सिद्धा वॉकिंग से दूर हो सकती हैं ये परेशानियां, जानें अभ्यास का सही तरीका

सिद्धा वॉकिंग करने से सेहत को कई लाभ मिलते है। बस इसे करने के दौरान आपको इन सावधानियों का ध्यान जरूर रखना चाहिए। 

Dipti Kumari
Written by: Dipti KumariPublished at: May 20, 2022Updated at: May 30, 2022
सिद्धा वॉकिंग से दूर हो सकती हैं ये परेशानियां, जानें अभ्यास का सही तरीका

खुद को फिट और तंदुरुस्त रखने के लिए सुबह-सवेरे वॉक पर जाना काफी लाभदायक माना जाता है। इससे आप न सिर्फ स्वस्थ रहते है बल्कि आपका वजन भी संतुलित रहता है। वॉक करना आपको मानसिक रूप से भी काफी लाभ पहुंचाता है। सुबह-सुबह की ठंडी हवा आपके मन और मस्तिष्क को शांत करती है। इससे पूरे दिन आपका काम में मन भी लगता है। वॉक करने का ऐसा ही एक तरीका है सिद्धा वॉकिंग। इसके बारे में बेहद कम लोग जानते है लेकिन इससे सेहत को कई बेहतरीन लाभ मिलते हैं। इसे कई देशों में इन्फिनिटी वॉकिंग कहा जाता है। वहीं, भारत में इसे 8 वॉकिंग के नाम से भी जाना जाता है। इसे आप घर के अंदर कमरे में, छत पर, गार्डन में भी कर सकते हैं। लेकिन, वहां जहां हवादार और खुली जगह हो। आमतौर पर लोग सिद्धा वॉकिंग को योग से जोड़कर देखते हैं। यह वॉकिंग के साथ-साथ मेडिटेशन का काम भी करता है। सिद्धा वॉकिंग में सारी परेशानियों और तनाव को भूलकर केवल वॉकिंग करने पर ध्यान लगाया जाता है। दरअसल जैसे अलग-अलग अंगों से जुड़े योग को अलग-अलग नाम दिया गया है, उसी तरह से ध्यानपूर्वक टहलने को सिद्धा वॉकिंग का नाम दिया गया है। आइए इसके फायदे और अभ्यास के तरीके के बारे में विस्तार से जानते हैं। 

सिद्धा वॉक करने के फायदे

1. जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया कि सिद्धा वॉकिंग करने से आपका पाचन तंत्र सही रहता है, जिसकी मदद से आपको पेट से जुड़ी समस्याएं नहीं होती है। 

2. पेट ठीक रहने पर आपका वजन और इम्यून सिस्टम भी मजबूत बना रहता है। साथ ही आप मौसम बदलने पर भी आसानी से बीमारियों का शिकार नहीं बनते हैं। 

3. यह हाई बीपी और डायबिटीज की समस्याओं में भी लाभकारी माना जाता है। चलने से आपका ग्लूकोज लेवल संतुलित रहता है और नस नाड़िया गतिमान रहती है। 

4. यह आपके स्ट्रेस को कम करने और तनावमुक्त बनाने में मदद कर सकता है। इससे आप दिनभर ऊर्जावान महसूस करते हैं। 

5. यह बुजुर्ग महिलाओं और पुरुषों के लिए भी काफी फायदेमंद है और वे घर या अपने गार्डन में ही सिद्धा वॉकिंग कर सकते हैं। 

6. इसके नियमित अभ्यास से आपकी स्मरण शक्ति और एकाग्रता बढ़ती है। इसके अलावा आपको सिरदर्द और घुटनों में दर्द की शिकायत नहीं रहती है। 

siddha-walking

Image Credit- Freepik

सिद्धा वॉकिंग करने का तरीका 

1. चलना शुरू करें

सिद्धा वॉकिंग में सबसे पहले दक्षिण से उत्तर दिशा की ओर 15 मिनट तक चलें। फिर इसी तरह आप दक्षिण दिशा की ओर 15 मिनट चलें। 

2. मन को शांत करें

आप सिद्धा वॉकिंग करते समय किसी भी प्रकार के विचार को अपने मन में न लाएं। अपने आपको सिर्फ 8 के आकार पर चलने पर कॉन्सन्ट्रेट करें। इसके अलावा बहुत तेज गति से न चलें। एक संयमित गति से चलते हुए सांस लें।

इसे भी पढे़ं- रोजाना योग करने से शरीर, मन और मस्तिष्क को मिलते हैं ये 6 फायदे

3. पेट पूरी तरह से खाली 

सिद्धा वॉकिंग का अभ्यास करते समय आपको एक बात का खास ध्यान रखना चाहिए कि जब आप इसका अभ्यास करें। आपका पेट पूरी तरह से खाली हो क्योंकि अगर पेट भरा होगा, तो आपको परेशानी हो सकती है। 

siddha-walking

Image Credit- Freepik

4. नंगे पांव चलें

सुबह के समय घास पर या ऐसे भी अगर आपको नंगे पैर चलने की आदत है, तो ये आपके लिए काफी फायदेमंद होता है। नंगे पांव चलने से आपके पैर के एक्यूप्रेशर प्वाइंट पर दबाव बनता है और इससे कई समस्याओं से राहत मिलती है। 

5. मोबाइल फोन से दूर रहें

कई लोगों की आदत होती है कि वे वॉक करते समय या एक्सरसाइज करते समय गाना सुनते हैं। हालांकि इसमें कोई बुराई नहीं है लेकिन सिद्धा वॉकिंग के दौरान आपको किसी भी तरह के शोर से दूर रहना चाहिए ताकि आप ध्यान लगा सकें। 

Main Image Credit- Freepik

Disclaimer