जानें क्या है आई कांटेक्ट फ्लर्टिंग के पीछे छिपा विज्ञान

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 20, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • आंखों-आंखों में फ्लर्टिंग करने से विश्वास बढ़ता है।
  • आंखों-आंखों में फ्लर्टिंग करने से मीठी यादें जुड़ती हैं।
  • आंखों-आंखों में फ्लर्टिंग करने से आत्मविश्वास बढ़ता है।
  • आंखों-आंखों में फ्लर्टिंग करने से दूसरे को समझा जा सकता है।

फ्लर्टिंग बड़ी दिलचस्प चीज है। खासकर जब आप आंखों-आंखों में फ्लर्ट करने की कोशिश करें। अब जरा सोचिए कि क्या कभी आपने अपने प्यार को या कहें अपने क्रश को दूर से घूरा है? क्या आपने कभी दूर से ही उसके साथ आंखों से संपर्क साधने की कोशिश की है? क्या कभी अपने प्यार को तब तक देखा है जब तक उसके चेहरे पर मुस्कुराहट न आए जाए या फिर वह शर्माने न लगे? क्या ये सारी बातें आपके मन में रोमांच नहीं पैदा करती हैं? बहरहाल आप ऐसे अकेले व्यक्ति नहीं हैं जो आंखों-आंखों में फ्लर्ट करते हुए संकोच महसूस करते हैं। आपकी तरह तमाम ऐसे लोग हैं जो अपने क्रश को एकटक निहार नहीं पाते। असल में दूसरों की आंखों में घूरना जबरदस्त भाव है। यह न सिर्फ सकरात्मक प्रभाव छोड़ता है वरन यह आपको नकारात्मकता की ओर भी ले जा सकता है। अब कविता की बात सुनें। कविता कहती है कि मैं पिछले दिनों पार्टी में गयी थी जहां एक लड़का मुझे एकटक घूर रहा था। मैंने पार्टी के मेजमान से उसकी शिकायत की जिसके बाद उस लड़के को पार्टी से निकाल बाहर कर दिया गया।

आंखों-आंखों में देखकर फ्लर्ट करना दिलचस्प तो है साथ ही अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए प्रभावशाली भी है। हैरानी की बात यह भी है कि यदि आप आंखों-आंखों में फ्लर्ट नहीं करेंगे तो आपके रिश्ते को पिक अप मिलने में मुश्किलें भी आ सकती हैं। बहरहाल इस लेख में आंखों-आंखों में फ्लर्ट के पीछे छिपे विज्ञान पर चर्चा करेंगे।

 

दूसरों को खुश करना

आप चाहें फ्लर्ट करें या न करें यदि आप अपने क्रश को मुस्कान देते हुए एकटक निहारते हैं तो उस  पर सकरात्मक असर पड़ता है। असल में यह उसे खुश करने का एक तरीका भी है। इससे वह आपके बारे में अच्छा सोचने के लिए बाध्य होती है। यही नहीं वह आपके पास आ भी सकती है या फिर उम्मीद करती है कि आप उसके पास जाएं।

 

दूसरों को पढ़ने की कोशिश

आंखों-आंखों में संपर्क कर फ्लर्टिंग करने से दोनों एक दूसरे को जानने की कोशिश भी करते हैं। यही नहीं एक दूसरे के प्रति आलोचनात्मक रुख भी इख्तियार करते हैं। दरअसल आंखों-आंखों में संपर्क करना कोई सहज क्रिया नहीं है। मन में चोर हो तो भी आंखों में आंखें डालकर संपर्क नहीं किया जा सकता है। अतः यह पुरुष और महिला दोनों को एक दूसरे के लिए प्रति न्यायपरख बनाता है और एक दूसरे को जानने में मदद भी करता है।

 

विश्वसनीय बनाता है

क्या आप जानते हैं कि जिसे आप प्यार करते हैं या जिस पर आपका क्रश है, यदि आप उसे एकटक निहारते हैं तो यह आप दोनों का विश्वास भी बढ़ाता है। दरअसल जब आप अपने क्रश को एकटक देखते हैं तो इससे उसे यकीन होने लगता है कि आपकी दीवानगी उसके प्रति है। ऐसा ही पार्टनर के साथ भी होता है। यदि आप प्यार करते हुए अपने पार्टनर की आंखों में आंखें डालकर बातें करते हैं तो प्यार मजबूत होता है साथ ही विश्वास भी दुगाना हो जाता है।

 

लीडर बनाता है

यदि आप अपने पार्टनर की ओर बिना पलक झपकाएं देखते हैं तो समझ जाइये कि आपमें लीडर बनने वाले गुण हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि आप उसे देखते हुए उसे असहज महसूस कराते हैं। शायद आपको पता नहीं है कि दुनिया के तमाम बड़े लीडर हमेशा आंखों में आंखें डालकर बातें करते हैं। दरअसल आंखों में आंखें डालकर बातें करने से उत्साह बढ़ता है, आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती है और आत्मविश्वास बढ़ता है। ऐसा ही तमाम रिलेशन में भी होता है और आपका क्रश भी इससे अछूता नहीं रह सकता है।

इसे भी पढ़ें- रिश्तों से जुड़ीं ये 5 हैरान करने वाली बातें, जरूर जानिए

हथियार भी है

आंखों-आंखों में देखकर आप सामने वाला का आत्मविश्वास हिला सकते हैं। यदि आपकी ओर कोई गंदी नजरों से देख रहा है या फिर वह आपको छेड़ने की कोशिश कर रहा है तो जरूरी है कि कुछ देर आप भी उसे घूरें। ध्यान रखें कि आपकी नजर में विरोध, आक्रामक और गुस्सा होना चाहिए। यदि आपकी आंखों में दयनीयता होगी तो वह कभी भी आपको घूरना बंद नहीं करेगा वरन उसका हौसला और बढ़ जाएगा। इसके अलावा आंखों-आंखों में घूरना एक तरह का हथियार भी है। यदि आपका क्रश आपको किसी चीज के फोर्स करता है तो आपके एकटक निहारने से वह फोर्स नहीं कर पाएगा। वह जान जाएगा कि आप जो नहीं पसंद, सो नहीं पसंद।

 

मीठी यादें

आंखों-आंखों में फ्लर्टिंग करने से कुछ मीठी यादें भी जुड़ जाती है। जी, हां! जहां एक ओर आंखों-आंखों में फ्लर्टिंग करना आत्मविश्वास बढ़ाना, विश्वास पैदा करना, सम्मान बढ़ाना आदि है तो वहीं दूसरी ओर इसके जरिये कुछ मीठी यादें भी जुड़ जाती है। दरअसल आंखों-आंखों में फ्लर्ट करने से दोनों पार्टनर एक दूसरे के साथ छुटपुट शरारतें कर सकते हैं, एक दूसरें के साथ छेड़छाड़ कर सकते हैं। ये तमाम बातें मीठी यादों में शुमार हो जाते हैं।

 

Read more articles on Relationship in Hindi.

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES1 Vote 2452 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर