क्यों जरूरी है बच्चों के स्टेम सेल को सुरक्षित रखना

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 01, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • स्टेम सेल से कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों का इलाज कर सकते हैं। 
  • यह सिर्फ बच्चे के लिए ही नहीं परिवार के सदस्य के लिए भी जरूरी है।
  • स्टेम सेल को 600 साल तक सुरक्षित रख सकते हैं।
  • स्टेम सेल को सुरक्षित रखने के लिए बैंक भी खोल गए हैं।

आजकल बच्चों के स्टेम सेल को सुरक्षित रखने का चलन जोरों पर है। इसके लिए देश में काफी बैंक भी खुल गए हैं। जो आपके बच्चे के स्टेम सेल सुरक्षित रखते हैं। अब सवाल यह है कि आखिर इससे क्या फायदा होगा तो हम आपको बता दें कि ये स्टेम सेल ना सिर्फ आपके बच्चे के लिए बल्कि आपके परिवार के लिए बहुत फायदेमंद साबित होती हैं।

 

गर्भ में पल रहे शिशु के लिए गर्भनाल जीवन की डोर होती है और अब यही गर्भनाल स्टेम कोशिका के जरिए मस्तिकाघात, कैंसर, अनुवांशिक और हृदय से जुड़े रोगों के इलाज के तौर पर सामने आयी है। बच्चे को नाभि के जरिए मां से जोड़ने वाली नाल को गर्भनाल यानी प्लेसेंटा कहा जाता है। शिशु के जन्म के बाद आम तौर पर गर्भनाल को दोनों तरफ से काट कर फेंक दिया जाता है लेकिन कई शोधों ने गर्भनाल को बेहद महत्वपूर्ण बना दिया है।

stem cell preserve

गर्भनाल सुरक्षित रखने के लाभ

गर्भनाल को सुरक्षित रखने का सबसे बड़ा लाभ यह भी है कि इससे बच्चे के साथ ही गंभीर रूप से बीमार परिवार के दूसरे सदस्यों का भी उपचार किया जा सकता है। गर्भनाल में मौजूद स्टेम सेल की सहायता से ही डाक्टरों ने घातक बीमारियों के इलाज में सफलता हासिल की है। इन कोशिकाओं को प्लेसेंटा बैंक में कई साल तक सुरक्षित रखा जा सकता है। ऐसे लोग जो ऐसी गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं और जिनका उपचार अब भी चिकित्सा जगत के लिए चुनौती है। ऐसे लोग न केवल खुद रोग मुक्त हो सकते हैं, बल्कि आने वाली पीढ़ियों को भी इससे बचा सकते हैं।

गर्भनाल को काटे जाने के बाद उससे रक्त निकाला जाता है। इस रक्त को प्लेसेंटा बैंक भेजा जाता है। बैंक में माइनस 196 डिग्री सेंटीग्रेड के तापमान पर इसे तरल नाइट्रोजन की सहायता से सुरक्षित रख जाता है। इस रक्त को लगभग 600 साल तक सुरक्षित रखा जा सकता है।
stem cell

नयी कोशिकाओं को विकसित करने की ताकत

गर्भनाल के रक्त से निकाली गईं इन कोशिकाओं को शरीर की मुख्य कोशिका या मास्टर सेल कहा जाता है। इन कोशिकाओं में मानव शरीर की 200 से अधिक कोशिकाओं को विकसित करने की क्षमता होती है। स्टेम कोशिकाओं की सबसे बड़ी खासियत यह भी है कि इनमें जीवन भर विभाजन की क्षमता होती है। इससे यह नष्ट हो चुकी या क्षतिग्रस्त हो चुकी कोशिकाओं की जगह भी ले सकती हैं और वहां नई कोशिकाएं तैयार कर सकती हैं।

सैकड़ों बीमारियों का इलाज

अभी तक अस्थि मज्जा यानि बोन मैरो से कोशिकाएं लेकर इलाज किया जाता था लेकिन अब गर्भनाल से निकली कोशिकाओं को भी सफलता से प्रयोग में लाया जा रहा है। स्टेम सेल कोशिकाओं से रक्त संबंधित बीमारियों का कारगर इलाज किया जा रहा है। थैलेसिमिया जैसी खतरनाक बीमारियों में तो यह काफी फायदेमंद है। अन्य बीमारियों में इसके उपयोग पर रिसर्च जारी है। फिलहाल दुनिया भर में स्टेम कोशिकाओं की मदद से 100 से अधिक बीमारियों का इलाज किया जा रहा है। इस क्षेत्र में काम करने वाले वैज्ञानिक लगातार शोध में जुटे हैं। वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि जल्द ही इससे अन्य बीमारियों का भी इलाज किया जा सकेगा जो अब तक असाध्य है।

 

इसलिए अब आप भी बच्चों की स्टेम सेल को सुरक्षित रखने की तैयारी कर लें। यह आपके बच्चे के साथ-साथ परिवारा के अन्य लोगों के लिए भी फायदेमंद हो सकता है।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES19 Votes 1972 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर