मानसिक शक्ति बढ़ाने वाले आहार

By  , विशेषज्ञ लेख
Jul 18, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • आहार का मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर होता है गहरा असर।  
  • ओमेगा फैटी 3 एसिड देता है दिमाग को शक्ति।
  • अखरोट, सालमन मछली और बादाम है मस्तिष्‍क के लिए जरूरी।
  • वसा युक्‍त आहार से दूर रहना है आपके लिए फायदेमंद।

तनाव और थका देने वाला काम हमारी जिंदगी का हिस्‍सा बन गया है। इसका असर हमारी सेहत पर भी पड़ने लगा है। काम के अधिक बोझ के चलते चिंता और अवसाद जैसे रोजमर्रा की बात हो गई हो। इन परेशानियों को नियंत्रण में रखना जरूरी है, क्‍योंकि अगर ये समस्‍यायें बढ़ जाएं तो इसका असर किसी के भी शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य पर पड़ता है।

कई अन्‍य कारणों की तरह आपके आहार का भी आपकी सेहत पर गहरा असर पड़ता है। आपको स्‍वस्‍थ अहार का सेवन करना चाहिये। संतुलित और पौष्टिक आहार ही स्‍वस्‍थ जीवन का आधार है। सप्‍लीमेंट्स पर जितना हो सके, कम निर्भर रहना चाहिये। जंक फूड और अधिक वसा युक्‍त खाना आपकी शारीरिक और मानसिक सेहत के लिए अच्‍छा नहीं होता। ऐसे में आपको इन खाद्य पदार्थों के सेवन से बचना चाहिये। इसके साथ ही तनावरहित और खुश रहने के लिए आपको नियमित व्‍यायाम भी करना चाहिये।

salmon fish in hindi
अपनी आहार योजना में इन चीजों को शामिल कर आप अपने मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को दुरुस्‍त रख सकते हैं।

1. ओमेगा फैटी 3 एसिड से भरपूर आहार

थकान, अवसाद और सिक्र‍िजोफ्रेनिया आदि जैसी परेशानियों को दूर करने के लिए आपको रोजाना ओमेगा फैटी-3 आधारित आहार का सेवन करना चाहिये। ओमेगा फैटी-3 एसिड हमारे शरीर में पर्याप्‍त मात्रा में नहीं बनता। इसलिए आपको आहार के माध्‍यम से ही इसकी पूर्ति करनी पड़ती है। इसके लिए आपको सालमन मछली, अखरोट, अंडे और कनोला ऑयल का सेवन करना चाहिये। ओमेगा 3 न्यूरोट्रांसमीटर सेरोटोनिन का स्राव करता है जो सीखने और संज्ञानात्‍मक कार्य करने की क्षमता में इजाफा करता है।

2. प्रोटीन युक्‍त खाद्य पदार्थ

प्रोटीन हमारे शरीर को कॉम्‍प्‍लेक्‍स कार्बोहाइड्रेट मुहैया कराते हैं। जो हमारे शरीर के निर्माण में मदद करते हैं। इसके साथ ही ये न्‍यूरोट्रांसमीटर सेरोटोनिन का भी निर्माण करते हैं। इससे चिंता, अवसाद और इससे जुड़ी समस्‍यायें कम होती हैं। प्रोटीन के लिए आपको डेयरी उत्‍पाद, अंडे की सफेदी, चिकन, बीन्‍स, पनीर और सोयाबीन की फलियों का सेवन करना चाहिये।

3. कार्बोहाइड्रेट

हमारे मस्तिष्‍क को ग्‍लूकोज की जरूरत होती है। यह तन-मन के लिए ईंधन के तौर पर काम करता है। ग्‍लूकोज की कम मात्रा आपके मूड में बदलाव ला सकती है। सामान्‍य कार्बोहाइड्रेट की तुलना में कॉम्‍प्‍लेक्‍स कार्बोहाइड्रेट ज्‍यादा उपयोगी होता है। यह ग्‍लूकोज को धीरे-धीरे से स्रावित करता है जिससे आपको लंबे समय तक पेट भरे होने का अहसास होता है। कॉम्‍प्‍लेक्‍स कार्बोहाइड्रेट आपको गेहूं उत्‍पादों, ओट्स, जौ, बीन्‍स आदि से मिल सकता है।

4. फॉलिए एसिड और विटामिन बी    

चिंता, अवसाद, अनिद्रा और थकान का संबंध फॉलिक एसिड और विटामिन बी से होता है। इन लक्षणों को दूर करने के लिए आपको हरे पत्‍तेदार सब्जियों जैसे, पालक, ब्रोकली आदि को अपने आहार में शामिल करना चाहिए। ब्रोकली में सेलेनियम भी भरपूर मात्रा में होता है, जो मानसिक सुकून पहुंचाने का काम करता है। सेलेनियम की कमी से मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा असर पड़ता है। इससे उबरने के लिए आपको चिकन, साबुत अनाज के उत्‍पाद और अखरोट आदि का सेवन करना चाहिए।
walnut for brain

5. तरल पदार्थ

मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए पर्याप्‍त मात्रा में पानी पीना बहुत जरूरी है। निर्जलीकरण की अवस्‍था आने पर शरीर कोशिकाओं से पानी सोखने लगता है। इसके साथ ही आपको कैफीन युक्‍त पेय पदार्थों के अधिक सेवन से भी बचना चाहिए। इन पदार्थों का अधिक सेवन आपको उच्‍च रक्‍तचाप, अवसाद और कई अन्‍य समस्‍यायें भी दे सकता है। इसलिए आपको नारियल और नींबू पानी जैसे पेय पदार्थों का सेवन करना चाहिए। चाय और कॉफी जैसे पेय पदार्थों का सेवन सीमित मात्रा में ही करना चाहिये।

6. विटामिन बी1 और जिंक

शरीर में यदि विटामिन बी1 और जिंक की कमी हो जाए तो इसका असर मूड परिवर्तन और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर पड़ता है। व्‍यक्ति को अवसाद, चिंता, थकान, क्रोध, उच्‍च रक्‍तचाप आदि परेशानियां हो सकती हैं। अल्‍कोहल युक्‍त पदार्थों का अधिक सेवन इस प्रकार की परेशानी का कारण बन सकता है। सी-फूड, मटर, अंडा, दूध और दही आदि में जिंक और विटामिन बी1 भरपूर मात्रा में होता है।

तो, हमारे आहार का हमारे मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर गहरा असर पड़ता है। इसलिए इन खाद्य पदार्थों का सेवन कर आप अपने दिमाग को तंदुरुस्‍त रख सकते हैं।

Image Courtesy : Getty Images

Read More Articles on Mental Health in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES42 Votes 7149 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • Kavita22 Jul 2014

    ye sach hai ki thankan bhari jindgi ka asar sharirik aur mansik dono tarah se hamare per hone laga hai. Aise me is article se mili jaankari hamare liye bahut fayademand sabit hogi.

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर