जानें कैसे मछली के सेवन से कम होता है ब्रेस्ट कैंसर का जोखिम

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 08, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • आमतौर पर स्तन कैंसर की समस्या महिलाओं में 40 साल के बाद होती है।
  • स्तन कैंसर में मछली के तेल का सेवन बेहद फायदेमंद होता है : शोध।
  • जर्नल ऑफ़ कैंसर एपिडेमियोलॉजी बायोमार्कर एंड प्रिवेंशन में प्रकाशित शोध।
  • रजोनिव्रत्ति के बाद वाली 35,000 से भी अधिक महिलाओं पर हुआ अध्ययन।

महिलाओं में स्तन कैंसर एक गंभीर समस्या रही है। अधिकांश मामलों में स्तन कैंसर की समस्या महिलाओं में 40 साल के बाद होती है। स्तन कैंसर की प्रारंभिक स्थिति में ब्रैस्ट में एक छोटी सी गांठ जैसी होती है और समय के साथ यह बढ़ती जाती है। हाल में हुए एक शोध से पता चला है कि स्तन कैंसर में मछली के तेल का सेवन बेहद फायदेमंद होता है। चलिेये विस्तार से जानें कि मछली के सेवन से ब्रेस्ट कैंसर का जोखिम कैसे कम होता है।

शोध से आए परिणाम

जर्नल ऑफ़ कैंसर एपिडेमियोलॉजी बायोमार्कर एंड प्रिवेंशन में प्रकाशित खोज के अनुसार, मछली के तेल की खुराक से स्तन कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है। मछली के तेल से हृदय रोग के जोखिम के कम होने से संबंधित अध्ययन आते रहे हैं, लेकिन हालिया शोधों से इसके कैंसर की रोकथाम में प्रभावी होने के बारे में जानकारियां मिली हैं। फ्रेड हचिंसन कैंसर रिसर्च सेंटर के शोध से पता चला कि मछली में मौजूद ओमैगा 3 स्तन कैंसर की रोकथाम कर सकता है।

 

Eating Fish in Hindi

 

इस शोध में रजोनिव्रत्ति के बाद वाली 35,000 से भी अधिक महिलाओं ने एक 24 पेज वाली प्रश्नावली को पूरा किया ताकि उनके गैर विटामिन, गैर खनिज, खासतौर पर सप्लिमेंट की खुराक का मूल्यांकन कियाजा सके। इस अध्ययन में हिस्सा लेने वालीमहिलाओं को स्तन कैंसर का कोई इतिहास नहीं था, और ना ही इस अध्ययन में हिस्सा लेते समय ही उनमें स्तन कैंसर था। छह वर्षों के फॉलो-अप के दौरान 880 अध्ययन प्रतिभागियों में स्तन कैंसर विकसित हुआ। इसतेमाल किये गये सभी सप्लीमेंट्स में से मछली के तेल वाला सप्लिमेंट लेने वाली महिलाओं में स्तन कैंसर का जोखिम कम होता देखा गया। सभी महिलाओं में से नियमित फिश ऑयल सप्लीमेंट लेने वाली महिलाओं में स्तन कैंसर का जोखिम 32 प्रतिशत तक कम था।


हालांकि शोधकर्ताओं का कहना है कि इस विषय पर अभी और भी शओध किये जाने की आवश्यकता है। अतः इस विषय पर पर्याप्त शोध हो जाने से पहले तक इसका सेवन ब्रैस्ट कैंसर में सीधे नहीं किया जाना चाहिये। शोधकर्ताओं के अनुसार, "मरीज को इस संबंध में अपने डॉक्टर सेविचार विमर्श कर लेना चाहिये"।  


Image Source - Getty

Read More Articles On Breast Cancer In Hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES6 Votes 3677 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर