कहीं आपके पेट दर्द की वजह अमीबिक पेचिश तो नहीं

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 12, 2017
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • कई बार पेट दर्द सामान्य स्थिति नहीं होती।
  • ये अमीबिक पेचिश के कारण होता है।
  • इससे 70,000 लोगों की मृत्यु हो जाती है।

गर्मी में कई बार पेट में मरोड़े उठने लगते हैं। खूब पेट दर्द देता है। इस पेट दर्द को कुछ लोग सामान्य दर्द मानकर नजरअंजदाज कर देते हैं या फिर गर्म पानी पीकर बैठ जाते हैं। गर्म पानी से थोड़ा आराम मिलता है तो सोचते हैं कि इलाज हो गया ... लेकिन ये इलाज कुछ समय के लिए ही होता है। क्योंकि गर्मी में होने वाले पेट दर्द का कारण सामान्य पेट दर्द नहीं होता बल्कि ये अमीबिक पेचिश के कारण होता है।


न्यूट्रीहेल्थ की फाउंडर शिखा शर्मा का कहना है कि अमीबिक पेचिश पेट में अमीबा बनने को कहते हैं। अमीबा सामान्य तौर पर मल पर बनता है लेकिन कई बार ये पेट में बनने लगता है जो की पेट दर्द का कारण होता है। इस लेख में अमीबिक पेचिश से होने वाले पेट दर्द के बारे में विस्तार से जानें।

 

एमीबायोसिस

इसको मेडिकल लैंगवेज में एमिबायोसिस कहते हैं। यह बाहर के खाने से या चीनी व मैदा ज्यादा मात्रा में खाने से होता है। दरअसल इंसान के आंतों में दो प्रकार के बैक्टीरिया होते हैं- अच्छे और बूरे। जब हम गंदा या अनहेल्दी भोजन ज्यादा करते हैं तो आंत में उपस्थित अच्छे बैक्टीरिया मर जाते हैं और बूरे बैक्टीरिया के कारण पेट में अमीबिक पेचिश बनने लगते हैं जिससे की पेट दर्द की शिकायत होती है। गर्मी के मौसम में अमीबिक पेचिश की समस्या अधिक होती है।

डॉ. शिखा शर्मा, न्यूट्रीहेल्थ फाउंडर

 

कितना सामानय है ये अमीबिक पेचिश  

अमीबिक पेचिश की समस्या भारत और विकासशील देशों में काफी सामान्य मानी जाती है। एक रिसर्च के अनुसार ये बात सामने आई है कि हर साल इसके कारण दुनिया में 70,000 लोगों की मृत्यु हो जाती है।

इसे भी पढ़ें- पेट दर्द की समस्‍या से निजात पाने के लिए अपनाइए आसान घरेलू उपचार

 


इनसे फैलता है

  • दूषित भोजन और पानी
  • स्ट्रीट फुड
  • अनहेल्दी फुड,
  • पेट में गैस बनने की समस्या से
  • चीनी और मैदा अधिक खाने से

प्रारंभिक लक्षण

  • पेट फूलना
  • पेट में मरोड़े उठना
  • गैस की समस्या बनना
  • पेट में असहनीय दर्द
  • कब्ज की समस्या और मल करने में दर्द देना
  • दुर्गंधयुक्त मल

 


बाद के लक्षण

  • बुखार
  • ठंड लगना
  • पेट में मतली होना
  • उल्टी होना

इसे भी पढें- आंवले के रस से दूर होगी यूरीन की समस्या

उपचार

अमीबिक पेचिश से बचने के लिए डॉ. शिखा कहती हैं कि, इसके उपचार के तौर पर डॉक्टर लोगों को एंटोबायोटिक कोर्स करवाते हैं। ये कोर्स छह से सात महीने का होता है। लेकिन इस स्थिति तक खुद को पहुंचने ना दें। इसके लिए बाहर का खाना पूरी तरह से बंद कर दें। ऐसे ही अन्य बातों का भी ख्याल रखना चाहिए।

  • बाहर का खाना, खाना बंद करें।
  • त्रिफला खाएं।
  • लहसून खाएं।
  • एंटीबायोटिक आंवला रोज सुबह-शाम खाएं।
  • आंवले और एलोवेरा का जूस पिएं।

 

Read more articles on Other disease in Hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES671 Views 0 Comment