तनाव और अवसाद को चुटकियों में दूर करते हैं ये 5 फूड, साथ ही मिलता है ढ़ेर सारा पोषण

यहां हम आपको 5 ऐसे फू्ड के बारे में बता रहे हैं जिनके सेवन से आपके तनाव और अवसाद में कमी आएगी।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: May 14, 2019
तनाव और अवसाद को चुटकियों में दूर करते हैं ये 5 फूड, साथ ही मिलता है ढ़ेर सारा पोषण

चिंता या अवसाद एक व्यापक स्थिति है, जिससे विश्व स्तर पर लाखों लोग प्रभावित होते हैं। लक्षण अलग-अलग होते हैं, और कुछ लोग केवल किसी घटना के दौरान या फिर बाद में भी अनुभव करते हैं। हालांकि, यदि कोई 6 महीने या उससे अधिक समय तक चिंता के लक्षणों का अनुभव करता है, तो यह सामान्यीकृत चिंता विकार हो सकता है। इसके लक्षणों में डर, तनाव, रोजमर्रा की घटनाओं और समस्याओं के बारे में अत्यधिक चिंतित रहना, चिड़चिड़ापन, ध्‍यान एकाग्र न होना, दिल की धड़कन बढ़ जाना, मांसपेशी का खिंचाव, सीने में जकड़न आदि।   

दही

दही में स्वास्थ्यवर्धक बैक्टीरिया, लैक्टोबैसिलस और बिफीडोबैक्टीरिया होते हैं। इस बात के उभरते सबूत हैं कि इन बैक्टीरिया और किण्वित उत्पादों का मस्तिष्क स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। हाल ही में हुए एक अध्‍ययन के अनुसार, दही और अन्य डेयरी उत्पाद भी शरीर में एक एंटी इंफ्लामेट्री प्रभाव को कम करता है। कुछ शोध बताते हैं कि क्रॉनिक इंफ्लामेशन चिंता, तनाव और अवसाद के लिए आंशिक रूप से जिम्मेदार हो सकती है। 2015 के एक अध्ययन में पाया गया कि किण्वित खाद्य पदार्थ कुछ युवाओं में सामाजिक चिंता को कम करते हैं, जबकि कई अध्ययनों में पाया गया कि स्वास्थ्यवर्धक बैक्टीरिया का सेवन करने से कुछ लोगों में खुशी बढ़ी है। आहार में दही और अन्य किण्वित भोजन शामिल करना आंत के नेचुरल बैक्टीरिया को लाभ पहुंचा सकता है और चिंता और तनाव को कम कर सकता है।

कैमोमाइल टी 

दुनिया भर में कई लोग कैमोमाइल चाय को एक हर्बल उपचार के रूप में उपयोग करते हैं क्योंकि इसमें एंटी इंफ्लामेशन, एंटीबैक्‍टीरियल और एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं। कुछ लोगों का मानना है कि रिलैक्सेंट और एंटी-डिप्रेशन गुण कैमोमाइल में मौजूद फ्लेवोनोइड्स से आते हैं। एक हालिया अध्ययन में पाया गया कि कैमोमाइल चिंता लक्षणों को कम करता है। हालांकि, इसने चिंता के नए एपिसोड को नहीं रोका। चिंता को प्रबंधित करने में कैमोमाइल चाय उपयोगी हो सकती है। यह उच्च मात्रा में उपयोग करने के लिए आसानी से उपलब्ध और सुरक्षित है।

डार्क चॉकलेट 

विशेषज्ञों को लंबे समय से संदेह है कि डार्क चॉकलेट तनाव और चिंता को कम करने में मदद कर सकती है। 2014 के एक अध्ययन में पाया गया कि 40 ग्राम डार्क चॉकलेट ने महिला छात्रों में तनाव को कम करने में मदद की। अन्य अध्ययनों में आम तौर पर पाया गया है कि डार्क चॉकलेट या कोको मूड में सुधार कर सकता है। हालांकि, इनमें से कई अध्ययन अवलोकन योग्य हैं, इसलिए परिणामों को सावधानी के साथ व्याख्या करने की आवश्यकता है। हालांकि यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि डार्क चॉकलेट तनाव को कैसे कम करती है, यह पॉलीफेनोल्स का एक समृद्ध स्रोत है, विशेष रूप से फ्लेवोनोइड्स। एक अध्ययन ने सुझाव दिया कि फ्लेवोनोइड मस्तिष्क में न्यूरोइन्फ्लेमेशन और डेड सेल्‍स को कम कर सकता है और साथ ही रक्त प्रवाह में सुधार कर सकता है।

इसे भी पढ़ें: हाई बीपी को नियंत्रित रखते हैं गर्मी के मौसम में मिलने वाले ये 5 फ्रूट्स, रोजाना करें सेवन

हल्‍दी 

हल्दी आमतौर पर खाना पकाने में इस्तेमाल किया जाने वाला एक मसाला है। हल्दी में सक्रिय संघटक को करक्यूमिन कहा जाता है। करक्यूमिन सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करके चिंता को कम करने में मदद कर सकता है,  जो अक्सर लोगों में मूड डिसऑर्डर का अनुभव कराता है, जैसे कि चिंता और अवसाद। 2015 के एक अध्ययन में पाया गया कि करक्यूमिन ने मोटे वयस्कों में चिंता कम कर दी। एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि आहार में करक्यूमिन की वृद्धि ने चिंता कम कर दी। हल्दी को भोजन में जोड़ना आसान है। इसमें न्यूनतम स्वाद होता है। 

इसे भी पढ़ें: क्‍या गर्मी के मौसम में अंडे का सेवन हानिकारक है? जानें एक्‍सपर्ट की राय

अंडे 

अंडे की जर्दी विटामिन डी का एक और बेहतरीन स्रोत है। अंडे प्रोटीन का भी एक उत्कृष्ट स्रोत हैं। यह एक पूर्ण प्रोटीन है, जिसका अर्थ है इसमें सभी आवश्यक अमीनो एसिड होते हैं जो शरीर विकास के लिए आवश्यक होते हैं। अंडे में ट्रिप्टोफैन भी होता है, जो एक एमिनो एसिड है जो सेरोटोनिन बनाने में मदद करता है। सेरोटोनिन एक रासायनिक न्यूरोट्रांसमीटर है जो मूड, नींद, स्मृति और व्यवहार को विनियमित करने में मदद करता है। 

Read More Articles On Healthy Diet In Hindi

Disclaimer