World Vitiligo Day 2020: विटिलिगो (सफेद दाग) क्‍या है, एक्‍सपर्ट से जानिए इसके लक्षण और मनोवैज्ञानिक प्रभाव

विटिलिगो एक जानलेवा बीमारी नहीं है, लेकिन चरम स्थितियों में किसी व्यक्ति को सुनने की शक्ति में कमी होना, आखों में जलन का अनुभव हो सकता है।

Atul Modi
Written by: Atul ModiUpdated at: Jun 24, 2020 12:45 IST
World Vitiligo Day 2020: विटिलिगो (सफेद दाग) क्‍या है, एक्‍सपर्ट से जानिए इसके लक्षण और मनोवैज्ञानिक प्रभाव

विटिलिगो यानी सफेद दाग के बारे में वैश्विक जागरूकता लाने की पहल के तौर पर हर साल 25 जून को वर्ल्‍ड विटिलिगो डे (World Vitiligo Day 2020) मनाया जाता है। यह त्‍वचा की ऐसी स्थिति है जिससे दुनिया की आबादी का लगभग 1% लोग प्रभावित हैं। इस समस्‍या से प्रभावित लोग अक्‍सर भेदभाव के शिकार होते हैं। दरअसल, विटिलिगो (Vitiligo in Hindi) एक ऑटोइम्यून (Autoimmune) परिस्थिति है जो त्वचा में पैची डिपिगमेंटेशन की ओर बढ़ती है। हालांकि, ऐसे देश में जहां त्वचा का रंग काफ़ी मायने रखता है, विटिलिगो का प्रभाव केवल त्वचा के रंग तक सीमित न रहते हुए, उससे कहीं ज़्यादा प्रभावित करता है। विटिलिगो के विनाशकारी मनोवैज्ञानिक प्रभाव, हम जो अनुभव कर सकते हैं उससे कहीं अधिक हैं। इन मनोवैज्ञानिक ट्रिगर पर अक्सर किसी का ध्यान नहीं जाता लेकिन किसी भी व्यक्ति के जीवन की गुणवत्ता को यह काफी हद तक प्रभावित कर सकते हैं।

आपकी त्वचा कैसी है, इससे कई परेशानियां जुड़ी हैं; इतनी कि इससे मुकाबला करना लोगों के लिए एक मानसिक संघर्ष बन गया है। विटिलिगो वाले लोग आत्मविश्वास और आत्म-सम्मान से संबंधित मुद्दों से जूझते नजर आते हैं, खासकर अगर उनकी स्थिति ज्यादा नजर आने वाली हो। लोगों में सामान्य संवेदीकरण की कमी की वजह से विटिलिगो के रोगियों की यात्रा भावनात्मक रूप से व्याकुल होती है।

विटिलिगो या सफेद दाग क्या है (What is Vitiligo In Hindi) 

जिन्हें बिल्कुल भी जानकारी नहीं है, उनके लिए विटिलिगो एक त्वचा विकार है जहां पीले सफेद पैच त्वचा पर आना शुरू हो जाते हैं। मेलेनिन की कमी की वजह से डिपिग्मेंटेशन होता है। विटिलिगो त्वचा के किसी भी हिस्से में हो सकता है, लेकिन आम तौर पर यह चेहरे, गर्दन, हाथों और त्वचा की क्रीज जहां बनती हैं, वहां होने की संभावना ज्यादा होती है। प्रभावित क्षेत्र पर किसी भी रसायन, धूप या गैरजरूरी एक्सपोजर की वजह से स्थिति और खराब हो सकती है। 

विटिलिगो एक जानलेवा बीमारी नहीं है, लेकिन चरम स्थितियों में किसी व्यक्ति को सुनने की शक्ति में कमी होना, आखों में जलन और सनबर्न स्किन का अनुभव हो सकता है।

मनोवैज्ञानिक प्रभाव क्या है (What is the Psychological Impact) 

विटिलिगो से पीड़ित लोगों को अक्सर अपने दोस्तों, परिवार और साथियों से भेदभावपूर्ण व्यवहार का सामना करना पड़ता हैं। उनमें से कुछ को स्कूली शिक्षा के वर्षों से छेड़ा और तंग किया जाता है, जो उन्हें गहराई से मनोवैज्ञानिक स्तर पर प्रभावित करता है। विभिन्न नियंत्रण समूह समीक्षाओं ने विटिलिगो रोगियों में उच्च स्तर की भावनात्मक प्रतिक्रियाओं की सूचना दी है। इसमें सेल्फ-कॉन्शियसनेस में वृद्धि, इसे धब्बा मानकर चलना और विकलांगता का उच्च स्तर, आत्म-सम्मान में कमी, गुस्सा और सामान्य रूप से जीवन की खराब गुणवत्ता।

ब्रिटेन में किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार, अधिकांश रोगियों ने अपने रूप के प्रति शर्मिंदगी या परेशानी महसूस की। रोगियों में इन भावनात्मक प्रतिक्रियाओं में से ज्यादातर मुद्दे आत्मसम्मान से जुड़े विषयों को जन्म देते हैं, जो उन्हें अलगाव और अलग होने की भावना देते हैं। कुछ मरीज़ या तो आत्महत्या कर लेते हैं या अवसाद में आ जाते हैं।

इसे भी पढ़ें: आप भी एक्जिमा रोग से हैं परेशान? जानें इसके लक्षण और बचाव के तरीके

विटिलिगो मरीजों के लिए एक सेफ्टी नेट बनाना (Creating A Safety Net for Vitiligo Patients)

किसी भी अंतर्निहित मनोवैज्ञानिक स्थिति के लिए विटिलिगो वाले रोगियों का मूल्यांकन किया जाना चाहिए। अवसाद और चिंता के लक्षणों की नियमित जांच के साथ-साथ रोगी के जीवन की गुणवत्ता का आकलन सबसे महत्वपूर्ण है। मनोसामाजिक हास्यबोधों का उपचार भी महत्वपूर्ण है और मरीजों को त्वचा विशेषज्ञ और मनोवैज्ञानिक दोनों से मदद लेनी चाहिए।

चिकित्सा देखभाल के अलावा रोगियों के लिए सुरक्षित और सामाजिक रूप से स्वस्थ वातावरण सुनिश्चित करने के लिए विटिलिगो के लिए सार्वजनिक संवेदीकरण कार्यक्रम भी किए जाने चाहिए। जीवन की उन्नत गुणवत्ता केवल तभी संभव हो सकती है जब रोगी का इकोसिस्टम स्टिग्मा-प्रूफ हो।

जब एक अमेरिकी सुपरमॉडल विनी हार्लो ने इस परिस्थिति से जुड़े अपने संघर्षों को साझा करने के लिए आगे आईं तो उन्होंने सुर्खियां बटोरी और यह एक ग्लोबल स्टेटमेंट बना। कई अन्य लोगों ने भी इसी तरह की भावना को प्रतिध्वनित किया और अपनी-अपनी यात्रा की कहानियों को साझा किया। तब से सकारात्मक बातचीत की दिशा में बढ़ोतरी हुई है और विटिलिगो से पीड़ित लोगों को अंततः वांछित प्रतिनिधित्व मिलना शुरू हो गया है।

इसे भी पढ़ें: ऑटो इम्‍यून डिजीज है त्‍वचा पर होने वाले सफेद दाग, जानें क्‍या है इसके कारण और उपचार

बहुत हद तक वैश्विक परिदृश्य पहले ही विकसित होना शुरू हो गया है। लोगों में विटिलिगो के बारे में जागरूकता बढ़ रही है और लोगों के बीच बेहतर संवेदनशीलता बढ़ रही है। विटिलिगो से पीड़ित लोगों को अपना समर्थन देने के लिए विभिन्न फाउंडेशन और सपोर्ट ग्रुप आगे आ रहे हैं। हालाँकि, भारत में जागरूकता की स्थिति अभी भी बहुत अच्छी नहीं है। अधिक जागरूकता वाले अभियान और सार्वजनिक संवेदीकरण कार्यक्रम के साथ, हम अधिक समावेशी भविष्य की आशा कर सकते हैं।

नोट: यह लेख डॉकप्राइम.कॉम की  सीनियर कंसल्टेंट, डॉ. बिनिता प्रियंबदा से हुई बातचीत पर आधारित है।  

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer