गर्भवती महिलाओं को पेनकिलर लेने चाहिए की नहीं ?

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 08, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • हर पेनकिलर के थोड़े-बहुत साइडइफेक्ट होते हैं।
  • इस कारण गर्भावस्था में नहीं लेने चाहिए पेनकिलर।
  • पेनकिलर लेने से प्रसव में बढ़ जाता है सात गुना खतरा।

गर्भावस्था एक ऐसा समय है जब हर छोटी सी छोटी बातों का ख्याल रखा जाता है। कुछ भी खाने से पहले पूरी तरह से सावधानी बरती जाती है। हर चीज को खाने से पहले दस बार मां-दादी विशेष सलाह देती हैं। ऐसे में जब आप हर छोटी-छोटी बातों का ख्याल रख रही हैं तो फिर पेनकिलर ऐसे ही क्यों ले ले रही हैं...?


आज इस लेख में हम इस बारे पर विचार-विमर्श करने वाले हैं कि क्या गर्भावस्था के दौरान पेनकिलर का सेवन करना चाहिए? 

इसे भी पढ़ें- जानें, डिलीवरी के बाद घी खाना चाहिए या नहीं?

कब लेते हैं पेनकिलर   

  • बुखार में
  • कमर दर्द में
  • पेट दर्द में


ऊपर दी गई तीनों स्थितियों में लोग बिना किसी चिकित्सक परामर्श के पेनकिलर ले लेते हैं। इस कारण कई लोग घर पर पेनकिलर रखते भी हैं कि जरूरत पड़ने पर मार्केट ना जाना पड़े। जबकि इन पेनकिलर के कुछ साइडइफेक्ट्स भी होते हैं। जो बहुत समय तक लगातार लेने पर नजर आते हैं।


लेकिन गर्भवति महिलाओं के साथ ऐसा नहीं होता।


उनपर इन पेनकिलर्स के साइडइफेक्ट तुरंत होते हैं जिस कारण उन्हें पेनकिलर नहीं लेना चाहिए। वैसे भी गर्भवस्था में तो कुछ भी खाने से पहले घर पर मौजूद बड़ों की विशेष सलाह ली जाती है। ऐसे में पेनकिलर लेने से पहले तो विशेष तौर पर सलाह लेनी चाहिए।

 

बढ़ जाएगा सात गुना खतरा

गर्भावस्‍था के दौरान कई बार महिलाएं कुछ असामान्य समस्या होने पर दर्दनिवारक दवाईयों का सेवन कर लेती हैं। सामान्य दर्द को दूर करने के लिए आप जिस पेनकिलर का सेवन करती हैं वो आपके शरीर में असामान्य स्थिति पैदा कर देती है। इस बात की पुष्टि इस रिसर्च में की गई है जिसको डेनमार्क, फिनलैंड और फ्रांस के शोधकर्ताओं ने मिलकर तैयार की है। यह रिसर्च 2,000 गर्भवति महिलाओं और उनके बच्चों पर हुआ है।
इस रिसर्च के परिणाम में ये बात नकल कर आई है कि जिन महिलाओं ने गर्भावस्था के दौरान पेनकिलर लिया था उनमें प्रसव के दौरान खतरा सात गुना बढ़ गया था। जो महिलाएं पेनकिलर का सेवन नहीं करती हैं उनमें ऐसे खतरे की संभावना न के बराबर होती है।

इसे भी पढ़ें- जल्द प्रेग्नेंट होने के लिए करें सिर्फ ये 4 एक्सरसाइज!

बनता है जन्म विकार का भी कारण

इसके अलावा दूसरे सर्वे में पाया गया है कि ये दर्द निवारक गोलियां बच्चों में जन्‍म विकार का कारण भी बन जाती हैं। इस सर्वे में देखा गया है कि जिन महिलाओं ने गर्भावस्‍था के दौरान दर्दनिवारक गोलियां ली थीं उनमें प्रसव के दौरान जन्‍म विकार की संभावना 6 प्रतिशत बढ़ गई। साथ ही इसका असर बच्चे के मस्तिष्क पर भी पड़ता है।


इसलिए हर महिला को गर्भावस्था के दौरान किसी भी प्रकार की दवा का सेवन से पहले चिकित्सक से परामर्श जरूर लेना चाहिए।

 

Read more articles on Pregnancy in Hindi.

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES1543 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर