बर्ड फ्लू के टाइम पर चिकन और मीट की जगह प्रोटीन के लिए खाएं ये 3 शाकाहारी फूड्स, मिलेगा भरपूर प्रोटीन

बर्ड फ्लू के कारण इन दिनों लोग चिकन, अंडे खाने से बच रहे हैं। ऐसे में शरीर की प्रोटीन की जरूरत को पूरा करने के लिए ये 3 शाकाहारी फूड्स बेस्ट हैं।

सम्‍पादकीय विभाग
स्वस्थ आहारWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Feb 24, 2021Updated at: Feb 24, 2021
बर्ड फ्लू के टाइम पर चिकन और मीट की जगह प्रोटीन के लिए खाएं ये 3 शाकाहारी फूड्स, मिलेगा भरपूर प्रोटीन

अभी हम में से कई लोगों ने लगातार कम हो रहे कोविड के मामलों को देखकर राहत की सांस ली ही थी कि बर्ड फ्लू के प्रकोप की खबरों ने हम सभी को वापस चिंता की स्थिति में ला दिया। देश के कई हिस्सों में बर्ड फ्लू या एवियन फ्लू के मामले चिंताजनक रूप से बढ़े हैं। यह एक संक्रामक बीमारी है जो मुख्य रूप से मुर्गियों और टर्की जैसे पोल्ट्री वाले पक्षियों में होती है। हालांकि यह एक मनुष्य से दूसरे मनुष्य में नहीं फैलता है, फिर भी लोग अब सावधानी बरतने के तौर पर पोल्ट्री उत्पाद के सेवन से बचने की कोशिश कर रहे हैं। अब तक, चिकन और अंडे मांसाहारी लोगों की जरूरत को पूरा कर रहे थे, लेकिन इस बर्ड फ्लू के डर से कई लोग सुरक्षित प्रोटीन का सेवन करना चाहते हैं।

पिछले साल हमने महत्वपूर्ण सबक सीखा कि मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता रोगों से लड़ने के लिए सबसे अच्छा सुरक्षा उपाय है, और जैसा कि हम जानते हैं, हमें सबसे अधिक रोग प्रतिरोधक क्षमता हमारे आहार से मिलती है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए बहुत संतुलित पौष्टिक आहार हमारी प्रमुख जरूरत हैं। हमारे आहार का अत्यंत महत्वपूर्ण घटक प्रोटीन है। प्रोटीन हमारी ऊर्जा को बर्न करने, और हमारे खून के माध्यम से हमारे शरीर में ऑक्सीजन ले जाने वाली प्रक्रियाओं का महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह संक्रमण और रोगों से लड़ने वाले एंटीबॉडी बनाने में मदद करता है तथा कोशिकाओं को स्वस्थ रखने और नई कोशिका निर्माण करने में भी मदद करता है। यहां कुछ स्वस्थ और सुरक्षित प्रोटीनयुक्त भोजन दिये गये हैं जिनका आप इस्तेमाल कर सकते हैं:

इसे भी पढ़ें: प्रोटीन से जुड़े अहम सवालों के जवाब दे रही हैं एक्सपर्ट, जानें यह क्यों हैं महत्वपूर्ण

बादाम (Almonds)

almonds for protein

बादाम में भरपूर प्रोटीन मिलता है और ये विभिन्न प्रकार के स्वास्थ्य लाभ के लिए जाने जाते हैं। वैज्ञानिक अध्ययनों से पता चलता है कि बादाम में मौजूद उच्च प्रोटीन आपको पूर्णता प्रदान करने के लिए भी बहुत कारगर है क्योंकि यह आपकी भूख मिटाता है, और कसरत करने के बाद आपकी मांसपेशियों की मरम्मत के लिए महत्वपूर्ण है। मुट्ठी भर बादाम लेने से आपको कई फायदे मिलते हैं, जैसे भूख नियंत्रण करने में मदद मिलती है और आपका भोजन भी कम कैलोरी वाला होता है। इसके अलावा, बादाम पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं और स्नैक के रूप में आप इसे कभी भी, कहीं भी खा सकते हैं। इनमें विटामिन ई, मैग्नीशियम, राइबोफ्लेविन, जिंक आदि 15 महत्वपूर्ण पोषक तत्व होते हैं।
स्वाद बढ़ाने और सीजनिंग करने के लिए भी बादाम का उपयोग करना आसान है। बादाम किसी भी भारतीय खाने के साथ सेवन करने के लिए अच्छा विकल्प हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि बादाम में ट्रांस फैट नहीं होता है और वे स्वस्थ मोनोअनसैचुरेटेड वसा से भरपूर होते हैं।

टोफू (Tofu)

टोफू वीगन और शाकाहारियों के लिए बहुत ही लोकप्रिय विकल्प है। यह सोया दूध से बनाया जाता है और प्रोटीन का अच्छा स्रोत है। इसके अलावा, इसमें आवश्यक अमीनो एसिड के साथ-साथ फास्फोरस, आयरन, कैल्शियम और मैंगनीज भी शामिल हैं। यह उन लोगों के लिए एकदम सही स्टार्टर है जो स्थायी रूप से या अस्थायी रूप से वनस्पति-आधारित प्रोटीन (Plant based Protein) का सेवन करना चाहते हैं। टोफू अपनी कई खूबियों के लिए भी लोकप्रिय है। कई अन्य सोया उत्पादों की तरह, यह आसानी से अनगिनत तरीकों से व्यंजनों में मिलाया जा सकता है। टोफू काट कर, डाइस करके, श्रेड करके, कड़ाही में तल के, ग्रिल करके या कच्चा भी खाया जा सकता है!

tofu for protein

इसे भी पढ़ें: इन 5 सस्‍ते शाकाहारी फूड में होता है अंडे से ज्‍यादा प्रोटीन, जानिए एक दिन में कितनी मात्रा में लें Protein

सीटान (Seitan)

seitan for protein

सीटान वीगन आहार लेने वालों के लिए एक और लोकप्रिय विकल्प है, लेकिन टोफू के विपरीत, सीटान पूरी तरह से किसी भी सोया सामग्री से मुक्त है। वास्तव में, इसका रूप और बनावट वास्तविक मांस के समान ही है! यह उन मीट-प्रेमियों के लिए बहुत बड़ा वरदान है जो वनस्पति आधारित आहार (Plant based Diet) अपनाना चाहते हैं। सीटान में भरपूर प्रोटीन पाया जाता है और इससे कम कैलोरी मिलती है, जो वजन घटाने में सहायता कर सकती है। इसके अलावा, इसमें आयरन, कैल्शियम और फास्फोरस भी कम मात्रा में पाये जाते हैं। यह पूरी तरह से गेहूं के ग्लूटन से बना है, इसलिए जिन लोगों को ग्लूटन से समस्या होती है,  उन्हें इस विकल्प से सावधान रहना चाहिए।

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer