Crohn’s Disease: पेट सी जुड़ी इस बीमारी का आंखों पर भी होता है असर, जानें इसके लक्षण और बचने के उपाय

पेट से जुड़ूी बीमारियां आपकी आंखों को भी प्रभावित कर सकती हैं, इसलिए जरूरी है कि आप इनके बारे में जानें और इससे बचने की कोशिश करें।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Jan 08, 2020Updated at: Jan 08, 2020
Crohn’s Disease: पेट सी जुड़ी इस बीमारी का आंखों पर भी होता है असर, जानें इसके लक्षण और बचने के उपाय

क्रोहन रोग (Crohn's disease)पाचन तंत्र से जुड़ी बीमारी है, जो आंत में सूजन, पेट में ममोड़ और मल में खून आने का कारण बनता है। ये बीमारी पाचन तंत्र को पूरी तरह से प्रभावित करती है, लेकिन, ज्यादातर यह छोटी आंत या बड़ी आंत को प्रभावित करती है। क्रोहन की बीमारी सूजन आंत्र रोग (Inflammatory Bowel Disease)के दो प्रमुख प्रकारों में से एक है। अन्य कारणों में अल्सरेटिव कोलाइटिस (Ulcerative colitis)है। आईबीडी विकारों के लिए एक विस्तृत शब्द है, जो पाचन तंत्र की पुरानी सूजन से उपजी है। हालांकि, क्रोहन की बीमारी पाचन तंत्र के बाहर लक्षण भी पैदा कर सकती है। इनमें त्वचा संबंधी जटिलताएं, जोड़ों में समस्या और आंखों की बीमारियां शामिल हैं। क्रोहन रोग वाले लगभग 10% लोगों में आंखों से जुड़ी परेशानियां होती हैं। आंखों के टिशूज की संवेदनशीलता के कारण, शरीर के इस हिस्से पर इस बीमारी का ज्यादा असर हो सकता है। इसलिए आइए जानते हैं क्रोहन रोग का आंखों पर क्या असर होता है।

Inside_Crohnstreatment

क्रोहन रोग का आंखों पर असर

एपिस्क्लेरिटिस (Episcleritis)

क्रॉनिक की बीमारी वाले लोगों में एपिस्क्लेरिटिस नाम की आंख से संबंधित विकार हो सकते हैं। एपिस्क्लेरिटिस एपिस्क्लेरा की सूजन है, जो आंख की सबसे बाहरी परत और सफेद भाग के नीचे के टीशूज में होता है।एपिस्क्लेरिटिस प्रकाश या धुंधली दृष्टि के प्रति संवेदनशीलता का कारण नहीं बनता है। यह आंख से संबंधित अन्य स्थितियों की तुलना में कम दर्दनाक भी है। इसके लक्षणों की बात करें, तो

  • गीली आखें
  • आंखों में रेडनेस
  • आंख के सफेद भाग पर चमकदार लाल धब्बे
  • हल्का दर्द

इसे भी पढ़ें : आंतों की बीमारी होने पर कभी न करें ये 5 गलतियां, हो सकते हैं गंभीर परिणाम

स्केलेराइटिस (Scleritis)

स्केलेराइटिस आंखों के सफेद भाग की सूजन है। सूजन स्केलेराइटिस के पतले होने का कारण बन सकती है, जो आंख को अपना आकार भी देती है। वहीं इसके लक्षणों की बात करें, तो

  • आंख की लाली
  • गीली आखें
  • आंख में या आसपास दर्द
  • आंख में जलन
  • धुंधली दृष्टि
  • सिर दर्द
  • सोने में कठिनाई
  • प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता
Inside_crohnsdiseases

यूवाइटिस

यूवाइटिस (Uvea)यूवा की सूजन है, जो टिशूज की एक परत जिसमें आईरिस शामिल है। ये आंख के सफेद भाग के ठीक नीचे होता है। यूवाइटिस क्रोहन रोग वाले लोगों को स्केलेराइटिस से कम बार प्रभावित करता है। ये स्थिति एपिस्क्लेरिटाइटिस की तुलना में अधिक गंभीर है क्योंकि यह ग्लूकोमा या यहां तक कि दृष्टि हानि का कारण बन सकता है। वहीं इनके लक्षणों की बात करें, तो

  • प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता
  • धुंधली दृष्टि
  • दर्द
  • आंखों में लाली

क्यों होता है आंखों पर इस बीमारी का असर

वैज्ञानिकों को अभी तक क्रोहन में आंखों से संबंधित लक्षणों के सटीक कारणों का पता नहीं है। हालांकि, क्रोहन एक खतरनाक बीमारी है, और आमतौर पर पाचन तंत्र को प्रभावित करने वाली सूजन शरीर के अन्य क्षेत्रों में हो सकती है। उपरोक्त आंखों की समस्याओं के अलावा, क्रोहन के साथ कुछ लोग दवा के कारण आंखों के विकारों का अनुभव कर सकते हैं, जो वे बीमारी के लिए लेते हैं। उदाहरण के लिए, लंबी अवधि में कॉर्टिकोस्टेरॉइड के उपयोग से ग्लूकोमा या मोतियाबिंद हो सकता है।

इसे भी पढ़ें :  आयुर्वेद से ऐसे करें पेट दर्द का उपचार

बचाव के उपाय

क्रोहन रोग के आंखों से संबंधित लक्षण अक्सर आंत्र लक्षण भड़कना के साथ मेल खाते हैं। नतीजतन, अन्य क्रोहन संबंधी समस्याओं को कम करने की युक्तियां भी आंखों पर लागू होती हैं। जैसे-

  • तंबाकू और कैफीन से परहेज करें
  • उच्च फाइबर खाद्य पदार्थों से परहेज
  • संतुलित भोजन खाने करें
  • डेयरी उत्पादों को सीमित करें
  • खूब पानी पीना
  • तनाव को सीमित करने के लिए तनाव प्रबंधन तकनीकों का उपयोग करना

नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स, जैसे इबुप्रोफेन, भी भड़क सकती हैं या क्रोहन रोग के लक्षणों को खराब कर सकती हैं। इन दवाओं से परहेज कर सकते हैं। अगर क्रोहन रोग वाले व्यक्ति को हल्के दर्द या बुखार का अनुभव होता है, तो उन्हें अपने डॉक्टर के पास चले जाना चाहिए, नहीं तो ये और गंभीर समस्या बन सकती है।

Read more articles on Other-Diseases in Hindi

Disclaimer