दिल का दौरा पड़ने से बचा सकते हैं ये 7 आसान टिप्स, जानें इन्हें फॉलो करने का तरीका

हार्ट फेल सुनने और बोलने में डरावना लग सकता है। पर इसका मतलब यह नहीं है कि दिल ने काम करना बंद कर दिया। कुछ बातें आपको इस स्थिति से बचा सकती हैं।

 
Monika Agarwal
हृदय स्‍वास्‍थ्‍यWritten by: Monika AgarwalPublished at: Apr 16, 2021Updated at: Apr 16, 2021
दिल का दौरा पड़ने से बचा सकते हैं ये 7 आसान टिप्स, जानें इन्हें फॉलो करने का तरीका

जब भी कोई व्यक्ति हार्ट फेल जैसी स्थिति का शिकार होता है तो वह मानसिक रूप से बहुत अधिक सदमे में चला जाता है और यही कारण उसे ढंग से रिकवर होने में बाधा बनता है। अगर आप हार्ट फेल ( Heart Failure) के शिकार कभी हुए हैं तो इसका यह मतलब नहीं है कि अब आपका हृदय ठीक से काम नहीं करने वाला। इस बात की चिंता बिल्कुल भी न करें क्योंकि बहुत सी बार यह स्थिति वह नही होती है जो आप इसे समझ लेते हैं। अक्सर यह माना जाता है कि इस स्थिति में आपका हृदय उस तरह से ब्लड पंप नहीं करता है जैसे उसे करना चाहिए। लेकिन आप दवाइयों के उपचार और लाइफस्टाइल चेंज के कारण बिल्कुल पूरी तरह ठीक हो सकते है। हार्ट फेलियर (Heart Failure) जैसी स्थिति से बचने के लिए आपको कुछ निम्न बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

Inside1HEARTATTACK

1. अपने डॉक्टर के साथ पूरी तरह खुल कर बात करें (Talk To Your Doctor Openly)

अपने डॉक्टर के साथ पूरी तरह खुल कर बात करें। अगर आपको किसी स्थिति या किसी दवाइयों के बारे में समझ नही आता है तो उनसे दोबारा पूछिए। उनके साथ ईमानदार भी रहें यानी आपको बिल्कुल वही चीजें उनको बतानी हैं जो आप सच में ही महसूस करते हैं। उनसे अपने उपचार के बारे में बात कीजिए और आप कैसे ठीक हो सकते हैं और आप को क्या क्या परेशानियों का सामना करना पड़ता है, यह सब बातें स्पष्ट रूप से उनके साथ करें।

2. तरल के सेवन का खास ख्याल रखें (Try To Maintain Water Intake)

आपके हार्ट फेलियर (Heart Failure) के कारण आपका शरीर फ्लूइड रिटेन करता है जिस वजह से आपको बहुत बुरा महसूस भी हो सकता है। आप अपनी पीने की चीजों की मात्रा को सीमित रखें और यह भी ध्यान रखें कि आप कितना नमक खा रहे हैं। साथ ही नमक के सेवन को भी नियंत्रित रखें। अपने वजन को चेक करते रहें और अगर यह एकदम से बढ़ जाता है तो अपने डॉक्टर से इसके बारे में जरूर बात करें।

3. अपने रिस्क फैक्टर पर एक नजर रखें (Try To Know All Risk Factors)

अगर आपको इस बीमारी से उबरना है तो आपको पहले इसके बारे में पूरी जानकारी लेनी होगी। आपको पता होना चाहिए कि इसके कौन कौन से रिस्क फैक्टर्स हैं जो आपके लिए और भी अधिक परेशानी खड़ी कर सकते हैं। ऐसी चीजों का खास ख्याल रखें और रिस्क फैक्टर को अवॉइड करें। अपनी ब्लड शुगर को नियंत्रित रखें, धूम्रपान न करें और रोजाना एक्सरसाइज करें। इस प्रकार आप इस बीमारी से पूर्ण रूप से उभर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : दिल की नसें सिकुड़ने से किन बीमारियों का खतरा रहता है? डॉक्टर से जानें इसके कारण और लक्षण

4. अपने वजन को नियमित रूप से चेक करें (Check Your Body Weight)

आपको रोज सुबह उठ कर अपना वजन चेक करना है। यह अपनी सुबह की पहली आदत बना लें। इसे एक नोटबुक या अपने फोन में नोट करें। ध्यान रखें कि आप इस समय खाली पेट हों। अगर एक दिन आपको अचानक से कुछ किलो का फर्क नजर आता है तो तुरंत अपने डॉक्टर के पास जाएं और इसके बारे में जानकारी लें।

Inside3weightlossproblems

5. अच्छा महसूस करने के लिए एक्सरसाइज करें (Exercise Daily)

अक्सर ऐसा होता है कि बीमारी की चिंता करने के कारण आप बहुत परेशान हो जाते हैं और अच्छा महसूस नहीं कर पाते। लेकिन अगर आप अच्छा महसूस करना चाहते हैं तो आप कुछ एक्सरसाइज कर सकते हैं, सुबह वॉक पर जाने के बहाने प्रकृति को निहार सकते हैं, स्ट्रेचिंग कर सकते हैं और जिन गतिविधियों से आपका मूड अच्छा होता है वह सब कर सकते है।

इसे भी पढ़ें : नाश्ता छोड़ना, ज्यादा गुस्सा करना जैसे ये 10 कारण भविष्य में आपको बना सकते हैं हृदय रोगी, रहें सावधान

6. एक पिलबॉक्स और टाइमर का प्रयोग करें (Use Pill Box & A Timer)

आज के समय में इस बीमारी से रिकवर होने के लिए बहुत सी दवाइयां उपलब्ध हैं लेकिन उन दवाइयों को समय से लेना भी बहुत जरूरी है। अगर आप दवाई समय पर खाना भूल जाते हैं तो अपने समय का टाइमर लगाएं और एक दवाइयों का पिलबॉक्स बना कर अपने पास रखिए। ताकि समय होते ही आपको दवाई लेने कहीं दूर न जाना पड़े और समय से ही अपनी सारी दवाइयां ले सकें।

7. मेडिटेशन और ताई ची का प्रयोग करें (Do Meditation Daily)

मेडिटेशन आपको अपने आंतरिक मन से जोड़ती है और इससे आपकी चिंता और परेशानी भी कम होती है। इससे आपको बहुत अच्छा महसूस होता है और आप एक सुखद दिन बिता सकते हैं। अगर आप चाहें तो इसके साथ साथ योग की प्रैक्टिस भी कर सकते हैं। वह भी आपके लिए बहुत लाभदायक है। ताई ची एक्सरसाइज को भी डीप ब्रीथिंग के लिए ट्राई कर सकते हैं।

Read more articles on Heart Health in Hindi

Disclaimer