हैदराबाद में मरीज की क‍िडनी से न‍िकले 206 स्‍टोन, ऐसे नजर आए लक्षण

हैदराबाद के एक हॉस्‍प‍िटल में हैरान करने वाला केस सामने आया ज‍िसमें एक मरीज की क‍िडनी से 206 स्‍टोन ऑपरेशन के जर‍िए न‍िकाले गए  

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: May 20, 2022Updated at: May 20, 2022
हैदराबाद में मरीज की क‍िडनी से न‍िकले 206 स्‍टोन, ऐसे नजर आए लक्षण

हैदराबाद शहर में एक हैरत करने वाला केस डॉक्‍टरों के पास आया। एक शख्‍स की क‍िडनी से ऑपरेशन के दौरान 206 पथरी न‍िकली ज‍िसे देखकर डॉक्‍टर भी हैरान हुए, हालांक‍ि पहले भी ऐसे कुछ केस सामने आ चुके हैं पर आम केस के मुकाबले क‍िडनी में इतने स्‍टोन न‍िकालकर और मरीज की सेहत को पहले की तरह बेहतर करके डॉक्‍टरों ने भी म‍िसाल कायम की है। ये घटना नलगोंडा के रहने वाले 56 वर्षीय वीरमल्ला रामलक्ष्मैया से जुड़ी है ज‍िन्‍होंने लंबे समय से दर्द की श‍िकायत के बाद ऑपरेशन करवाने का फैसला क‍िया। चल‍िए जानते हैं क्‍या है पूरा मामला।

kidney stone

छह माह से मरीज को थी दर्द की श‍िकायत 

तेलंगाना के हैदराबाद में डॉक्‍टर ने कीहोल सर्जरी के जर‍िए एक घंटे में मरीज की क‍िडनी से 206 स्‍टोन बाहर न‍िकाले। उसकी क‍िडनी में बन रहे ये स्‍टोन लंबे समय से उसकी परेशानी का कारण बने हुए थे। मरीज छह महीने से अध‍िक समय से कमर की बाईं ओर तेज दर्द की श‍िकायत कर रहा था। गर्मी का मौसम आते ही मरीज की परेशानी और भी ज्‍यादा बढ़ गई। अप्रैल में नलगोंडा निवासी 56 वर्षीय वीरमल्ला रामलक्ष्मैया ने हैदराबाद के एक प्राइवेट हॉस्‍प‍िटल में डॉक्‍टरों से संपर्क क‍िया।       

क‍िडनी में पथरी की पुष्‍टी कैसे हुई? 

मरीज की क‍िडनी में पथरी होने की पुष्‍टी शुरूआती जांच और अल्‍ट्रासाउंड के आधार पर की गई ज‍िसमें पता चला क‍ि मरीज के बाईं ओर क‍िडनी में स्‍टोन की समस्‍या है इसके अलावा मरीज का सीटी स्‍कैन भी क‍िया गया था ज‍िसमें पथरी की ज्‍यादा संख्‍या के बारे में जानकारी म‍िली थी। जानकारी के मुताब‍िक डॉक्‍टर से मरीज और परि‍जनों की काउंसलिंग की क्‍योंक‍ि एक साथ इतनी पथरी न‍िकलना भी एक रेयर केस है ज‍िसके बारे में मरीज को पूरी जानकारी होना जरूरी है।

इसे भी पढ़ें- सिद्धा वॉकिंग से दूर हो सकती हैं ये परेशानियां, जानें अभ्यास का सही तरीका   

एक घंटा चली सर्जरी  

मरीज की सर्जरी करीब एक घंटा चली ज‍िसके बार डॉक्‍टर ने सभी कैलीकुली ज‍िसे पथरी कहा जाता है उसे न‍िकाल द‍िया। ऑपरेशन के बाद अब मरीज की सेहत में सुधार है और दूसरे द‍िन उसे हॉस्‍प‍िटल से छुट्टी भी दे दी गई है। डॉक्‍टरों ने पथरी न‍िकालने के ल‍िए की-होल सर्जरी की मदद ली। डॉक्‍टरों की मानें तो पथरी की समस्‍या क‍िसी को भी हो सकती है ज‍िससे बचने के ल‍िए आपको तेज धूप या गर्मी में ज्‍यादा समय तक रहना अवॉइड करना चाह‍िए।     

गर्मि‍यों में बरतें सावधानी (Kidney stone prevention tips)

आपको गर्मी के द‍िनों में इस बात का खास ख्‍याल रखना चाह‍िए क‍ि ये मौसम आपकी क‍िडनी की सेहत को ब‍िगाड़ सकता है। अगर आप सावधानी नहीं बरतेंगे तो आपकी क‍िडनी में पथरी की समस्‍या हो सकती है। डॉक्‍टर और एक्‍सपर्ट की मानें तो आपको गर्मी के मौसम में खुद को हाइड्रेट रखना चाह‍िए। अगर आप हाइड्रेशन का ख्‍याल रखेंगे तो क‍िडनी में स्‍टोन की समस्‍या से बच सकते हैं। वैसे ऐसा माना जाता है क‍ि हर द‍िन हमें 8 से 9 ग‍िलास पानी का सेवन करना चाह‍िए पर अगर कोई पानी की अध‍िक मात्रा का सेवन नहीं कर सकता तो वो खुद को हाइड्रेट रखने के ल‍िए नार‍ियल पानी, जूस आद‍ि का सेवन भी कर सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- बच्चों में क्यों होती है मस्कुलर डिस्ट्रॉफी की समस्या? जानें इसके प्रकार और लक्षण  

प्रश‍िक्ष‍ित डॉक्‍टर के पास ही जाएं 

इस केस में मरीज दर्द होने पर क‍िसी स्‍थानीय च‍िक‍ित्‍सक की दवा ले रहा था जो क‍ि उसे थोड़ी राहत म‍िली पर परेशानी खत्‍म नहीं हुई इसे देखते हुए आपको भी इस बात का खास ख्‍याल रखना है क‍िसी भी भ्रम में आकर अश‍िक्ष‍ित डॉक्‍टर के पास नहीं जाना है और आपको इसका भी खास ख्‍याल रखना है क‍ि क‍िसी भी तरह के घरेलू इलाज को न अपनाएं, अगर आपको बीमारी के लक्षण नजर आ रहे हैं या कोई भी ऐसे लक्षण नजर आ रहे हैं तो सामान्‍य से अलग हैं तो आपको फौरन डॉक्‍टर से संपर्क करना चाह‍िए।   

गर्मी के द‍िनों में खुद को हाइड्रेट रखें ताक‍ि आप पथरी की समस्‍या से बच पाएं और सोडा युक्‍त चीजों का सेवन अवॉइड करें।      

Disclaimer