उम्र बढ़नें के साथ क्‍यों होता है बार-बार यूटीआई इंफेक्‍शन? जानें वजह और बचाव के तरीके

कुछ लोगों में बार-बार यूटीआई इंफेक्‍शन होता है, आइए जानते हैं कैसे उम्र बढ़ने के साथ यूटीआई इंफेक्‍शन का खतरा बढ़ता है और इससे बचाव के लिए क्‍या करें।

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Jan 07, 2020
उम्र बढ़नें के साथ क्‍यों होता है बार-बार यूटीआई इंफेक्‍शन? जानें वजह और बचाव के तरीके

बार-बार पेशाब आना और पेशाब करते जलन महसूस होना यूटीआई इंफेक्‍शन के लक्षण हो सकते हैं। कई बार बदबूदार पेशाब या वैजाइना से दुर्गंध आना भी यूटीआई इंफेक्‍शन में शामिल है। कुछ मामलों एंटीबायोटिक दवाओं से आप बेहतर महसूस करते हैं। लेकिन कुछ महीनों बाद, फिर से यह लक्षण वापस आ जाते हैं और आप यूटीआई इंफेक्‍शन का शिकार होते हैं। ऐसे में आप भी सोचते होंगे कि आखिर आपको बार-बार यूटीआई इंफेक्‍शन क्‍यों हो जाता है? आइए हम आपको बताते हैं। 

क्‍यों बार-बार होता है यूटीआई इंफेक्‍शन? 

अधिकतर मामलों में ई-कोलाई बैक्टीरिया या अन्य बैक्टीरिया यूटीआई इंफेक्‍शन का कारण बन सकते हैं। यह आपके गुर्दे, मूत्राशय, मूत्रवाहिनी या यूरीन ट्रैक में इंफेक्‍शन पैदा करता है। महिलाओं में मुख्य रूप से उनकी शारीरिक रचना के कारण उनमें यूटीआई इंफेक्‍शन की अधिक संभावना होती है। महिलाओं में यूरीन ट्रैक पुरुषों की तुलना में छोटा होता है और गुदा के करीब होता है। क्‍योंकि यूरीन ट्रैक यानि मूत्रमार्ग यौनि के करीब भी है, जो बैक्टीरिया को आसानी इकट्ठा कर सकता है। ऐसे में गुदा और योनि दोनों से बैक्टीरिया एक महिला के यूरीन ट्रैक में आसानी से  पहुंच सकते हैं।

UTI Infection

इसके अलावा, रजोनिवृत्ति के बाद की महिलाओं में यूटीआई इंफेक्‍शन का अधिक खतरा होता है, क्योंकि योनि में पीएच लेवल परिवर्तन से यह इंफेक्‍शन के लिए अधिक संवेदनशील होता है।

उम्र बढ़ने के साथ बढ़ता है यूटीआई इंफेक्‍शन का खतरा 

पुरुषों और महिलाओं दोनों में उम्र बढ़ने के साथ यूटीआई इंफेक्‍शन होने की संभावना अधिक होती है। क्‍योंकि महिलाओं में मूत्राशय आगे को बढ़ जाना और पुरुषों में बढ़े हुए प्रोस्टेट जैसे कुछ चिकित्सा स्थितियां, वृद्ध वयस्कों में अधूरा मूत्राशय को खाली करने के कारण होता है। मूत्र जो मूत्राशय में बहुत लंबे समय तक रहता है, वह बैक्टीरिया को बढ़ने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है।

इसके अलावा, डायबिटीज की दवाएं मूत्र में शुगर को बढ़ावा दे सकती हैं और यूटीआई के लिए आदर्श स्थिति पैदा कर सकती हैं। 

UTI Problrm

इसे भी पढें: कितनी सुरक्षित और फायदेमंद है वैजाइनल स्टीमिंग जानें फायदे और नुकसान

इलाज के बावजूद भी इंफेक्‍शन क्‍यो होता है?

  • लगभग आधा दर्जन मौखिक एंटीबायोटिक्स हैं, जो यूटीआई का इलाज करती हैं। कभी-कभी एक डॉक्टर एक दवा लिखता है, फिर इसके बाद दूसरी दवा पर स्विच करने से दवा को समायोजित होने में समय लग सकता है, और इस बीच में यूटीआई इंफेक्‍शन का खतरा हो सकता है।
  • कभी-कभी एक व्यक्ति, जो बेहतर महसूस करना शुरू कर देता है और एंटीबायोटिक को लेना बंद करता है, बिना किसी डॉकटर के सुझाव पर, तो यह भी जल्‍द दोबार संक्रमण की स्थिति पैदा कर सकता है। 
  • इसके अलावा, मेनोपॉज यानि रजोनिवृत्ति के बाद की महिलाओं के लिए, एक योनि एस्ट्रोजन क्रीम इंफेक्‍शन को कम करने में मदद कर सकती है। यदि इंफेक्‍शन बना रहता है, तो आप डॉक्टर से गुर्दे, मूत्राशय या अन्य भागों की स्‍वास्‍थ्‍य समस्याओं के लिए जांच कराएं। 

इसे भी पढें: सर्दियों के मौसम में महिलाओं में बढ़ जाता है यूटीआई का खतरा, बचाव के लिए जानें जरूरी टिप्स

Ways Of Prevention UTI Problem

यूटीआई इंफेक्‍शन को कैसे रोकें? 

  • यूटीआई इंफेक्‍शन को कम करने या रोकने के लिए सबसे जरूरी है कि आप अपनी वैजाइना की सफाई रखें। 
  • जब भी पेशाब करते हैं, उसके बाद गुदा और मूत्रमार्ग यानि यूरीन ट्रैक में ई-कोलाई बैक्टीरिया स्थानांतरित होने की संभावना को कम करने के लिए वैजाइना या मूत्रमार्ग को आगे से पीछे तक पानी से साफ करें। 
  • संबध बनाने से पहले और बाद में तुरंत पेशाब करें और जननांगों को साफ करें। 
  • अपने जननांगों पर स्त्रैण दुर्गन्ध का उपयोग न करें या न करें।
  • इसके अलावा, सूती अंडरवियर पहनें, जिससे कि आपके जननांगों में हवा पास हो सके और नमी न बने।

Read More Article On Other Diseases In Hindi

Disclaimer