World Food Day 2021: क्यों मनाया जाता है वर्ल्ड फूड डे? जानें इस दिन का महत्व

दुनियाभर में 16 अक्टूबर के दिन को विश्व खाद्य दिवस यानी वर्ल्ड फूड डे के रूप में मनाया जाता है, जानें इस दिन के महत्व और इस बार की थीम के बारे में।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Oct 12, 2021
World Food Day 2021: क्यों मनाया जाता है वर्ल्ड फूड डे? जानें इस दिन का महत्व

दुनियाभर में 16 अक्टूबर के दिन फूड और भूख को लेकर जागरूकता फैलाने और स्वस्थ भोजन के सेवन को लेकर लोगों को बताने के उद्देश्य से मनाया जाता है। वर्ल्ड फूड डे यानी विश्व खाद्य दिवस के मनाने का उद्देश्य भुखमरी और भूख से पीड़ित लोगों को जागरूक करने और हर किसी व्यक्ति को भुखमरी के खिलाफ कदम उठाने के लिए प्रेरित करना होता है। दुनियाभर के 150 से ज्यादा देशों में विश्व खाद्य दिवस यानी वर्ल्ड फूड डे (World Food Day) मनाया जाता है। दुनिया में रहने वाले हर व्यक्ति के लिए खाद्य सुरक्षा और पौष्टिक आहार की आवश्यकता को सुनिश्चित करने के लिए वर्ल्ड फूड डे का कैंपेन चलाया जाता है। भोजन को हर व्यक्ति का मौलिक और बुनियादी अधिकार मानते हुए हर व्यक्ति को भूख से बचाने के लिए यह दिन मनाया जाता है। आइये विस्तार से जानते हैं वर्ल्ड फूड डे की शुरुआत, इसके महत्व और इस बार की थीम के बारे में।

कब से मनाया जाता है वर्ल्ड फूड डे?

World-Food-Day-2021-Theme

(image source - freepik.com)

वर्ल्ड फूड डे 16 अक्टूबर को दुनिया के 150 से अधिक देशों में मनाया जाता है। यह दिन विश्व खाद्य दिवस या वर्ल्ड फूड डे के रूप में 1979 से मनाया जा रहा है। हंगरी के पूर्व कृषि और खाद्य मंत्री डॉ पाल रोमानी ने सबसे पहले इस दिन को मनाने का सुझाव दिया था जिसके बाद से इस सुझाव को मानते हुए वर्ल्ड फूड डे मनाया जा रहा है। इस दिन को मनाने की स्थापना नवंबर 1979 में की गयी थी। खाद्य और कृषि संगठन के सदस्य देशों के एक महासम्मेलन में इसकी स्थापना की गयी थी और उसके बाद से ही इसे हर साल आयोजित किया जाता है। खाद्य और कृषि संगठन के सदस्य देशों के 20वें महासम्मेलन में इस दिवस के बारे में प्रस्ताव रखा गया था और जिसे बाद से सन 1981 से इसे हर साल मनाया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें : Food Poisoning: यहां जानें फूड पॉइजनिंग के 15 लक्षण, कारण और उपचार

क्यों मनाया जाता है विश्व खाद्य दिवस 

वर्ल्ड फूड डे या विश्व खाद्य दिवस दुनियाभर के 150 देशों के द्वारा मिलकर मनाया जाता है। 1981 से यह दिन हर 16 अक्टूबर को मनाया जाता है। हर साल यह दिवस एक थीम के तहत मनाया जाता है। खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) की सस्थापना भी 16 अक्टूबर के दिन की गयी थी इसलिए भी इस दिन का महत्व बढ़ जाता है। दुनियाभर में भुखमरी के कारण तमाम तरह की बीमारियां और रोग लोगों को होते हैं। भुखमरी के कारण आज भी लाखों लोग हर साल अपनी जान गंवाते हैं। इन बातों को ध्यान में रखते हुए दुनियाभर में लोगों को भुखमरी के खिलाफ जागरूक करने के लिए और हर व्यक्ति के लिए खाद्य सुरक्षा और पौष्टिक आहार की सुनिश्चितता तय करने के लिए यह दिन मनाया जाता है।

वर्ल्ड फूड डे 2021 की थीम

हर साल दुनियाभर में अलग-अलग थीम के साथ वर्ल्ड फूड डे मनाया जाता है। इस बार वर्ल्ड फूड डे की थीम (World Food Day 2021 Theme) खाद्य और खाद्य पदार्थों के उत्पादन और बेहतर जीवन पर आधारित है। वर्ल्ड फूड डे 2021 की थीम कृषि और खाद्य संगठन के मुताबिक "हमारे कार्य हमारा भविष्य हैं- बेहतर उत्पादन, बेहतर पोषण, बेहतर वातावरण और बेहतर जीवन" (Our actions are our future- Better production, better nutrition, a better environment and a better life) थीम पर दुनियाभर में यह दिन मनाया जायेगा। हम जो भोजन चुनते हैं और जिस तरह से हम उसका सेवन करते हैं, उसका सीधा असर हमारे स्वास्थ्य पर पड़ता है और यह सीधे तौर पर इस धरती को भी प्रभावित करता है। इस बार खाद्य पदार्थों के सेवन और इसके उत्पादन को लेकर जागरूकता फैलाने और रणनीति बनाने के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा सितंबर में पहला खाद्य प्रणाली शिखर सम्मेलन भी आयोजित किया जाएगा। 

World-Food-Day-2021-Theme

(image source - shutterstock)

इसे भी पढ़ें : World Food Safety Day: खाने-पीने की गलतियों से होती हैं सैकड़ों बीमारियां, जानें WHO के 5 फूड सेफ्टी टिप्स

आपको बता दें कि दुनियाभर में आज के समय भी लगभग 821 मिलियन लोग लंबे समय से कुपोषित हैं, 2015 में 785 मिलियन से अधिक दर्ज किए गए थे। दुनियाभर के लगभग 99 प्रतिशत कुपोषित लोग विकासशील देशों में रहने वाले लोग हैं। दुनिया में कुपोषण या भुखमरी की शिकार कुल आबादी में 60 प्रतिशत महिलाएं हैं। और इसके अलावा हर साल लगभग 20 मिलियन नवजात शिशु कम वजन के साथ पैदा होते हैं और इसका सबसे प्रमुख कारण कुपोषण है। 5 साल से कम उम्र के बच्चों की होने वाली कुल मौत में लगभग 50 प्रतिशत लोगों की मौत कुपोषण के कारण होती है। इन आंकड़ों को देखते हुए यह लगता है कि लोगों को पोषण और भुखमरी के खिलाफ स्थानीय स्तर पर भी जागरूक होने की जरूरत है।

(main image source - fao.org)

 
Disclaimer