Expert

किडनी के रोगों से बचाता है किडनी मुद्रा का अभ्यास, जानें इसके फायदे और करने का तरीका

Yoga Mudra For Kidney: किडनी को स्वस्थ रखने के लिए इस मुद्रा का अभ्यास बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है, जानें- करने का तरीका।

 
Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarPublished at: Jun 29, 2022Updated at: Jun 29, 2022
किडनी के रोगों से बचाता है किडनी मुद्रा का अभ्यास, जानें इसके फायदे और करने का तरीका

किडनी हमारे शरीर के महत्वपूर्ण अंगों में से एक है। यह हमारे खून को फिल्टर करने और अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करती है। अगर हमारी किडनी ठीक से काम नहीं करती है तो इससे शरीर में टॉक्सिन्स जमा होने लगते हैं। यह कई स्वास्थ्य समस्याओं का भी कारण बन सकता है। इसलिए संपूर्ण स्वास्थ्य की भलाई के लिए किडनी को स्वस्थ रखना बहुत जरूरी है। इन दिनों बहुत से लोग किडनी की समस्याओं से जूझ रहे हैं। यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन, किडनी स्टोन, पॉलीसिस्टिक किडनी डिजीज जैसी समस्याएं लोगों में बहुत आम हैं। समय रहते इनका उपचार न किए जाने पर यह आपकी किडनी को डैमेज कर सकते हैं और किडनी फेलियर जैसी गंभीर समस्याओं का कारण बन सकते हैं।

क्या आप जानते हैं किडनी की इन समस्याओं से छुटकारा दिलाने में कुछ योग मुद्राओं का अभ्यास (Yoga Mudras For Healthy Kidneys In Hindi) बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है। ऐसी ही एक योग मुद्रा है कफ शामक मुद्रा (Kapha Shamak Mudra) या किडनी मुद्रा (Kidney Mudra)। योगाचार्य और सर्टिफाइड योगा कोच जूही कपूर की मानें तो यह  किडनी के कार्य को बेहतर बनाने के लिए बहुत शक्तिशाली मुद्रा है। इस लेख में हम आपको किडनी मुद्रा के फायदे और अभ्यास का तरीका बता रहे हैं।

yoga mudra for kidneys

किडनी को स्वस्थ करने के लिए किडनी मुद्रा के फायदे

  • गुर्दे की पथरी को कम करती है
  • शरीर को डिटॉक्स करने में मदद करती है, शरीर में जमा गंदगी को बाहर निकलती है।
  • गुर्दे की बीमारियों से बचने और रोकने में मदद करती है
  • किडनी डायलिसिस के मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद है
  • मूत्राशय संबंधी समस्याओं से छुटकारा मिलता है
  • किडनी में सूजन से राहत मिलती है
 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Juhi Kapoor (@theyoginiworld)

कैसे करें अभ्यास

इसका अभ्यास करने के लिए मैट बिछाएं और पालती मारकर बैठ जाएं। अब अपने दोनों हाथ की आखिरी उंगलियों को हलेथी में दबाएं, और उनके ऊपर अंगूठे से दबाव डालें। बची हुई उंगलियों को ऊपर की और सीधा रखें। ध्यान की मुद्रा में बैठते हुए दोनों हाथों को अपनी जांघों के ऊपर रखें। धीरे-धीरे सांस लेते और छोड़ते रहें। आप इस मुद्रा में 5 से 15 मिनट तक रह सकते हैं। आप दिन में तीन बार इसका अभ्यास कर सकते हैं।

इसे भी पढें: रोज सुबह बच्चों के साथ करें ये 3 आसान योगासन, पूरे दिन रहेंगे एनर्जेटिक और हेल्दी

कब करें किडनी मुद्रा का अभ्यास?

जूही कपूर की मानें तो किडनी मुद्रा की सबसे अच्छी बात यह है कि आप इसका अभ्यास कहीं भी कर सकते हैं। एक चीज जिसका आपको ध्यान रखने की जरूरत है वह यह कि आपको इसका अभ्यास अपने मुख्य भोजन से एक घंटा पहले या बाद में करना है।

ये भी देखें: 

एक्सपर्ट क्या सलाह देते हैं

किडनी रोगियों के लिए इस मुद्रा का अभ्यास बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है। अगर आप किडनी से जुड़ी समस्याओं का सामना कर रहे हैं तो नियमित रूप से किडनी मुद्रा का अभ्यास करने से आपको जल्द राहत मिलेगी। कोशिश करें कि आप दिन में 1 से 2 बार इसका अभ्यास जरूर करें।

All Image Source: Freepik.com

Disclaimer

Tags