथा इसका नुकसान भी देखने को मिल सकता है।  

Read More Articles on Ayurveda in Hindi

 

Disclaimer